Thursday, February 20, 2020

आदिवासी जनपद अध्यक्ष को दरकिनार कर सीईओ और उपाध्यक्ष मिलकर काम्पलेक्स की लगवा रहे थे बोली

आदिवासी जनपद अध्यक्ष को दरकिनार कर सीईओ और उपाध्यक्ष मिलकर काम्पलेक्स की लगवा रहे थे बोली

जनपद अध्यक्ष के आपत्ति दर्ज कराए जाने के बाद भी करवाई गई दुकानों की बोली पर गर्माया मामला 

सिवनी। गोंडवाना समय। 
जनपद पंचायत लखनादौन के अंतर्गत  शॉपिंग काम्पलेक्स की नीलामी जनपद पंचायत की आदिवासी महिला अध्यक्ष की गैरमौजदूगी में सीईओ और उपाध्यक्ष द्वारा बोली कराए जाने का मामला सामने आया है। बोली के दौरान जनपद सीईओ द्वारा जनपद उपाध्यक्ष अनिल गोल्हानी को तो बुलाया गया लेकिन आदिवासी महिला जनपद अध्यक्ष श्रीमति जलसो बाई उइके को न तो सूचना दी गई और न पत्र लिखकर आमंत्रित किया गया।
जब आदिवासी महिला जनपद अध्यक्ष को इस बात की भनक लगी थी तो उन्होंने 19 फरवरी को ही बोली न किये जाने एवं अन्य बातों को लेकर आपत्ति वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र के माध्यम से दर्ज करा दिया था लेकिन इसके बाद भी 20 फरवरी को सीईओ और जनपद पंचायत उपाध्यक्ष की जुगलबंदी से कॉम्पलेक्स की बोली लगवा रहे थे तो जानकारी मिलने पर जनपद पंचायत अध्यक्ष तत्काल वहां पहुंची और कॉम्पलेक्स की नीलामी पर रोक लगाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को फोन कर आपत्ति जाहिर की। बताया जाता है कि आदिवासी महिला जनपद पंचायत अध्यक्ष द्वारा नीलामी के दौरान आपत्ति लगाए जाने पर उनके साथ मौजूद आदिवासी वर्ग के लोगों से जनपद उपाध्यक्ष द्वारा बदसूली भी की गई।
जनपद उपाध्यक्ष पर यह भी आरोप
है कि उनके द्वारा जाति सूचक शब्द से अपमानित भी किया गया। इस मामले को लेकर लखनादौन थाने में जाकर लिखित रूप से शिकायत भी की गई है। हालांकि मामला दर्ज किया गया है या नहीं यह तो लखनादौन पुलिस ही बेहतर बता पाएगी। अहम बात तो यह है कि कांग्रेस सरकार और कांग्रेस के विधायक श्री योगेन्द्र सिंह बाबा के विधानसभा क्षेत्र मुख्यालय में भाजपा समर्पित जनपद उपाध्यक्ष की तूती बोल रही है।

पीएचई की जगह पर बनाया गया है काम्पलेक्स-

सूत्र बताते हैं कि जनपद पंचायत लखनादौन द्वारा शॉपिंग काम्पलेक्स का निर्माण जिस स्थल पर किया गया है वह पीएचई विभाग की जमीन है और संबंधित विभाग की अनुमति के बिना काम्पलेक्स का निर्माण कार्य करके अध्यक्ष की गैरमौजुदगी में नीलामी का खेल किया जा रहा था। सूत्र तो यह भी बताते हैं कि आदिवासी विकासखंड होने के बावजूद काम्पलेक्स में आदिवासी वर्ग के लिए दुकान आरक्षित नहीं की गई है। वहीं दूसरी तरफ काम्पलेक्स की बोली की दर इतनी ज्यादा कर दी गई है कि गरीब आदिवासी उसको खरीद पाए मुश्किल है।

