Monday, July 1, 2019

हड़प्पा संस्कृति के पूर्वजों को भी जल्द से जल्द संस्कृतियों के समग्र विकास के संदर्भ में समझना महत्वपूर्ण

हड़प्पा संस्कृति के पूर्वजों को भी जल्द से जल्द संस्कृतियों के समग्र विकास के संदर्भ में समझना महत्वपूर्ण

केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रहलाद पटेल ने वरिष्ठ पुरातत्वविदों का घर जाकर किया सम्मानित

केन्द्रीय संस्कृति मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने देश के वरिष्ठ पुरातत्वविदों प्रो. बी .बी. लाल एवं डॉ. आर.एस. बिष्ट के साथ उनके घर जाकर भेंट किया । केन्द्रीय मंत्री ने पुरातत्व के क्षेत्र में दोनों वरिष्ठ पुरात
त्वविदों के दिए गए योगदान को सराहा एवं उनके प्रति सम्मान प्रदर्शित किया । इस दौरान उन्होंने सम्मान प्रदर्शित करने के बाद यह कहा कि मैने नदियों के उद्गम देखें हैं लेकिन ज्ञान और ऊर्जा के उद्गम को देखा और ज्ञान का आचमन किया। दो ऐसे पुरातत्ववेत्ताओं से भेंट किया, जिन्हें युग-पुरुष कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी। डॉ ब्रजवासी लाल ने कालीबंगन और डॉ आर.एस. बिष्ट ने धौलावीरा को देश और दुनिया के सामने रखा। 

नई दिल्ली। गोंडवाना समय। 
केन्द्रीय संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने बीते दिनों देश के दो वरिष्ठ पुरातत्वविदों प्रो. बी .बी.लाल एवं डॉ. आर.एस. बिष्ट के साथ उनके घर जाकर भेंट की और दोनों वरिष्ठ पुरातत्वविदों को पुरातत्व के क्षेत्र में दिए गए उनके योगदान के लिए सराहा । यह किसी केन्द्रीय संस्कृति मंत्री द्वारा स्वयं दोनों वरिष्ठ पुरातत्वविदों के घर जाकर उनके प्रति सम्मान प्रदर्शित प्रदान करने का पहला अवसर था । प्रो. बी बी लाल, पूर्व महानिदेशक (1968-1972) भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और पद्म भूषण अवार्ड से सम्मानित (2000) हैं और डॉ. आर.एस. बिष्ट, पूर्व संयुक्त महानिदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और पद्म श्री अवार्डी (2013) हैं । प्रो. लाल वर्तमान में 99 वर्ष के हैं और एएसआई केसबसे वरिष्ठ पुरातत्वविद् हैं, उन्होंने भारत सरकार, भारतीय उन्नत अध्ययन संस्थान, शिमला में विभिन्न वरिष्ठ क्षमताओं में सेवा की है । इसके साथ ही ग्वालियर विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के सदस्य भी रहे हैं।

एक व्यापक संस्कृति नीति विकसित करने की आवश्यकता पर भी बल दिया 

केन्द्रीय संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने प्रो. बी बी लाल के साथ कालीबंगन में उनके ऊपर उपयुक्त रूप से डिजाइन किए गए कैनोपी के रूप में खुदाई किए गए अवशेषों के संरक्षण के तंत्र पर चर्चा किया।  केंद्रीय संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि कैनोपीज प्रदान करने का यह प्रकार सभी खुदाई स्थलों को संरक्षित करेगा।  केंद्रीय संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कालीबंगन की साइट पर संरक्षण के उपाय उपलब्ध कराने के लिए एक उपयुक्त नेतृत्व में टास्क फोर्स के गठन की आवश्यकता पर बल दिया, ताकि वांछित परिणाम समयबद्ध तरीके से प्राप्त हो सकें। समग्र विकास और संस्कृति, पुरातत्व और उनके विभिन्न संबद्ध विषयों से संबंधित मामलों के कार्यान्वयन के लिए एक व्यापक संस्कृति नीति विकसित करने की आवश्यकता पर भी बल दिया गया। हमारे गौरवशाली अतीत को प्रकट करने के लिए देश भर में फैली सांस्कृतिक झांकियों को भी प्रस्तावक अध्ययन, शोध और प्रदर्शन की आवश्यकता है। इस संबंध में, शिलालेखों का अध्ययन, उनकी व्याख्या और व्याख्या भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

