Tuesday, May 12, 2020

सत्ताधारी सिवनी व केवलारी विधायक से वजनदार अधिकारी

सत्ताधारी सिवनी व केवलारी विधायक से वजनदार अधिकारी 

मार्कफेड, खाद्य आपूर्ति विभाग, खरीदी केंद्र प्रबंधकों की जुगलबंदी से गेंहू खरीदी में खेल

विधायको ने देखा स्वयं और मिल रही शिकायतों के बाद भी काबिज कांग्रेसी काल के अफसर

सिवनी। गोंडवाना समय। 
सिवनी जिले में चल रही गेंहू की खरीदी में खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी एस के मिश्रा और मार्कफेड के प्रबंधक आर रघुवंशी की जुगलबंदी गेंहू खरीदी में जमकर पलीता लगा रही है वहीं किसानों का शोषण भी हो रहा है। समितियों के माध्यम से किसानों के अनाज को अधिक मात्रा में तौलकर चपत लगा रही है, जिसकी शिकायते प्रदेश में काबिज भाजपा सरकार के सिवनी विधायक दिनेश राय मुनमुन, केवलारी विधायक राकेश पाल को कई समितियों में मिल चुकी है इसके बावजूद कांग्रेस सरकार के कार्यकाल से जुड़े खरीदी के प्रभारी अफसरों को कोई खौफ नजर नहीं आ रहा है।
           हालांकि इसमें कुछ खरीदी केंद्र प्रभारी पर निलंबन की कार्यवाही की गई है लेकिन इनके मुख्य सूत्रधार और संरक्षण देने वाले आकाओं पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है। सूत्रों की माने तो ये मार्कफेड, खाद्य आपूर्ति विभाग के अफसर तो सत्ताधारी दल के विधायकों के फोन तक रिसीव नहीं कर रहे है। हालांकि बीते दिनों ही कलेक्टर ने खरीदी केंद्रों होने वाली अनियमितताओं की नब्ज को पकड़ लिया है और कड़कता  के साथ सख्त निर्देश दिये है। 

सिवनी विधायक ने किया अपना दु:ख उजागर 

विधायक श्री दिनेश राय सत्ताधारी भाजपा के दबंग विधायक है लेकिन किसानों की समस्याओं को उठाकर वे भी इस समय परेशान है उनकी सुनवाई नहीं हो रही है। इसका दु:खड़ा हो बीते दिन ही प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जाहिर कर चुके है कि खरीदी केंद्रों में लापरवाही व खरीदी केंद्र खोले जाने को लेकर विधायक श्री दिनेश राय द्वारा पूर्व कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह को आसपास क्षेत्र जैसे जाम, कातलबोड़ी, मुंगवानी, चंदोरी, बीसावाड़ी आदि स्थानों में भी गेंहू खरीदी प्रारंभ कराये जाने हेतु पत्र लिखकर कहा गया था किन्तु तत्कालीन जिला कलेक्टर के निर्देशन के बाद भी संबंधित विभागीय अधिकारी द्वारा हीला-हवाली कर अभी तक एक ही स्थान में खरीदी उपकेंद्र प्रारंभ किया गया है।
          जिस कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक सिवनी विधायक श्री दिनेश राय ने जिला कलेक्टर से आग्रह किया कि सायलो बैग के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी शीघ्र गेंहू खरीदी प्रारंभ कराया जावे ताकि किसानों को समस्याओ का सामना न करना पड़े। इसके साथ ही संबंधित अधिकारी के द्वारा की गई अनियमितता के विरुद्ध कार्यवाही करने की बात कही।

केवलारी विधायक के निरीक्षण के 20 दिन बाद कार्यवाही 

हम आपको बता दे कि केवलारी विधानसभा क्षेत्र में खरीदी केंद्रों में विधायक श्री राकेश पाल ने निरीक्षण किया था। वहीं इस दौरान अधिकांश खरीदी केंद्रों में अधिक मात्रा में गेेंहू लेने व अनियमितताआें व कमीशन, हम्मालों का शोषण सहित कई शिकायतें मिली थी।
        यहां तक कि उन्होंने अधिक मात्रा में गेंहू तौलने को लेकर नायब तहसीलदार के साथ में पंचनामा भी बनवाया था लेकिन कार्यवाही 20 दिनों के दो प्रबंधकों को निलंबन किये जाने की कार्यवाही के लिये पत्र लिखा गया है।
       वहीं बण्डोल में सिवनी विधायक ने निरीक्षण किया था तो तीन दिनों के अंदर निलंबन की कार्यवाही कर दी गई थी। प्रशासन की यह कार्यवाही दोनों विधायकों को लेकर एक ही तरह के मामलों में दिनों को कम ज्यादा कार्यवाही लगाने के लिये वजनदारी नापा जा रहा है।  

