Friday, November 27, 2020

जंग तो चंद रोज होती है, जिंदगी बरसों तलक रोती है-मातृ शक्ति संगठन यूथ विंग समर्पण

जंग तो चंद रोज होती है, जिंदगी बरसों तलक रोती है-मातृ शक्ति संगठन यूथ विंग समर्पण

कोरोना काल में इस तरह मनाया गया शौर्य का सम्मान 2020


सिवनी। गोंडवाना समय। 

शिव की नगरी सिवनी जिला मुख्यालय से चंद महिलाओं ने मिलकर देश भक्ति की अलख जगाने के लिये मशाल जलाकर बीढ़ा उठाया था। धीरे-धीरे मातृशक्ति संगठन की देश भक्ति की यह मशाल आज देश के कोने-कोने में पहुंच गई है और देश भक्ति, देश प्रेम की अलख जगाने के साथ देश की सुरक्षा में तैनात वीर सैनिकों के सम्मान करने वाला संगठन के नाम से देश भर में विख्यात होकर अब पहचान को मोहताज नहीं है। इसके पीछे मातृशक्ति संगठन का सिर्फ यही स्वार्थ है कि भारत देश के बच्चे-बच्चे के अंदर देशभक्ति की भावना जागृत हो और महिलाओं के देशभक्ति की अलख जगाने के लिये किये जाने वाले कार्यों से प्रभावित होकर सिवनी जिले के अधिकांश युवा भी जुड़ गये है जिन्हें यूथ विंग समपणर्् के नाम से जाना जाता है। देशभक्ति के साथ साथ संगठन के द्वारा सामाजिक गतिविधियों में अपनी जिम्मेदारी निभाने में अग्रिम पंक्ति में दिखाई देते है। हम आपको बता दे कि विगत कई वर्षों से देश के वीर शहीदों की स्मृति में एक अनूठा प्रयास करने वाला संगठन जिसने आज तक नि:स्वार्थ भाव से देश की सेवा करने वाले वीर सैनिकों के सम्मान को अपने जीवन का उद्देश्य बना लिया है। मातृ शक्ति संगठन द्वारा प्रतिवर्ष राष्ट्रीय स्तर पर किया जाने वाला कार्यक्रम शौर्य का सम्मान कोरोना काल में शासन के दिशा निदेर्शों का ध्यान रखते हुए किया गया। 

वीरबाला बिंदु कुमरे, प्रवीण सिंह राजपूत, फत्ते सिंह कुड़ोपा, मेजर अमित ठेंगे के घर पहुुंचा संगठन 


जब देश के वीर सैनिक भारत माता की रक्षा में अपने प्राणों की आहुति देतें हैं तब उनके परिजनों के हालात का बखान करना बेहद मुश्किल है और इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए संगठन द्वारा 12 वर्षों से शहीदों के परिजनों को एक ऐसा सम्मान किया जाता है, जो इन शहीद परिजनों ने और कहीं भी महसूस नहीं किया। इस अनूठे सम्मान की श्रृंखला  में मातृ शक्ति संगठन यूथ विंग समर्पण द्वारा सर्वप्रथम  वीरबाला शहीद बिंदु कुमरे के पैतृक गाँव जावरकाठी (बरघाट) पहुँच कर, वीरगति प्राप्त वीरबाला के माता की  चरणवंदना  कर, शाल श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया।

इसके बाद संगठन घंसौर ब्लॉक के भिलाई ग्राम जा कर सिवनी की माटी के दुलारे बलिदानी सपूत प्रवीण सिंह राजपूत की दादी, पिता के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त कर उन्हें सम्मानित किया गया।

इसके बाद बलिदान होकर अमर होने की परिपाटी में सिवनी के सर्वोच्च बलिदान देने वाले पुत्र फत्ते सिंह कुड़ोपा के गृहग्राम कटिया पहुंच कर माता के दर्शन कर उन्हें सम्मानित किया।

शौर्य का सम्मान कार्यक्रम का अगला चरण दिनाँक 26 नवंबर 2020 को छिंदवाड़ा के अमर बलिदानी अमित ठेंगे के माता-पिता के चरण वंदन के साथ सम्मान हुआ। 

वीर जवान भूषण सताई के घर पहुँच कर शोकाकुल  परिवार के दुख में हुआ शामिल 


इसके बाद संगठन ने काटोल (नागपुर)  महाराष्ट्र प्रस्थान कर हाल ही में 14 नवम्बर 2020 को दीपावली के दिन देश की दीवाली काली ना हो जाये इसीलिए हँसते हँसते जम्मू कश्मीर के गुरेज सेक्टर में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में अपनी छाती पर गोलियां खा ली और देश की दीवाली को जगमग कर गए। इस घटना में वीरगति को प्राप्त वीर जवान भूषण सताई के घर पहुँच कर शोकाकुल  परिवार के दुख में सम्मिलित हुआ एवं परिजनों को सांत्वना प्रदान करते हुए उनके आँगन की पवित्र धूलि का संकलन किया। 

26-11 के आतंकी हमले के यौद्धा मुख्तार दाऊद शेख का किया सम्मान 


अंत में  संगठन  नागपुर महाराष्ट्र पहुँच कर एक ऐसे  योद्धा को समान पत्र भेंट करने का सुअवसर प्राप्त किया। जिन्होंने स्वयं 26-11-2008 के भयंकर आतंकी हमले में अपनी बहादुरी का परचम लहरा चुके हैं। ऐसे वीर योद्धा पुलिस आॅफिसर का शुभनाम श्री मुख्तार दाऊद शेख है और ये नागपुर में पुलिस विभाग के कपिल नगर थाना प्रभारी के पद पर कार्यरत हैं। मातृ शक्ति संगठन द्वारा अपनी समर्पण यूथ विंग के साथ  अपने देश के अमर्त्य वीर योद्धाओं को स्मरण करते हुए उनके परिजनों का सम्मान करने का सौभाग्य प्राप्त किया।

No comments:

Post a Comment

Translate