Saturday, February 15, 2020

जिम्मेदारी से कुरई के शिक्षकों ने स्कूलों को दिया रिकार्डतोड़ टीवी का उपहार, एक प्रोजेक्टर

जिम्मेदारी से कुरई के शिक्षकों ने स्कूलों को दिया रिकार्डतोड़ टीवी का उपहार, एक प्रोजेक्टर

पांचवी की छात्रा ने छठवी की अंग्रेजी पुस्तक को पढ़कर सुनाया,        पहली की छात्रा 13 का कठिन पहाड़ा

सिवनी। गोंडवाना समय।
मेरी शाला मेरी जिम्मेदारी के तहत जिम्मेदारी निभाते हुए कुरई के शिक्षकों द्वारा शिक्षक संगोष्ठी एवं सम्मान कार्यक्रम के दौरान  स्कूल की क्लास और बच्चों को स्मार्ट बनाने के लिए एक साथ रिकार्डतोड़ 127 एलईडी टीवी उपहार में दी। वहीं गोडेगांव प्राथमिक शाला के प्रधान पाठक हरिशंकर यादव,सहायक शिक्षक और ग्रामीणों के सहयोग से 32 हजार रुपए का प्रोजेक्टर गोडेगांव स्कूल को बच्चों की पढ़ाई के लिए उपहार में दिया गया है। वहीं स्कूल के बच्चों ने अपने से आगे की क्लास की अंग्रेजी की पुस्तक बेहिचक पढ़कर और एक पहली कक्षा की छात्रा द्वारा 13 का कठिन पहाड़ा सुनकर शिक्षकों व अतिथियों को चौका दिया।

स्मार्ट क्लास के लिए एक साथ 127 एलईडी टीवी का उपहार-

शुक्रवार 14 फरवरी को कुरई विकासखंड के मोहगांव प्राथमिक-माध्यमिक स्कूल प्रांगण में  शिक्षक-संगोष्ठी एवं सम्मान के नाम से आयोजित कार्यक्रम में विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया और कलेक्टर प्रवीण सिंह अढ़ायच एवं शिक्षा विभाग के जिला शिक्षा अधिकारी जेएस बघेल, बीआरसी चित्तौड़ सिंह कुशराम,नितीन बघेल की मौजूदगी में कुरई विकासखंड के शिक्षकों, प्रधान पाठक,प्राचार्यो द्वारा स्वयं के वेतन से 127 टीवी कुरई क्षेत्र की शालाओं को उपहार में दिया। जबकि गोंडेगांव में बच्चों को स्मार्ट बनाने के लिए उनकी पढ़ाई के लिए सुरक्षा के चलते स्कूल के प्रधान पाठक और ग्रामीणों द्वारा मिलकर प्रोजेक्टर उपहार में दिया गया है। प्रोजेक्टर को शिक्षक  आसानी से अपने बैग में इधर-उधर लाना ले जाना भी कर सकते हैं। इससे चोरी की संभावना से बचाया जा सकता है।

पांचवी कक्षा की बेटी ने छठवी की पुस्तक पढ़कर सुनाया,पहली की बेटियों ने पहाड़ा-

कार्यक्रम के दौरान कुरई विकासखंड के फिटकरी टोला प्राथमिक शाला की कक्षा पहली में पढ़ने वाली दो बेटियों ने 15 तक का पहाड़ा बेहिचक सुनाया। सबसे अहम व खास बात तो यह देखने को आई 13 के पहाड़ा पढ़नें में अच्छे-अच्छे पढ़े लिखे और खुद शिक्षक अटक जाते हैं और कईयों के पसीने छूट जाते हैं। वहीं इन छात्राओं ने  बिना रूके पहाड़ा को पूरा सुनाया।
वहीं चक्की खमरिया के सरकारी स्कूल के पांचवी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा वैष्णवी चौहान ने छठवी कक्षा की अंग्रेजी की पुस्तक को बेहिचक पढ़कर सुनाया। बेटियों के शिक्षण कार्य को देखकर साफ जाहिर हो गया है कि शिक्षक अपनी जिम्मेदारी समझने लगे हैं। वहीं बेटियों ने यह संदेश भी दे दिया है कि हमारे सरकारी स्कूल प्रावइेट स्कूलों से कम नहीं है। सरकारी स्कूल के हम बच्चें भी प्राइवेट स्कूल के बच्चों की तरह फर्राटे से अंग्रेजी बोल व पढ़ सकते हैं।

बेलगांव के बच्चों ने दिखाया एक से बढ़कर एक कतरब-

बच्चों ने नाटय का मंचन कर बड़े ही अच्छे तरीके से शिक्षकों व स्कूली बच्चों स्वच्छता का संदेश दिया।
वहीं बेटियों ने जमीन पर रंगोली के माध्यम से बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओं का संदेश दिया।
बेलगांव के बच्चों ने तो शानदार एक से बढ़कर एक सर्कस की तरह कर्तब दिखाए। शिक्षक व अतिथि बच्चों के उन कर्तबों को मोबाईल में कैद करने से नहीं छोड़ पाए।

No comments:

Post a Comment

Translate