गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Monday, April 20, 2020

अमर शहीदों की गाथा, मरकर भी नहीं मरती

अमर शहीदों की गाथा, मरकर भी नहीं मरती

देश की धरती, ओ मेरे देश की धरती।
देश की जनता, तुम्हारी वंदना करती।
ेदेश की धरती, ओ मेरे देश की धरती।
सत्य, अहिंसा, त्याग, प्रेम से-सींचा है हमने।
शौर्य, पराक्रम, बाहुबल से-जीता है हमने।
अमर शहीदों की गाथा, मरकर भी नहीं मरती। 
देश की जनता तुम्हारी वंदना करती।
गांधी, गौतम, ईसा, नानक-की पावन भूमि।
जग-जाहिर और सर्व-पुरातन-है भारत भूमि।
तुझे नमन भारत-माता, वीरों की सदा जननी।
देश की जनता, तुम्हारी वंदना करती।
गीता, बाइबिल, गुरुग्रंथ है-और कुरान संदेश।
विश्व पताका बनें तिरंगा-गूंजे जय-भारत घोष।
अजर अमर हे! प्राणमयी, उपकार सदा करती।
देश की जनता, तुम्हारी वंदना करती।

(कवि-अलाल जी देहाती)

No comments:

Post a Comment

Translate