गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Saturday, February 29, 2020

जान है तो जहान है, हैलमेट पहनकर चलाये वाहन

जान है तो जहान है, हैलमेट पहनकर चलाये वाहन 

हेलमेट पहनकर साईकिल चलाकर संदेश दे रहे शौर्य बिसेन

उगली। गोंडवाना समय। 
जब साइकल पर सवार होकर हेलमेट पहनकर शौर्य बिसेन साईकिल चलाते है तो देखने वाले शौर्य बिसेन का पहले तो मजाक उड़ाते है लेकिन जब वहीं बच्चा शौर्य बिसेन उन लोगों यातायात नियमों की जानकारी देकर जागरूक करते है तो अपने जीवन की सुरक्षा की बात सुनकर चुपचाप सीख लेना ही उचित समझते है। केवलारी 
ब्लॉक के उगली में शौर्य बिसेन पिता अरविंद बिसेन, माता तरुणा बिसेन ने जब अपने बच्चे शौर्य बिसेन के लिये साईकिल खरीदा तो साथ में हैलमेट भी दिलवाया। शौर्य बिसेन अभी कक्षा 7 वी का छात्र है और उम्र 13 साल है। साईकिल खरीदने के बाद और हैलमेट पहनकर साईकिल चलाने के बाद उगली क्षेत्र में शौर्य बिसेन की एक अलग ही पहचान बन गई है।  

अपने खास अंदाज को लेकर चर्चा में है शौर्य बिसेन

7 वी कक्षा में पढ़ने वाला 13 साल का शौर्य बिसेन साईकिल चलाते समय हैलमेट पहनते है और अपने इसी खास अंदाज को लेकर उगली में चर्चा का विषय बने हुये है। इसके साथ ही इनसे तमाम ऐसे लोग प्रेरणा भी ले रहे हैं, जो हेलमेट पहनने में शर्म महसूस करते हैं। वहीं शौर्य बिसेन कहते है कि जान है तो जहान है इसलिये दोपहिया 
वाहन चलाते समय हेलमेट जरूर पहनें। 

ताकि लोगों में वाहन चलाते समय हेलमेट पहनने का संदेश जाए

हम देखते है कि प्रतिदिन मीडिया में हैलमेट न पहनने की वजह से दुर्घटनाओ की खबरे आती हैं। आज के समय में हेलमेट हम सभी के लिए बहुत जरुरी हो चूका है। बिना हेलमेट के वाहन चलाना, यानी जान का खतरा और ऊपर से यातायात के नियमों कों तोड़ने पर पुलिस द्वारा चालान बनाया जाता है। ऐसे में आजकल हेलमेट पहनना सबसे ज्यादा जरुरी माना गया है। इसके बाद भी दुपहिया वाहन चलाते समय अधिकतम दुपहिया वाहन चालक हैलमेट नहीं पहनते है, ऐसे में शौर्य बिसेन सायकल चलाते समय हैलमेट लगाकर साईकिल चला रहे है, जिससे लोगों में वाहन चलाते समय हेलमेट पहनने का संदेश जाए। हेलमेट पहनने का मुख्य उद्देश्य यही है कि दोपहिया चालक हेलमेट लगाएं ताकि सड़क हादसे में होने वाली मृत्यू का आंकड़ा कम हो सके। 

No comments:

Post a Comment

Translate