Saturday, August 31, 2019

प्रतिबंधित गैर-बैंकिंग संस्थाओं में धन जमा न करें

प्रतिबंधित गैर-बैंकिंग संस्थाओं में धन जमा न करें

आर.बी.आई. द्वारा संस्थाओं की सूची जारी

भोपाल। गोंडवाना समय।
रिजर्व बैंक आँफ इंडिया की वेबसाइट पर ऐसी गैर बैंकिंग संस्थाओं की सूची उपलब्ध है, जिन्हें उसने वित्तीय व्यापार करने से प्रतिबंधित किया है। रिजर्व बैंक द्वारा इस संबंध में आमजन को जानकारी दी गई है कि वे इनमें अपना धन जमा न करें। आर.बी.आई. द्वारा जारी सूची में इस प्रकार की 23 प्रतिबंधित गैर बैंकिंग संस्थाओं के नाम हैं।

इन संस्थाआें को किया प्रतिबंधित 

आर.बी.आई. द्वारा जिन संस्थाओं को वित्तीय व्यापार करने से प्रतिबंधित किया गया है वे हैं अंशुन इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड नई दिल्ली, इंटीमेट फाइनेंस एंड इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली, डीलक्स व्यापार प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता, अमास प्रॉक्टर फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लिमिटेड चैन्नई, शाकुंतलम इन्वेस्टमेंट एंड लीजिंग लिमिटेड न्यू दिल्ली, क्यून कंसल्टेंसी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड न्यू दिल्ली, सूरज इंपैक्स प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली, सुप्रनीत फाइनेंस एंड कंसल्टेंट्स लिमिटेड न्यू दिल्ली, स्टर्लिंग फिनलीज लिमिटेड न्यू दिल्ली, सहायता फाइनेंस एंड लीजिंग प्राइवेट लिमिटेड फरीदाबाद, एस ए आर लीजिंग प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली, एस ए ग्रोथ फंड प्राइवेट लिमिटेड दिल्ली, लबोनी विनिमय प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता, सिब्रान लीजिंग एंड फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड न्यू दिल्ली, एसएसबी स्टॉक एंड शेयर प्राइवेट लिमिटेड न्यू दिल्ली, कुशल फिनवेस्ट प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता, वात्सल्य होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली, गैप ट्रेडिंग एंड इन्वेस्टमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड दिल्ली, गुरु अमरदास हायर परचेज प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता, फ्यूचर विजन सिक्योरिटीज लिमिटेड दिल्ली, डॉक्टर मोहिंदर नाथ होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली, गुजरात लीजिंग एंड फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड नई दिल्ली तथा प्रूडेंट फिन ट्रेड प्राइवेट लिमिटेड अहमदाबाद। उल्लेखनीय है कि, समय-समय पर रिजर्व बैंक आॅफ इण्डिया द्वारा ऐसी संस्थाओं के लायसेंस निरस्त किये जाते हैं, जो रिजर्व बैंक के मानक स्तर पर खरी नहीं उतरती हैं। अत: अपने हितों की सुरक्षा को देखते हुए रिजर्व बैंक की वेबसाइट पर यह देखा जा सकता है, कि कोई संस्था निवेश या वित्तीय व्यापार के लिए उपयुक्त है या नहीं।

1 comment:

  1. बहुत शानदार संकलन सम्पादक महोदय जी, आशा है निरंतर मूलनिवासी समाज की आवाज बुलंद करते रहेंगे।।

    ReplyDelete

Translate