कालीबंगन और पुराण किला, जनता को दिखाने के मुद्दों पर हुई चर्चा 

प्रो. लाल ने जोर देकर कहा कि हरियाणा और पंजाब क्षेत्र में हड़प्पा संस्कृति के पूर्वजों को भी जल्द से जल्द संस्कृतियों के समग्र विकास के संदर्भ में समझना महत्वपूर्ण है। इस संदर्भ में, मेसोलेथिक और माइक्रोलिथिक संस्कृितयों की जांच से गतिहीन कृषि-देहाती समुदायों के उद्भव को समझने के लिए विशेष महत्व प्राप्त होता है जो अंतत: हड़प्पा संस्कृति के लिए योगदान दे सकते थे। प्रो. लाल ने कृषि क्षेत्र के कुछ शुरूआती साक्ष्यों पर प्रकाश डाला जिसमें कालीबंगन से बहु-फसल पैटर्न और भूकंप की उपस्थिति का संकेत दिया गया था। केन्द्रीय संस्कृति मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कालीबंगन और पुराण किला के पुरातात्विक स्थलों, उनके संरक्षण और उन्हें जनता को दिखाने के मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने कालीबंगन उत्खनन के योगदान और जनता के बड़े लाभ के लिए साइट को संरक्षित करने और उन्हें जागरूकता पैदा करने के लिए शिक्षित करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

पं दीनदयाल उपाध्याय संस्थान पर भी हुई चर्चा

डॉ. बिष्ट के साथ विचार-विमर्श मुख्य रूप से पं. दीन दयाल उपाध्याय पुरातत्व संस्थान के बारे में चर्चा हुई जो अब ग्रेटर नोएडा में एक नए परिसर में स्थित है, अरक  ने हाल ही में पुरातत्व विभाग को पुरातत्व की विभिन्न
विधाओं जैसे पुरातत्वविदों (पुष्प अवशेषों के अध्ययन के लिए), पुरातत्वविदों (पुरातन अवशेषों के अध्ययन के लिए) में कला प्रयोगशाला सुविधाओं की स्थिति बनाने के लिए लाल किले के वर्तमान परिसर से ग्रेटर नोएडा में
स्थानांतरित कर दिया है।

कालीबंगन सहित महत्वपूर्ण स्थलों की खुदाई से जुड़ा है प्रो. बी.बी. लाल का इतिहास

वरिष्ठ पुरातत्वविद प्रो. बी .बी. लाल को 1944 में सर मोर्टिमर व्हीलर द्वारा तक्षशिला में प्रशिक्षित किया गया था और बाद में वे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण में शामिल हो गए। प्रो. लाल ने हस्तिनापुर (यू.पी.), शिशुपालगढ़
(उड़ीसा), पुराण किला (दिल्ली), कालीबंगन (राजस्थान) सहित कई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थलों की खुदाई की। वर्ष 1975-76 के बाद से, प्रो. लाल ने रामायण स्थलों के पुरातत्व के तहत अयोध्या, भारद्वाज आश्रम, श्रृंगवेरपुरा, नंदीग्राम और चित्रकूट जैसे स्थलों की जाँच की। प्रो. लाल ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं पर 20 पुस्तकों और 150 से अधिक शोध लेखों को लिखा है।

हड़प्पा जैसे स्थलों की खुदाई में डॉ आर. एस. विष्ट ने निभाया भूमिका

वरिष्ठ पुरातत्वविद डॉ. आर.एस. बिष्ट  ने अपनी बुनियादी शिक्षा संस्कृत में प्राप्त की और विशारद (1958) और साहित्यरत्न (1960) की उपाधि प्राप्त की और बाद में प्राचीन भारतीय इतिहास और पुरातत्व में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। डॉ. बिष्ट भारतीय उप-महाद्वीप के पांच सबसे बड़े हड़प्पा स्थलों में से एक, धोलावीरा के हड़प्पा स्थल पर खुदाई के लिए प्रसिद्ध हैं। डॉ. बिष्ट ने संघोल (पंजाब), बनवाली (हरियाणा) जैसे अन्य स्थलों औरसेमथान ((J & K), चेचर और नालंदा (बिहार) जैसे हड़प्पा स्थलों की भी खुदाई की।

No comments:

Post a Comment

Translate