Thursday, May 21, 2020

भाजपा नेता, नायब तहसीलदार, पटवारी, कोटवार ने मिलकर नलकूप खनन रोककर आदिवासी किसान का कर दिया रूपया बर्बाद

भाजपा नेता, नायब तहसीलदार, पटवारी, कोटवार ने मिलकर नलकूप खनन रोककर आदिवासी किसान का कर दिया रूपया बर्बाद 

मुख्मयंत्री की गांव-गांव पानी पिलाने की मंशा पर भी फेरा पानी 

पीएचई से अनुमति के बाद भी नलकूप खनन का कार्य पूरा होने से पहले ही बंद करवा दिया मशीन

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दो दिन पहले ही जल शक्ति नियोजन मंत्री के साथ वीसी के माध्यम से मध्य प्रदेश में गांव-गांव पेयजल उपलब्ध करवाये जाने के लिये की कार्यवाही व व्यापक तैयारी की स्थिति से अवगत कराया था। वहीं मुख्यमंत्री के राज में भाजपा नेता व राजस्व विभाग के अधिकारियों ने मिलकर आदिवासी गांव को पेयजल की सुविधा से वंचित करने के लिये कोई संकोच नहीं किया है। वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस संक्रमण के तहल लगे लॉकडाउन के कारण आर्थिक रूप से प्रभावित अधिकांश लोगों पर पड़ा है।
इसके साथ ही ऐसे समय में यदि किसान के साथ आर्थिक रूप से बर्बाद होने का कृत यदि भाजपा नेता और स्थानीय प्रशासन मिलकर करें तो इसे क्या कहा जायेगा। बड़ी मेहनत मशक्कत करके अपनी पूंजी जमा कर अपने खेत को सिंचाई की सुविधा करवाकर फसल का उत्पादन बढ़ जायेगा यह सोचकर आदिवासी किसान ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग सिवनी व सहायक यंत्री लखनादौन ये नलकूप खनन की अनुमति लिया था। आदिवासी किसान को क्या पता था कि वह नलकूप खनन का कार्य आधा से ज्यादा करवा लेगा और बीच में नलकूप खनन की मशीन को बंद करवा दिया जायेगा और उसे आर्थिक रूप से बर्बाद कर दिया जायेगा। 

सिवनी। गोंडवाना समय। 
धूमा के भाजपा नेता, नायब तहसीलदार, पटवारी, कोटवार ने मिलकर लखनादौन विधानसभा क्षेत्र के धूमा थाना क्षेत्र में आदिवासी किसान हीरालाल गोंड के खेत को हरा-भरा करने के लिये सिंचाई के लिये नलकूप खनन कराने कार्य को वर्षों से सपना को साकार करने के कार्य को रूकवाकर, आदिवासी किसान को आर्थिक रूप से बर्बाद तो कर ही दिया है साथ में आदिवासी किसान पहले अनुमति लेने के लिये चक्कर काटने के बाद जिम्मेदारों पर कार्यवाही कराये जाने को लेकर शिकायत करने के लिये परेशान होने पर उसे मजबूर कर दिया गया है। 

200-300 फिट नलकूप के बाद बंद करवा दिया मशीन 

नलकूप खनन विधिवत अनुमति मिलने के बाद भी रोक लगाये जाने व अड़ंगा लगाये जाने से प्रताड़ित होकर हीरालाल गोंड द्वारा कलेक्टर सिवनी व एसडीएम लखनादौन को नलकूप खनन कार्य करने से रोकने वालों पर कार्यवाही किये जाने को लेकर शिकायत दिया गया है।
         हीरालाल गोंड ने गोंडवाना समय से चर्चा में बताया कि उसे लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग सिवनी व लखनादौन द्वारा 6 मई 2020 को नलकूप खनन की अनुमति की गई है। अनुमति के आधार पर वह 8 मई 2020 को रात्रि को नलकूप खनन कराये जाने के लिये मशीन मेरे खेत व निजी भूमि पर लगाई गई थी। जिस पर लगभग 200-300 फिट नलकूप खनन हो चुका था। 

