Monday, November 2, 2020

चुटका परमाणु सयंत्र रद्द किया जाये, जनजातिय सलाहकार परिषद का किया जाये गठन-गोंगपा

चुटका परमाणु सयंत्र रद्द किया जाये, जनजातिय सलाहकार परिषद का किया जाये गठन-गोंगपा 

मंडला जिले के समस्त पुलिस थाना व चौकियों में सीसीटीव्ही कैमरा लगाने की मांग 

शांति सुरक्षा हेतु पुलिस सहायकता केंद्र खोले जाने की मांग 


कमलेश गोंड राष्ट्रीय संवाददाता
मंडला। गोंडवाना समय।
 

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी जिला मंडला के जिला अध्यक्ष देवेन्द्र मरावी ने जानकारी देते हुये बताया कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा 1 नवंबर 2020 को महत्वपूर्ण मॉगो को लेकर 11 सूत्रिय ज्ञापन महामहिम राष्ट्रपति, महामहिम राज्यपाल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय व प्रांतीय अनुसूचित जनजाति आयोग के नाम सौंपा गया। जिसमें प्रमुृख मांगों में जनजातीय सलाहकार परिषद का गठन किया जाने की मांग की गई। वहीं चुटका परपाणु याजना रद्द किया जाये एवं जलाशय अभ्यारण पार्क उघोगों के नाम से विस्थापन रोका जाने की मांग की गई। वहीं दलपत शाह अभ्यारण्य की जगह दलपत शाह गऊ अभ्यारण्य बनाकर जैविक दुग्ध डेयरी एवं जनजातीय परम्परागत उघोग खोले जाने की मांग की गई है। इसी तरह आगे अपनी मांगों में गोगपा ने प्राचीन गोंडवाना कालीन एैतिहासिक धरोहर किला महल, बावली तालाब से अतिक्रमण हटाया जाये एवं उन्हें संरक्षित किया जाने की मांग की गई है। 

नर्मदो को प्रदुषण बचाने व महिला तस्करी पर रोक लगाने की मांग 


इसी तरह मण्डला नगरपालिका के 24 वार्ड के नलों द्वारा नर्मदा नदी प्रदूषित हो रही है सभी नालों को एकत्रित करते हुए सीवर प्लांट लगाकर नर्मदा नदी को प्रदूषण से बचाया जाने की मांग की गई है। इसी तरह मण्डला चिकित्सालय में डॉक्टरो की कमी को पूर्ण किया जाये एवं टेक्निकल लैब एवं सी.टी.स्केन की तत्काल व्यवस्था किये जाने की मांग की गई। इसी तरह गोंगपा द्वारा आगामी अपनी मांगों में मण्डला जिले में महिला तस्करी में रोक लगायी जाने की मांग की गई है। पुलिस सहायता केन्द्र मण्डला नगरपालिका में ईलाही चोंक, रब्बानी चौंक, बुधवारी, कृषि मण्डी, बस स्टेण्ड, कारीकोन आदि क्षेत्रों में बनाया जाने की मांग की गई है। 

पिण्डरई पुलिस चौंकी अभिरक्षा में हुई संदिग्ध मौत की पारदर्शी जाँच की जाए

मुख्यमंत्री द्वारा मण्डला जिले को धार्मिक नगरी घोषित किया गया है उसके पश्चात भी मुख्यालय एवं उसके 5 किमी के अन्दर अवैध शराब का कारोबार चल रहा है जिसमें रोक लगाई जाने की मांग की गई है। इसके साथ ही गोंगपा के द्वारा अपनी अगली मांग में दिनांक 16/10/2020 को पिण्डरई पुलिस चौंकी अभिरक्षा में हुई संदिग्ध मौत की पारदर्शी जाँच की जाए एवं आरोपी पाये जाने पर आरोपियों के खिलाफ एफ.आई.आर.की जाये एवं उन्हे जोन से बाहर भी किया जाने की मांग की गई है। वहीं गोंगपा द्वारा यह भी मांग की गई है कि पिण्डरई चौंकी की घटना को देखते हुए मण्डला जिले के सभी थाने एवं चौंकियों मे सीसी टीवी क ैमरा लगाये जायें जिससे पारदर्शिता बनी रहे। इन समस्त माँगो को लेकर एक माह के अन्दर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी को की गई कार्यवाही से अवगत कराया जाने की मांग की गई है। 

आंदोलन से पहले गोंगपा के साथ कलेक्टर, डी आई जी, एस पी ने की थी चर्चा 


गोंडवाना गणतंत्र पार्टी की चेतावनी भरा जन आंदोलन की हुंकार ने  शासन प्रशासन के मुखिया ने आंदोलन के पहले ही बैठक कर चर्चा किया। हम आपको बता दे कि हाल ही में गोंगपा के द्वारा 1 नवंबर 2020 को एसपी हटावो मंडला बचाओ की आवाज के चलते मध्य प्रदेश शासन ने मंडला एसपी श्री दीपक शुक्ला का स्थांतरण कर दिया था।

वही गोंगपा ने 1 नवम्बर 2020 को मुख्यालय में जन समस्याओ को लेकर आंदोलन करने की घोषणा पूर्व में ही कर दिया था। इसी के चलते गोंगपा के द्वारा किये जाने वाले आंदोलन के मद्देनजर लगातार प्रशासन ने गोंगपा से बैठक कर औपचारिक चर्चा कर संवाद किया।

गोंगपा व पुलिस व प्रशासन के बीच इस दो दिवसीय बैठक की परिचर्चा में कलेक्टर श्रीमती हर्षिका सिंह एवं डीआईजी बालाघाट ने जिले की जनसमस्याओ व सहित कानून व्यवस्था दुरस्त करने की बात कही हैं वही नवनियुक्त एसपी मंडला ने भी बैठक बुलाकर गोंगपा से चर्चा किया। 

No comments:

Post a Comment

Translate