Thursday, May 28, 2020

सिदो कान्हू विवि, दुमका विश्विद्यालय की कुलपति बनी सोना झरिया मिंज

सिदो कान्हू विवि, दुमका विश्विद्यालय की कुलपति बनी सोना झरिया मिंज 

झारखंड राज्य के विश्वविद्यालय में जनजाति वर्ग की कुलपति नियुक्त
लगभग 799 विश्वविद्यालयों में जनजाति वर्ग का होने चाहिये 60 अब जाकर मिला 1

रजनी गजभिये विशेष रिपोर्ट 
रांची। गोंडवाना समय। 
योग्यता होने के बाद भी दरकिनार करते हुये प्रमुख पदों पर नियुक्ति किया जाना अनवरत आज भी जारी है कि लेकिन देश के झारखंड राज्य में एक जनजाति वर्ग की महिला को कुलपति बनाया जाना समानता के साथ योग्यता के सम्मान का प्रमाण है। हम आपको बता दे कि जेएनयू, नई दिल्ली की प्रोफेसर डॉ. सोना झरिया मिंज को सिदो कान्हु विश्वविद्यालय, झारखंड का कुलपति नियुक्त किया गया हैं।

लगभग 799 विश्वविद्यालयों में जनजाति वर्ग का होने चाहिये 60 अब जाकर मिला 1

झारखंड सरकार ने जेएनयू की कम्प्यूटर साइंस विभाग की प्रोफेसर और जेएनयू शिक्षक संघ की पूर्व अध्यक्ष प्रो सोना झरिया मिंज को सिदो कानू मुर्मू विश्वविद्यालय झारखंड का नया वाइस चांसलर नियुक्त किया गया है। आपको जानकर बिल्कुल हैरानी नहीं होगी कि भारत में वर्तमान में लगभग 799 विश्वविद्यालय (43 केंद्रीय, 329 राज्य, 122 डीम्ड, 197 निजी, 1 केंद्रीय ओपन, 13 राज्य आॅपन, 75 राष्ट्रीय संस्थान, 1 निजी ओपन, 5 राज्य संस्थान, 13 अन्य) जिनमें प्रो मिंज पहली जनजाति वाइस चांसलर है।

जनजातियों के नाम पर संचालित है कई विश्वविद्वालय पर कुलपति नहीं 

जबकि जनजातियों के नाम पर कुछ विश्वविद्यालय खोले गए हैं ताकि जनजाति समुदाय के मतदाताओं को अपनी ओर आकृषित किया जा सके लेकिन उनमें वाइस चांसलर के पद पर नियुक्ति हमेशा गैर जनजाति वर्ग की होते रही है। यह हम नहीं कह रहे है विश्वविद्यालयों का सर्वे में स्वत: दिखाई देता है कि कौन वाइस चंसलार है और उनकी सामाजिक पृष्ठभूमि क्या है ?

जनजातियों के अधिकारों को सजग है मुख्मयंत्री हेमंत सोरेन 

ऐसा नहीं है कि योग्य उम्मीदवार नहीं है और कायदे से इन 799 विश्वविद्यालयों में यदि 7.5% प्रतिशत जनसंख्या के अनुसार 60 वाइस चांसलर जनजाति वर्ग से चाहिए थे लेकिन जनजाति समाज को पहली महिला वाइस चांसलर अब जा कर मिली हैं। वह भी झारखंड जैसे जनजाति बाहुल्य राज्य में और वह भी राज्य स्तर पर। सबसे विशेष बात तो यह है कि वर्तमान समय में जनजाति समुदाय के हक अधिकारों की रक्षा को लेकर सदैव तत्पर रहने वाले हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री है।

जानिये प्रो. सोना झरिया मिंज की योग्यता और परिचय 

प्रो. सोना झरिया मिंज जेएनयू में स्कूल आॅफ कम्प्यूटर एंड सिस्टम्स साइंसेज में प्रोफेसर पद पर कार्यरत हैं। वहीं उनकी योग्यता पीएच.डी. (कम्प्यूटर साइंस) जवाहरलाल नेहरू यूनवर्सिटी, नई दिल्ली,
एम.फिल। (कम्प्यूटर साइंस) जवाहरलाल नेहरू यूनवर्सिटी, नई दिल्ली, एमएससी। (गणित) मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज, तांबरम, चेन्नई, टीएन।

विशेषज्ञता के क्षेत्र व अनुभव 

भू-स्थानिक सूचना विज्ञान, स्पैट-टेम्पोरल डेटा एनालिसिस, डेटा माइनिंग, मशीन लर्निंग, रफ सेट्स। वर्ष 2005-आज तक: प्रोफेसर, स्कूल आॅफ कंप्यूटर एंड सिस्टम्स साइंसेज, जेएनयू, नई दिल्ली, वर्ष 1997-2005: एसोसिएट प्रोफेसर, स्कूल आॅफ कंप्यूटर एंड सिस्टम्स साइंसेज, जेएनयू, नई दिल्ली, 1992-1997: असिस्टेंट प्रोफेसर, स्कूल आॅफ कंप्यूटर एंड सिस्टम्स साइंसेज, जेएनयू, नई दिल्ली, वर्ष 1991-1992: सहायक प्रोफेसर, कंप्यूटर विज्ञान विभाग, मदुरै कामराज विश्वविद्यालय, मदुरै, वर्ष 1990-1991 कम्प्यूटर साइंस, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल के सहायक प्रोफेसर विभाग।

No comments:

Post a Comment

Translate