Thursday, August 20, 2020

दीनदयाल चलित अस्पताल के कोरोना यौद्धा गांव-गांव पहुंचकर ले रहे सेंपल

दीनदयाल चलित अस्पताल के कोरोना यौद्धा गांव-गांव पहुंचकर ले रहे सेंपल 

डिंडौरी जिले के बजाग ब्लॉक में प्रतिदिन 50 ग्रामीणों की हो रही है जांच 

कोरोना संक्रमित मरीज डिंडौरी जिले में उपचार के बाद हो रहे पूर्णतय: स्वस्थ्य 

डिंडौरी। गोंडवाना समय। 

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये कोरोना यौद्धा दीनदयाल चलित अस्पताल की मोबाईल यूनिट के माध्यम से गांव-गांव जाकर अपना कर्तव्य निभा रहे है। डिंडौरी जिले के प्रत्येक ब्लॉकों मोबाईल यूनिट में सेवारत कोरोना यौद्धाओं के द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये एवं संक्रमण की जानकारी के लिये गांव-गांव जाकर ग्रामीणों के सेंपल लिया जा रहा है। हम यदि डिंडौरी जिले के सिर्फ बजाग ब्लॉक की बात करें तो वहां पर प्रति दिन 50 लोगों की जांच होती है। जहां बीते लगभग 1 माह से अधिक समय में 1500 से अधिक लोगों की जांच व सेंपल लिय गया है। इसी तरह डिंडौरी जिले के सभी ब्लॉक में भी जांच किया जाकर सेंपल लिया जा रहा है। 

्ग्रामीणों के साथ स्वास्थ्य अमला की भी हो रही जांच 

डिंडौरी जिले में दीनदयाल चलित अस्पताल मोबाईल यूनिट के द्वारा गांव-गांव में जाकर ग्रामीणों के सेंपल लिया जा रहा है। इसके साथ में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों व चिकित्सा अमला के भी सेंपल लिये जा रहे है। इसके साथ ही कोरोना बीमारी की रोकथाम के लिये शासकीय सेवारत अन्य विभागों के कर्मचारियों की भी जांच कर सेंपल लिया जा रहा है। 

रिपोर्ट के लिये जबलपुर भेजा जाता है सेंपल 

डिंडौरी जिले में प्रत्येक ब्लॉकों में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे कोरोना यौद्धाओं के द्वारा पूरी जवाबदारी के साथ में दीनदयाल चलित अस्पताल के माध्यम से दीनदयाल चलित अस्पताल में कार्यरत चिकित्सा अमला व कर्मचारियों के द्वारा गांव-गांव जांच करने के बाद जबलपुर मेडिकल कालेज सेंपलिंग के लिये भेजा जाता है। वहां रिपोर्ट आती है और पाजिटिव मरीजों को जिला डिंडौरी में कोरोनटाईंन सेंटर में रखा जाता है। जहां पर उपचार के दौरान कोरोना संक्रमित मरीज पूर्णतय: स्वस्थ्य भी हो रहे है। 

दीनदयाल चलित अस्पताल कोरोना की रोकथाम में निभा रहा महत्वपूर्ण भूमिका 

दीनदयाल चलित अस्पताल मोबाईल यूनिट के माध्यम से कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये स्वास्थ्य विभाग का पूरा अमला, जिला व स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर एवं ग्रामीण स्तर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम के सहयोग से सभी अपनी जिम्मेदारी को जवाबदारी के साथ पूर्ण करने का कार्य कर रहे है ताकि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण जैसी खतरनाक व जानलेवा बीमारी को ग्रामीणों तक न पहुंचने दिया जाये एवं बीमारी पर जांच के माध्यम से काबू पाया जा सके। 

कोरोना से बचाव के बता रहे उपाय 

कोविड प्रभारी डॉ मथनिया के मार्गदर्शन में गांव गांव जाकर जांच व सेंपल लिया जा रहा है उक्त संबंध में जानकारी देते हुये डॉ रितू पेंद्रों ने गोंडवाना समय से चर्चा के दौरान बताया कि हमारे द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये दीनदयाल चलित अस्पताल मोबाईल यूनिट गांव-गांव पहुंचकर सेंपल लेकर जांच तो किया ही जा रहा है। इसके साथ में इससे बचाव के उपाय भी ग्रामीणों को जानकारी दे रहे है। मास्क का उपयोग अनिवार्य, फिजिकल दूरी, स्वच्छता रखने, इससे संबंधित लक्ष्ण क्या है और यदि ऐसे लक्षण पाये जाने पर तत्काल पास के ही अस्पताल में चिकित्सकों, नर्स, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ताओं या अन्य संबंधित कर्मचारियों को जानकारी तत्काल जांच कराये जाने की सलाह भी दी जा रही है। डॉ रितु पेंद्रों ने आगे जानकारी देते हुये बताया कि दीनदयाल चलित अस्पताल मोबाईल यूनिट में कार्यरत सभी कर्मचारी व चिकित्सा अमला अपना कार्य पूरी जिम्मेदारी व जवाबदारी के साथ कर रहा है। 

No comments:

Post a Comment

Translate