Thursday, April 16, 2020

बाघ के हमले में महुआ बीनने गई युवती की मृत्यू

बाघ के हमले में महुआ बीनने गई युवती की मृत्यू

3 जनजाति वर्ग के सदस्यों की सिवनी व छिंदवाड़ा में हो चुकी है मृत्यू

महुआ बीनने के दौरान हो रही घटनायें

सिवनी/छिंदवाड़ा। गोंडवाना समय। 
पेंच टाइगर रिजर्व के गुमतरा कोर क्षेत्र में महुआ बीनने गई जनजाति वर्ग की युवती की बाघ के हमले में मौत हो गई। मृतका संतोषी तुमड़ाम पिता बालचंद का शव बुधवार सुबह वन अमले को मिला। सिवनी पेंच टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर विक्रम सिंह परिहार ने बताया कि मोहगांव-थ्योपानी जिला छिंदवाड़ा निवासी संतोषी पिता के साथ महुआ बीनने गई थी।
कोर एरिया की दीवार फांदकर बेटी व पिता अलग-अलग पेड़ के नीचे महुआ बीन रहे थे। इसी दौरान बाघ ने युवती पर हमला कर दिया। संतोषी की चीख सुनकर पिता मदद के लिए गांव भागा। ग्रामीणों के साथ जब पिता लौटा तब तक युवती की मौत हो चुकी थी।

सिवनी जिले में बाघ व हाथी के हमले में हो चुकी है 2 की मृत्यू

हम आपको बता दे कि बीते सप्ताह में जनजाति वर्ग के 2 सदस्यों की मृत्यू हो चुकी है । जिसमें 8 अप्रैल को पेंच के खवासा बफर क्षेत्र के खंबा गांव से लगे जंगल में महुआ बीनने गई युवती को बाघ ने शिकार बना लिया था। वहीं  केदारपुर के जामुनपानी गांव में महुआ बीनने गए 1 जनजाति वर्ग के व्यक्ति की हाथियों के हमले में मृत्यू हो गई थी। पेंच नेशनल पार्क प्रबंधन द्वारा लगातार मुनादी कर ग्रामीणों को महुआ के लिए जंगल न जाने की समझाइश दी जा रही है। 



1 comment:

Translate