Saturday, October 5, 2019

2020 के लिए देश भर के 22 स्थानों से भारतीय मुसलमान हज यात्रा पर जायेंगे

2020 के लिए देश भर के 22 स्थानों से भारतीय मुसलमान हज यात्रा पर जायेंगे

हज 2019 की समीक्षा और हज 2020 की तैयारी की हुई बैठक 
हज 2020 के लिए एक नया स्थान-विजयवाड़ा (आंध्रप्रदेश) होगा

नई दिल्ली। गोंडवाना समय। 
केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने हज 2020 की घोषणा करते हुए कहा कि 10 अक्टूबर से हज के लिए आॅनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी जो 10 नवम्बर,  2019 तक चलेगी। केंद्रीय मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने नई दिल्ली में हज 2019 के पूरा होने एवं अगले हज की तैयारियों के लिए समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुये कहा कि इस बार हज प्रक्रिया शत प्रतिशत आॅनलाइन/डिजिटल होगी। सभी हज यात्रियों को ई-वीजा की सुविधा दी गयी है। मोबाइल ऐप के जरिये भी हज के लिए आवेदन किया जा सकता है। समीक्षा बैठक में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के सचिव श्री शैलेश, अतिरिक्त सचिव श्री एस.के. देव बर्मन, संयुक्त सचिव-हज श्री जान-ए-आलम, सऊदी अरब में भारत के राजदूत श्री औसफ सईद, हज कमिटी आॅफ इंडिया के अध्यक्ष श्री शेख जिन्ना नबी, हज कमिटी के सीईओ श्री एम.ए. खान, जेद्दाह में भारत के कौंसल जनरल मोहम्मद नूर रहमान शेख के अलावा अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंत्रालय तथा स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

आवेदन की प्रक्रिया 1 नवम्बर से शुरू होगी जो 1 दिसंबर तक चलेगी

केंद्रीय मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हज प्रक्रिया जल्द शुरू करने से भारत एवं सऊदी अरब में हज के इंतजाम बेहतर तरह से हो सकेंगे। आगे उन्होंने कहा कि हज ग्रुप आॅर्गनाइजर (एचजीओ) के लिए पोर्टल पर आवेदन की प्रक्रिया 1 नवम्बर से शुरू होगी जो 1 दिसंबर तक चलेगी। आगे उन्होंने बताया कि कहा कि जहाँ िपछले वर्ष देश भर में 21 स्थानों से रवाना हुए थे, वहीं हज 2020 के लिए एक नया स्थान-विजयवाड़ा (आंध्रप्रदेश) होगा। इस प्रकार हज 2020 के लिए देश भर के 22 स्थानों से भारतीय मुसलमान हज यात्रा पर जायेंगे।

2019 का हज रहा ऐतिहासिक 

केंद्रीय मंत्री श्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हज 2019 ऐतिहासिक रहा और पिछले कई वर्षों में अब तक का सबसे सफल हज रहा। देश के इतिहास में पहली बार रिकॉर्ड 2  लाख भारतीय मुसलमानों ने 2019 में बिना किसी सब्सिडी के हज यात्रा की। श्री नकवी ने कहा कि अधिकांश स्थानों से हज यात्रा के लिए हवाई किराये
में कमीं आयी। इसके अलावा हज यात्रा पर लगने वाले 18 प्रतिशत जीएसटी को  5 प्रतिशत कर दिया गया जिससे  2019 में हज यात्रियों को 113 करोड़ रूपए से ज्यादा की बचत हुई। मदीने में यात्रियों के लिए आवास पिछले साल के मुकाबले लगभग  100 रियाल कम पर लिए गये थे जिससे भारत के प्रत्येक हज यात्री को लगभग  3000 रूपए की बचत हुई।

बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के  2340 मुस्लिम महिलाएं भी हज पर गईं

