Sunday, October 13, 2019

किक्रेट के मैदान में प्रगति के पथ पर बढ़Þ रही सिमरन परतेकि

किक्रेट के मैदान में प्रगति के पथ पर बढ़ रही सिमरन परतेकि

जबलपुर। गोंडवाना समय। 
योग्यता किसी अवसर का इंतजार नही करती, कड़ी मेहनत व सच्ची लगन का भाव आत्मा व मन में हो तो वह खुद ही अवसर बनाती है। हम आपको बता रहे है जबलपुर की रहने वाली सिमरन सिंह परतेकि के मेहतन, लगन, संघर्ष की वास्तविकता और आज वह निरंतर प्रसिद्धि हांसिल करते जा रही है, 17 वर्षीय सिमरन सिंह परतेकि  जबलपुर के शा. वि ब्यौहारबाग में कक्षा 12 की होनहार छात्रा है और जबलपुर संभाग से अंडर 19 महिला क्रिकेट टीम की उपकप्तान है। अभी बीते दिनों ही बालाघाट जिले के किरनापुर में आयोजित अंतर जिला क्रिकेट प्रतिस्पर्धा में बॉलर आॅफ दा सीरीज से सम्मानित भी हुई और जबलपुर क्रिकेट टीम को स्वर्ण पदक दिलाने में अहम योगदान दिया है। जिसके चलते उनका चयन प्रदेश स्तरीय टीम के चयन प्रक्रिया हेतु हुआ है। यह सफलता जबलपुर संभाग एवं आदिवासी समाज के लिये अत्यंत हर्ष व गर्व की बात है।

बचपन में ही माता-पिता ने छोड़ा साथ, नानी कर रही पालन पोषण

हम आपको यहां यह भी बताना चाहेंगे कि सिमरन के माता पिता नही है वो बचपन मे ही इस दुनिया को छोड़कर जा चुके है। सिमरन का पालन पोषण उनकी नानी माँ ने किया है जो कि घर-घर जाकर बर्तन साफ करने का कार्य करती है। सिमरन के पास खुद के रहने का स्थान भी नही है परंतु हौसलों की उड़ान से लड़ते लड़ते वह मेहनत संघर्ष निरंतर कर रही है। सिमरन सिंह परतेकि का गढ़ी बालाघाट में आयोजित रावेन गोंगो में आदिवासी विकास परिषद ने सम्मान किया एवं गोण्डवाना स्टूडेंट्स यूनियन के जाबांज सिपाहियों ने मंडला नगर आगमन पर उनका स्वागत व पुष्पगुच्छ देकर सम्मान किया। उपरांत निवास ब्लॉक में जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस) के मंडला जिला अध्यक्ष  गोपाल सिंह उवेर्ती के द्वारा जयस टी शर्ट भेंट कर सम्मान किया गया और गोण्डवाना युवा छात्र संघ व जय आदिवासी युवा शक्ति सम्पूर्ण रूप से सिमरन के आगे की पढ़ाई व खेल के प्रोत्साहन हेतु तन-मन-धन से समर्पित होकर होनहार आदिवासियों के हित में कार्य करेगी।

No comments:

Post a Comment

Translate