दो साल से डीएमओ एच रघुवंशी कर रहे खरीदी

जानकारी के मुताबिक सिवनी जिले में दो सालों से गेंहू की खरीदी एच रघुवंशी  द्वारा किया जा रहा है। जो खरीदी में गोलमाल कर जमकर माल कमा रहे हैं। जबकि इससे पहले रहे डीएमओ को एक साल में ही सेटिंग कर खाद्य आपूर्ति विभाग के एस के मिश्रा द्वारा हटवा दिया गया था। बताया जाता है कि रैक निर्माण को लेकर तत्कालीन डीएमओ मन्नूलाल कुसरे की एसके मिश्रा से  कहा सुनी हो गई थी। उसके एक सप्ताह के बीच डीएमओ का ट्रांसफर कर दिया गया था।

अध्य्क्ष, विधायको की बोलती थी तूती

कांग्रेस कार्यकाल में कांग्रेस के जिला अध्य्क्ष राजकुमार खुराना से लेकर विधायक और कार्यकतार्ओं की तूती बोलती थी। जब चाहे उनका ट्रांसफर करवा दिया जाता था लेकिन भाजपा सरकार आते ही अफसरों के हौसले बढ़ गए है और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष प्रेम तिवारी तो दूर दमखम रखने वाले विधायक तक इनका कुछ नहीं कर पा रहे है। जबकि विधयकों को निरीक्षण के दौरान खरीदी केंदों्र में अनियमितताएं ओर खामिया मिल रहीं है वहीं सूत्र बताते हैं कि डीएमओ ओर खाद्य आपूर्ति अधिकारी उनके फोन तक रिसीव नही कर रहे हैं।

साहब विधायक हो रहे नाराज

साहब केवलारी विधायक नाराज हो रहे है। साहब कह रहे हैं कि केवलारी ओर पलारी के वेयर हाउस कब भरोगे, बार बार फोन आ रहा है यह बात बीते सप्ताह में एक दिन डीएमओ आर रघुवंशी  मोबाइल में आये कॉल पर बात करते हुये नजर आ रहे थे। इसके बाद वे भाजपा विधायक राकेश पॉल को लेकर अपने ही अधिनस्थ कर्मचारियों के साथ बुदबुदाते नजर आए थे।

नये भाजपा अध्यक्ष का क्या होगा नजरिया 

किसानों के साथ होने वाले शोषण, सरकार के समर्थन मूल्य पर किसानों को देने वाली योजनाओं में सेंध लगाने वाले अधिकारियों को लेकर पूर्व अध्यक्ष प्रेम तिवारी द्वारा कोई विशेष रूख नहीं अपनाया गया था। वहीं सत्ताधारी दल के विधायक होने के बावजूद भाजपा के विधायक श्री दिनेश राय मुनमुन व श्री राकेश पाल सिंह ने खरीदी केंद्रों की अनियमितताओं को उजागर करने में कोई कसर नहीं छोड़ा और किसानों के समस्याओं को लेकर उन्होंने मुखरता के साथ आवाज भी उठाया परंतु खरीदी केंद्रों में प्रमुख जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा उनकी आवाज को उतनी तव्वजों नहीं दी गई।
            वहीं अब भाजपा में नये अध्यक्ष आलोक दुबे को जिला भाजपा संगठन की कमान सौंपा है। हालांकि आलोक दुबे मुस्कराकर गंभीर राजनीति करने वालों में है यह उन्होंने भाजपा अध्यक्ष बनकर साबित भी कर दिया है। अब देखना यह है कि भाजपा अध्यक्ष आलोक दुबे अपनी प्रदेश व केंद्र सरकार की योजनाओं में खेल कर सरकार के प्रति अनावश्यक आक्रोश बढ़ाने वाले अधिकारियों व प्रशासन के प्रति किस तरह का रूख अपनी शांत स्वभाव के स्वरूप में कौन सी नीति अपनायेंगे ताकि सरकार की लोककल्याणकारी योजनाओं का लाभ संबंधितों को मिल सके।  

No comments:

Post a Comment

Translate