जनपद अध्यक्ष ने 19 फरवरी को ही दर्ज कराई थी आपत्ति

श्रीमती जलसो बाई उईके जनपद पंचायत अध्यक्ष लखनादौन ने जनपद पंचायत लखनादौन में रानी दुर्गावती चौक के समीप बने जनपद कॉम्पलेक्स एवं बाजार में बना कॉम्पलेक्स को अनुचित तरीके से किये जा रहे नीलामी प्रक्रिया कार्य पर तत्काल रोक लगाने एवं आदिवासी व्यक्तियें को बोली लगाने हेतु अमानत राशि 1 लाख रूपये जो कि अधिक है वह सभी वर्ग के लिये निर्धारित की गई है। उस प्रक्रिया को जांच किया जाकर आदिवासियों को नि:शुल्क बोली लगाने के अवसर प्रदान करने को लेकर 19 फरवरी को पत्र लिखकर कार्यवाही की मांग किया था। 
अपने पत्र में जनपद पंचायत अध्यक्ष लखनादौन श्रीमती जलसों बाई उईके ने उल्लेख किया था कि अनुसूचित ब्लॉक लखनादौन में जनपद पंचायत लखनादौन द्वारा बनाई गयी जनपद कॉम्पलेक्स की दुकाने मनमामनी तरीके से  जनपद उपाध्यक्ष एवं सीईओ जनपद पंचायत लखनादौन द्वारा खुलेआम अवैधानिक प्रक्रिया को अपनाकर वर्तमान में जनपद पंचायत अध्यक्ष जलसो बाई के बिना एवं सहमति के नीलामी प्रक्रिया आदिवासी क्षेत्र में किया जाना अवैधानिक है। वहीं जनजातियों के लिये संवैधानिक प्रावधानों का भी हवाला दिया था। वहीं उन्होंने आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुये आदिवासी गरीब किसान मजदूर शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार का अवसर मिल सके ऐसा किया जाने का विवाद किया। वहीं जनपद पंचायत अध्यक्ष ने अपने पत्र में विशेष नोट में यह भी उल्लेखित किया है कि मेरे कार्यकाल में जो जनपद कॉम्पलेक्स बनाये गये उनकी उच्च स्तरीय जांच कर तत्काल कार्यवाही की जावे। 

कांग्रेस की सरकार, कांगे्रस का विधायक और भाजपा उपाध्यक्ष की चल रही मनमानी 

कांग्रेस की सरकार में कांग्रेस विधायक श्री योगेन्द्र सिंह बाबा के विधानसभा क्षेत्र लखनादौन में जहां एक ओर आदिवासी जनपद पंचायत अध्यक्ष बनने के बाद से ही अपमानित हो रही है, उनकी न तो सीईओ सुनते है और न हीं और कोई अधिकारी कर्मचारी वहीं भाजपा समर्थित जनपद पंचायत उपाध्यक्ष अनिल गोल्हानी को लेकर राजनैितक गलियारों में चर्चा यही है कि नगर पंचायत कार्यालय लखनादौन को छोड़कर, लखनादौन जनपद, थाना, राजस्व विभाग सहित अन्य विभागों में मनमानी चल रही है या यह कहें कि कांग्रेस की सरकार में भाजपा के जनपद उपाध्यक्ष की चल रही है। कांग्रेस के आदिवासी विधायक होने के बाद भी जनपद पंचायत लखनादौन में आदिवासी महिला अध्यक्ष को दरकिनार किय जा रहा है वहीं स्वरोजगार के लिये कॉम्पलेक्स में दुकान लेने के लिये आदिवासी का अधिकार छीना जा रहा है। वहीं सूत्र यह भी बताते है कि जनपद पंचायत लखनादौन में गैर आदिवासी राजनेताओं और पूंजपति व्यापारियों के द्वारा ऐसे आदिवासियों के नाम पर दुकान लिया जा रहा है जो नीलामी के लिये बोली लगाने की राशि जमा करने में सक्षम नहीं है अर्थात नाम आदिवासी को होगा और व्यापार दुकान गैर आदिवासियों के द्वारा चलाये जाने का षडयंत्र भी चल रहा है। 

सीईओ का मोबाईल बंद तो उपाध्यक्ष ने कहा आरोप निराधार

कॉम्पलेक्स की नीलामी को लेकर हुये विवाद व आपत्ति दर्ज कराये जाने का मामला सामने आने के बाद जब जनपद पंचायत लखनादौन सीईओ के मोबाईल पर संपर्क किया गया तो उनका मोबाईल बंद था वहीं जनपद पंचायत उपाध्यक्ष श्री अनिल गोल्हानी से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि नियमानुसार कॉम्पलेक्स की नीलामी की जा रही थी वहीं थाने में की गई शिकायत के संबंध में श्री अनिल गोल्हानी ने कहा कि नीलामी के दौरान पूरा प्रशासनिक अमला मौजूद था उसकी व्डीयोग्राफी भी हुई है। मेरे द्वारा किसी को जातिसूचक टिप्पणी के साथ अभद्रता नहीं की गई है यह आरोप व शिकायत निराधार है। इस संबंध में पूरी जांच करवाई जा सकती है। 

No comments:

Post a Comment

Translate