Sunday, August 23, 2020

कांग्रेस विधायक द्वारा धरती आबा महामानव बिरसा मुण्डा जी के प्रतीकात्मक फोटोयुक्त पीला गमछा कुत्ते के गले में बांधने पर हो रहा विरोध

कांग्रेस विधायक द्वारा धरती आबा महामानव बिरसा मुण्डा जी के प्रतीकात्मक फोटोयुक्त पीला गमछा कुत्ते के गले में बांधने पर हो रहा विरोध 

कांग्रेस पार्टी के मनावर विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ हीरालाल अलावा के साथ कांग्रेस पार्टी से आदिवासी पूछ रहे सवाल 

सिवनी/भोपाल। गोंडवाना समय।

कांग्रेस पार्टी के विधायक एवं जय आदिवासी युवा शक्ति जयश के राष्ट्रीय संरक्षक डॉ हीरालाल अलावा ने अपने घरेलू कुत्ते के गले में धरती आबा क्रांतिसूर्य महामानव बिरसा मुण्डा जी का प्रतीकात्मक चित्र लगे हुये पीला गमछे को बांधने के बाद उक्त फोटोज को उन्होंने सोशल मीडिया में शेयर किया था।

कांग्रेस विधायक डॉ हीरालाल अलावा के द्वारा उनके घरेलू कुत्ते के गले में पीला गमछा बांधे जाने की फोटोज जैसे ही सोशल मीडिया में विधायक द्वारा शेयर किया गया उसके बाद से ही इन फोटोज को लेकर क्रिया प्रतिक्रिया प्रारंभ हो गई थी।
जहां उनके समर्थक कांग्रेस विधायक के समर्थन में उतर गये है तो वहीं विरोधी कहें या पीला गमछा को सम्मान देने वाले एवं पीछा गमछा में बने क्रांतिसूर्य महामानव बिरसा मुण्डा जी के प्रतीक चिह्न से युक्त पीला गमछा को कुत्ते के गले में बांधने को लेकर अपमान बता रहे है। 

आदिवासियों के लिये भगवान है महामानव बिरसा मुण्डा 

हम आपको बता दे कि धरती आबा के नाम से और क्रांतिसूर्य महामानव के साथ ही भगवान के रूप में बिरसा मुण्डा जी को दुनिया भर के आदिवासी समाज के सगाजन मानते है। महामानव बिरसा मुण्डा जी के द्वारा कम उम्र में ही अंग्रेजों की खिलाफत की गई थी उन्होंने जल, जंगल, जमीन के लिये आंदोलन चलाया था।
बिरसा मुण्डा जी के संघर्ष का ही परिणाम था कि आज भी आदिवासी समाज की जमीन सुरक्षित है। हालांकि बिरसा मुण्डा जी के संघर्ष व योगदान के विषय में ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है जो जानते है वे उन्हें भगवान मानकर आज भी और आजीवन पूजते रहेंगे। 

कांग्रेस पार्टी के लिये विधायक ने खड़ी किया मुसीबत

हम आपको बता दे कि मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री कमल नाथ के लिये उनकी पार्टी के मनावर विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ हीरालाल अलावा ने क्रांितसूर्य महामानव बिरसा मुण्डा जी के प्रतीकात्मक फोटोयुक्त पीला गमछा को विधायक ने अपने घरेलू कुत्ते के गले में बांधकर कांग्रेस के साथ साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के लिये मुसीबत खड़ी कर दिया है। इस मामले में विधायक के साथ साथ कांग्रेस पार्टी पर भी आदिवासी समाज के सगाजन सवाल उठा रहे है। हालांकि इस मामले में अभी तक कांग्रेस पार्टी की और से संज्ञान नहीं लिया गया है। 

आदिवासी प्रकृति प्रेमी होते है यह बात सबको समझना होंगी-जयस 

वहीं इस मामले में कांग्रेस पार्टी के विधायक व राष्ट्रीय जयस संरक्षक डॉ हीरा लाल अलावा ने सोशल मीडिया में विरोध होने के बाद अपनी बात रखते हुये कहा है कि सिम्बा के गले मे पीले गमछे को लेकर कुछ लोग अफवाह फैला रहे है और उन लोगों को समर्थन कर रहे है, उन लोगों को बताना चाहता हूं कि सिम्बा मेरा शेर है ओर मेरी जान है, पीला गमछा क्या उसके लिए जान भी हाजिर है, तुम्हारी घटिया मानसिकता के कारण कभी बड़ा नहीं सोच पाए हो, सच में छोटी और बड़ी सोच मे अंतर देखना है, मेरे गांव आकर देखना यहाँ आप लोगो को वर्चुअल दुनिया से नहीं रियलिटी से सामना होगा और आकर देखो सिम्बा शेर के जलवे क्या है कभी जीवन मे कल्पना भी नहीं करी होंगी। 

वर्ना जानवरो और इंसानो में क्या फर्क रह जाएगा ? 

वहीं इस मामले में कांग्रेस पार्टी के विधायक व राष्ट्रीय जयस संरक्षक डॉ हीरा लाल अलावा ने सोशल मीडिया में विरोध होने के बाद अपनी बात रखते हुये कहा है कि आज दुनिया के सबसे वफादार प्राणी अपने घरेलु कुत्ते सिम्बा जो घर मे सबका प्यारा सबका लाड़ला सदस्य मानते है, हमने उसकी भावनाओ का ख्याल रखते हुवे गले मे थोड़ी देर के लिए मैंने अपने गले का पीला गमछा उतारकर सिम्बा के गले में पहना कर उसको सम्मान और प्यार क्या दे दिया, दिया तो छोटी सोच रखने वाले घटिया मानसिकता के कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने का अभियान शुरू कर दिया।
         अगर सोच थोड़ी भी बड़ी होती तो अंदाजा लगाते जिस इंसान ने एक सिम्बा की भावनाओ को ध्यान में रखते हुये उसके गले मे पीला गमछा डाल कर उसे खुश कर दिया, उसका दिल कितना बड़ा होगा लेकिन विरोधी लोगों को अपनी छोटी और घटिया मानसिकता के चलते अफवाह फैलाने में देर नहीं लगी। अगर आप वास्तव मे इस धरती के सबसे बेहतरीन प्राणी इंसान हो तो आपको इस धरती के समस्त प्राणियों से अपनत्व और प्यार रखना चाहिए वर्ना जानवरो और इंसानो में क्या फर्क रह जाएगा ?

1 comment:

Translate