Friday, August 2, 2019

विशेष पिछड़ी जनजाति के सदस्य पहली बार पहुंचे राजभवन

विशेष पिछड़ी जनजाति के सदस्य पहली बार पहुंचे राजभवन 

राज्यपाल से भेंट कर अपनी समस्याओं से कराया अवगत 

स्वयं आगे आकर शासन की योजनाओं का लाभ उठाएं

रायपुर। गोंडवाना समय।
राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से राजभवन में सर्व विशेष पिछड़ी जनजाति समाज कल्याण समिति छत्तीसगढ़ के सदस्यों ने भेंट कर अपनी समस्याओं से उन्हें अवगत कराया। छत्तीसगढ़ के विशेष पिछड़ी जनजाति पण्डो, कोरवा, अबूझमाड़िया, बैगा, भुंजिया, कमार और बिरहोर विशेष पिछड़ी जनजाति समाज के प्रतिनिधि पहली बार राजभवन पहुंचे।
राज्यपाल सुश्री उइके ने विशेष पिछड़ी जनजाति के लोगों की समस्याओं को गंभीरता से सुनीं और उनके निराकरण के लिए आवश्यक प्रयास करने की बात कही। उन्होंने कहा कि यदि उनकी समस्याओं का निदान नहीं होता है, तो वे राजभवन आने के एक दिन पहले सूचना देवें और किस संबंध में मिलना है उसे भी बताएं,
ताकि संबंधित अधिकारियों को भी बुलाया जा सके, जिससे उनकी समस्याओं का यथासंभव निराकरण हो सके।
राज्यपाल ने विशेष पिछड़ी जनजाति के लोगों से उनके क्षेत्र में संचालित हो रहे स्कूल, छात्रावास, आंगनबाड़ी केन्द्र आदि के बारे में पूछताछ की। उन्होेंने प्रतनिधिमण्डल के सदस्यों से कहा कि वे शासन द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने के लिए आगे आएं। राज्यपाल ने प्रतिनिधिमण्डल की मांग के संबंध में कहा कि वे विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए आरक्षित रिक्त पदों की जानकारी मंगाकर उन्हें शीघ्र भरने के निर्देश दिए जाएंगे।
राज्यपाल ने अंबिकापुर में पदस्थ डॉ. विजय श्रीवास्तव द्वारा विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा के लोगों के ईलाज में लापरवाही बरतने और उनके द्वारा लिखी गई पर्ची के आधार पर दवाईयां खरीदने पर दुकानदार द्वारा बिल नहीं देने की शिकायत को जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को भेजने के निर्देश दिए।
विशेष पिछड़ी जनजाति के प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने राज्यपाल को बताया कि विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए वर्ष 2013 से विशेष भर्ती अभियान बंद है। उन्होंने विशेष भर्ती अभियान के तहत आदिम जाति और शिक्षा विभाग की तरह अन्य विभागों में भी विशेष पिछड़ी जनजाति के लोगों की सीधी भर्ती करने की मांग की।
इस अवसर पर सर्व विशेष पिछड़ी जनजाति समाज कल्याण समिति के प्रांतीय अध्यक्ष श्री उदय कुमार पण्डो, संरक्षक डॉ. सुखराम दोरपा, प्रांतीय सचिव श्री धनीराम कमाड़िया बैगा, कमार जनजाति के उप संरक्षक श्री गांड़ाराय सोरी सहित बलरामपुर, सूरजपुर जिले के पण्डो, नारायणपुर जिले के अबूझमाड़ के अबूझमाड़िया,
कबीरधाम जिले के बैगा, गरियाबंद जिले से कमार, भुंजिया और बिरहोर जनजाति के सदस्य उपस्थित थे। 

No comments:

Post a Comment

Translate