Saturday, December 19, 2020

गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन ने भरी हुंकार, फर्जी जाति प्रमाण पर नौकरी करने वालो पर एफआईआर दर्ज कर किया जाये बर्खास्त

गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन ने भरी हुंकार, फर्जी जाति प्रमाण पर नौकरी करने वालो पर एफआईआर दर्ज कर किया जाये बर्खास्त

गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन शहडोल ने फर्जी जाति प्रमाण पत्र का दुरूपयोग करने पर कार्यवाही को लेकर मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन 


शहडोल। गोंडवाना समय।

फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी कर रहे लोगो के खिलाफ एफ0आई0आर0 दर्ज करवाने एवं बर्खास्त करने एवं अन्य मांगों को लेकर गोंडवाना स्टूडेंट यूनिय के द्वारा शहडोल कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया। गोंडवाना स्टुडेंट यूनियन इंडिया शहडोल द्वारा 88 लोग फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर शासकीय सेवा का लाभ ले रहे है। इनके खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की मांग की गई है। 

जनजातियों की जमीन खरीदने-बिक्री में भी उपयोग कर रहे फर्जी जाति प्रमाण पत्र 


गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन द्वारा सौंपे गये ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि फर्जी अनुसूचित जनजाति के लोगों के द्वारा अनुसूचित जनजातियों की जमीन को औने पौने दामों में क्रय कर रहे है। जबकि इनमें से पनिका जाति समुदाय मूल रूप से डिण्डौरी, मंडला, बालाघाट के निवासी है जिनका अनिवार्य राजस्व रिकार्ड सन 1958-59 एवं 1960 एवं वर्तमान 2018-19 का राजस्व रिकार्ड एवं सरपंच द्वारा प्रमाणित जाति निवास प्रमाण पत्र सहित दिनांक 27.07. 2018 डाक के माध्यम से (1) जनजातीय आयोग भोपाल (2) प्रमुख सचिव जनजातीय कार्य विभाग (3) आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग (4) संचालक अर्द्धघुमक्कड़ कल्याण विभाग भोपाल को भेजे थे और आयोग के पत्र क्रं0 4570 भोपाल दिनांक 28.08.2018 थे माध्यम से संबंधित जिलो के कलेक्टर को जॉच हेतु भेजा गया था किन्तु आज दिनांक 17.12.2020 तक संबंधित जिला कलेक्टर द्वारा जॉच कर कोई कार्यवाही नहीं की गई और न ही छानबीन समिति/आयोग को कोई जॉच प्रतिवेदन प्रेषित नहीं की गई। 

कार्यवाही नहीं होने से फर्जी जाति प्रमाण वालों के हौंसले बुलंद, धमकी भी दे रहे 


गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन द्वारा सौंपे गये ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि उपरोक्त संबंध में पुन: कलेक्टर शहडोल को से शिकायत की गई थी और कलेक्टर महोदय द्वारा क्रमांक/शिकायत/ फा.399/19/5815 शहडोल दिनांक 02.09.2019 को अनूपपुर, उमरिया, डिण्डौरी जिला को कार्यवाही के लिये शिकायत प्रतिवेदन भेजा गया था किन्तु आज दिनांक तक संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ किसी भी जिले में कोई कार्यवाही नहीं की गई। यह है कि कार्यवाही न होने की वजह से ये फर्जी जाति प्रमाण पत्र धारियों द्वारा शिकायतकतार्ओं को धमकाया जाता है। ऐसी स्थिति में यदि शिकायतकतार्ओं के साथ कोई अप्रिय घटना होती है तो उसकी सम्पूर्ण जवाबदारी शासन प्रशासन की होगी। 

वास्तविक जनजातियों को नहीं मिल रहा रोजगार


गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन द्वारा सौंपे गये ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि शहडोल संभाग अंतर्गत अनूपपुर जिले में शासन की रिपोर्ट एवं एक प्रादेशिक समाचार पत्र के अनुसार 2730 फर्जी जाति प्रमाण पत्र अवैध तरीके से बने है जो विभिन्न विभागों में शासकीय सेवा में कार्यरत है इनकी भी जॉच कराकर एफ0आई0आर0 दर्ज कर संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाये। ऐसे लोगो के कारण असली अनुसूचित जनजातियों को शासकीय विभाग में रोजगार का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जिससे हम युवाओं में आक्रोश है एवं हम लोग बेरोजगार घुम रहे है। यदि शासन प्रशासन के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जाती है तो समस्त अनुसूचित जनजाति वर्ग के युवा-युवतियां उग्र आंदोलन, धरना, भूख हड़ताल, आमरण अनशन, करने के लिये मजबूर होगा। जिसकी सम्पूर्ण जवाबदारी शासन प्रशासन की होगी । 

जनजातियों की जमीन पर कब्जा करने वाले गैर जनजातियों पर की कार्यवाही 


गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन द्वारा सौंपे गये ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि वहीं अनुसूचित जनजातियों के जमीनों पर कब्जा जमाये बैठे भू-माफियाओं पर कठोर कार्यवाही करने व भू-स्वामी को उनकी भूमि वापस एवं भूमि पर अधिकार दिलाया जाये। उक्त संबंधित व्यक्तियों के ऊपर एफ0आई0आर0 दर्ज कर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने एवं गई कार्यवाही से अवगत कराये जाने की मांग किया है। ज्ञापन सौंपते समय गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन शहडोल के पदाधिकारी व सदस्यगण मौजूद रहे। 

No comments:

Post a Comment

Translate