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हज 2019 में देश भर के  21 हवाई अड्डों से 500 से ज्यादा फ्लाइटों के जरिये 2 लाख भारतीय मुसलमान हज यात्रा पर गए। जिनमें लगभग 48 प्रतिशत महिलाएं शामिल थी। बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के  2340 मुस्लिम महिलाएं भी हज पर गईं। 2019 में महिलाओं में पंजाब की 100 वर्ष की आयु की श्रीमती अत्तार बीबी सबसे उम्रदराज हज यात्री रहीं। वहीँ,  बिहार के श्री सदरेआलम (उम्र 98 वर्ष) सबसे बुजुर्ग पुरुष हाजी रहे। हज 2020 के लिए भी बिना मेहरम हज यात्रा पर जाने वाली महिलाओं को लॉटरी प्रणाली से छूट दी जाएगी। वहीं 1 लाख 40 हजार हज यात्री हज कमिटी आॅफ इंडिया और 60 हजार हज
यात्री हज ग्रुप आॅर्गनाइजर (एचजीओ) के जरिये हज 2019 पर गए। हज समूह आयोजक भी पहली बार 10 हजार हज यात्रियों को हज कमिटी आॅफ इंडिया निर्धारित दरों पर ले गए। श्री नकवी ने बताया कि हज 2019  के लिए  2 लाख  67  हजार से ज्यादा आवेदन प्राप्त हुए थे जिनमे लगभग  1 लाख  65  हजार आवेदन आॅनलाइन प्राप्त हुए थे। उन्होंने कहा कि हज 2020 के लिए आॅनलाइन आवेदक को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस संबंध में हज समिति जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करेगी।

सऊदी अरब द्वारा भारत का हज कोटा 2 लाख किये जाने से मिला मौका 

श्री नकवी ने कहा कि सऊदी अरब द्वारा भारत का हज कोटा 2 लाख किये जाने से आजादी के बाद पहली बार 2019 में उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, बिहार जैसे बड़े राज्यों से सभी हज आवेदक हज यात्रा पर गए। सऊदी अरब द्वारा भारत का कोटा बढ़ाये जाने से उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, पंजाब, गोवा, मणिपुर, ओडिशा, पुडुचेर्री, दादर एवं नागर हवेली, लक्षद्वीप, चंडीगढ़, दमन एवं दीव, हिमाचल प्रदेश, झारखण्ड, त्रिपुरा के सभी आवेदकों को हज पर जाने का मौका मिला। श्री नकवी ने कहा कि पहली बार पारदर्शिता और हज यात्रियों की सहूलियत के लिए हज समूह आयोजकों का भी पोर्टल ँhttp://haj.nic.in/pto/ (Portal For Haj Group Organisers)बनाया गया जिसमें सभी अधिकृत एचजीओ के पैकेज आदि सभी जानकारी दी गई हैं।

हज हेतु प्रदेशों से जाने वालों की ये है संख्या  

श्री नकवी ने कहा कि हज 2019 में कुल 13,750 अहमदाबाद से (हज कमेटी आॅफ इंडिया 8104 + 5646 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर) हज यात्री गए। औरंगाबाद से 1120 (हज कमेटी आॅफ इंडिया), बेंगलुरु से 9035 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 6147 + 2888 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), भोपाल से 296 (हज कमेटी आॅफ इंडिया) ,
कालीकट से 19,151 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 11059 + 8092 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), चेन्नई से 8611 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 4626 + 3985 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), कोचीन से 9510 (हज कमेटी आॅफइंडिया 2750 + 6760 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), दिल्ली से 28,021 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 22,552 + 5469 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), गया से 3289 (हज कमेटी आॅफ इंडिया), गोवा से 260 (हज कमेटी आॅफ इंडिया), गुवाहाटी से 2773 (हज कमेटी आॅफ इंडिया), हैदराबाद से 12,288 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 8177 + 4111 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), जयपुर से 6779 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 6752 + 27 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), कोलकाता
से 12,254 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 11, 590 + 664 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), लखनऊ से 14,812 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 13,935 + 877 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), मंगलोर से 981 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 757 + 224 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), मुंबई से 37,352 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 17, 482 + 19,870 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), नागपुर से 3679 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 3278 + 401 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), रांची से 1458 (1422 हज कमेटी आॅफ इंडिया + 36 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), श्रीनगर से 11,612 (हज कमेटी आॅफ इंडिया 10,889 + 723 हज ग्रुप आॅगेर्नाइजर), वाराणसी से 2603 (हज कमेटी आॅफ इंडिया) के माध्यम से हज
2019 के लिए गए। श्री नकवी ने कहा कि इस वर्ष हज यात्रियों को सभी प्रकार की जानकारी मुहैया कराने एवं पूरी हज प्रक्रिया में मदद करने के लिए 100 लाइन का सूचना केंद्र हज हाउस, मुंबई में स्थापित किया जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Translate