पेयजल के लिये परेशान है गोकलपुर के ग्रामीण

         ग्राम पंचायत धपारामाल के ग्राम गोकलपुर के ग्रामीण जन पेयजल की समस्या को लेकर अत्याधिक परेशान है। गोकलपुर में लगभग 700 से जनसंख्या होगी और पेयजल की सुविधा के लिये मात्र एक ही हैण्डपंप है। जहां से पेयजल के लिये पानी की व्यवस्था ग्रामीण जन वहीं से पूरी करते है और इसके लिये सुबह से लेकर रात्रि तक पानी भरने का काम ग्रामीणों को करना पड़ता है तब कहीं जाकर उन्हें पेयजल की लिये पानी नसीब होता है। गर्मी के समय तो उन्हें गांव के बाहर जाकर पानी की व्यवस्था करना पड़ता है।
          गोकलपुर के ग्रामीणों ने इसके लिये ग्राम पंचायत से लेकर वरिष्ठ कार्यालयों तक पेयजल की समस्या का समाधान के लिये आवेदन निवेदन भी कई बार कर चुके है लेकिन पेयजल की समस्या का कोई समाधान नहीं किया गया।
           वहीं जब गांव के ही आदिवासी किसान ने ग्रामीणजनों के सहयोग से अपने निजी खेत में सिंचाई व पेयजल की सुविधा के लिये नलकूप खनन का कार्य विधिवत अनुमति लेकर करवाने का कार्य प्रारंभ करवाया तो उसे भाजपा नेता, नायब तहसीलदार, पटवारी, कोटवार ने मिलकर बीच में ही बंद करवाकर ग्रामीणों को पेयजल की सुविधा का लाभ लेने से गर्मी के समय में वंचित कर दिया है। 

पीएचई से मिली थी हीरालाल गोंड को नलकूप की अनुमति 

कार्यालय कार्यपालन यंत्री, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी खण्ड सिवनी के द्वारा पत्र क्रमांक 410/तक.का.यं./लो.स्वा.यां/खण्ड/सिवनी/2020 कैम्प लखनादौन/दिनांक 6 मई 2020 के  आधार पर श्री हीरालाल गोंड िपता श्री भाल सिंह गोंड ग्राम गोकलपुर ग्राम पंचायत धपारामाल विकासखंड लखनादौन जिला सिवनी को खसरा नंबर 180/1 रकबा 1.28 भूमि में कृषि (सिंचाई) व पेयजल कार्य हेतु नलकूप खनन के लिये अनुमति देने हेतु सहायक यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी उपखण्ड लखनादौन को प्रेषित आवेदन दिये जाने पर सहायक यंत्री द्वारा की गई अनुशंसा अनुसार नलकूप खनन के लिये शर्तों के आधार पर अनुमति प्रदान की गई थी। 

पटवारी ने कहा तो कोटवार ने मशीन बंद करवाकर किसान के रूपये कर दिये बर्बाद 

हीरालाल गोंड ने गोंडवाना समय से चर्चा में बताया कि बताया कि 8 मई 2020 को रात्री में जब नलकूप खनन का कार्य चल रहा था। उसी दौरान रात्रि में ही लगभग 1 बजे ग्राम किसनपुर का कोटवार श्री कन्हैया के द्वारा मेरे गांव में जाकर मेरे खेत में नलकूप करती हुई मशीन को बंद करवा दिया गया और कहने लगा कि पटवारी ने फोन करके कहा है कि मशीन को बंद करवा दो।
               कोटवार के द्वारा ऐसा कहने पर नलकूप खनन करने वाले ने मशीन निकालकर वापिस लेकर चला गया। जिसके कारण हीरालाल गोंड का नलकूप खनन अधूरा रह गया और इस कार्य में लगभग 45 हजार रूपये से अधिक का खर्च भी हो गया था वह पूरा रूपया भी बर्बाद हो गया है।
          जबकि हीरालाल गोंड का कहना है कि अनुमति लेने के बाद भी मेरे खेत पर नलकूप नहीं करवाने दिया गया। इसको लेकर ग्रामीणों ने कोटवार द्वारा की गई कार्यवाही के संबंध में पंचनामा भी तैयार करवाया है। 

भाजपा नेता ने कहा तो नायब तहसीलदार ने भी पटवारी को बंद करवाने दिये निर्देश 

हीरालाल गोंड ने बताया गोंडवाना समय से चर्चा में बताया कि कि गोकलपुर का ब्रजलाल उर्फ भूरा पिता सूरजलाल गोंड जो कि धूमा के भाजपा नेता दिनेश साहू का टैक्टर चलाता है जो कि मुझसे व्यक्तिगत दुश्मनी रखता है।  ब्रजलाल रात्रि में ही गोकूलपुर से धूमा से आया और और धूमा के दिनेश साहू से नायब तहसीलदार अभिषेक यादव को फोन लगवाकर नलकूप खनन रूकवाने के लिये कहा गया।
          जिस पर नायब तहसीलदार श्री अभिषेक यादव के द्वारा हल्का पटवारी श्री गजेन्द्र भाटिया को फोन करके मेरा नलकूप खनन बंद कराने के लिये कहा गया। पटवारी के द्वारा रात्रि में ही ग्राम किसनपुर के कोटवार के माध्यम से मेरे खेत में नलकूप खनन के कार्य में लगी हुई मशीन को बंद करवाकर भगवा दिया गया।
            जिसके कारण मेरा नलकूप नहीं हो पाया और मेरे पैसे बर्बाद हो गये। इस मामले में हीरालाल गोंड द्वारा संबंधितों पर कठोर कार्यवाही की मांग किया है। 

No comments:

Post a Comment

Translate