Tuesday, December 22, 2020

रमा तेकाम की चौथी काव्य संग्रह ''वेदना'' का विमोचन के साथ ही साहित्य साधक से हुआ सम्मान

रमा तेकाम की चौथी काव्य संग्रह ''वेदना'' का विमोचन के साथ ही साहित्य साधक से हुआ सम्मान 

पुस्तक ''वेदना'' नारी व्यथा, प्रकृति की भावनाओं एवं वर्तमान परिस्थितियों को समेटे हकीकत को दशार्ते भाव से भरी हुई है


सिवनी। गोंडवाना समय।

अंतरा शब्द शक्ति प्रकाशन वर्ष 2020 की विषम परिस्थितियों में भी साहित्य के क्षेत्र पर निरंतर कार्य करता रहा है। उसी के तहत लॉकडाउन में लिखी 22 रचनाकारों की 22 पुस्तकों का विमोचन कार्यक्रम 20 दिसम्बर 2020 दिन-रविवार को अंतरा शब्द शक्ति संस्था व प्रकाशन की संस्थापक डॉ प्रीति समकित सुराना जी के घर वारासिवनी (बालाघाट) में हुआ। 

स्व. डालचंद्र जी चोपड़ा जी की स्मृति में सम्मान राशि-पत्र से किया सम्मानित  


जहाँ रमा ''प्रेम - शांति'' तेकाम की काव्य संग्रह  पुस्तक ''वेदना'' का विमोचन, अन्य 21 काव्य संग्रह के साथ हुआ। रमा तेकाम जी की पुस्तक ''वेदना'' नारी व्यथा, प्रकृति की भावनाओं एवं वर्तमान परिस्थिितयों को समेटे हकीकत को दशार्ते भाव से भरी हुई है। इसके साथ ही '' साहित्य साधक सम्मान 2020'' एवं आयोजक श्रीमती प्रेम बुलाकी सुराना जी ने अपने पिता स्व. डालचंद्र जी चोपड़ा जी की स्मृति में रमा तेकाम को सम्मान वस्त्र, सम्मान-पत्र व 1500 रुपए की नगद राशि भेंट स्वरूप दी। 

अन्तरा शब्द शक्ति संस्था व प्रकाशन को आभार व्यक्त किया 


इस भव्य आयोजन में अंतरा परिवार की संस्थापक डॉ प्रीति समकित सुराना, कवि दिनेश देहाती, डॉ भारती सुराना, संजय रूसिया, संदीप सोनी, सरफराज हुसैन, समकित सुराना, अलका चौधरी, मीना जैन, वंदना तेकाम, अदिति रूसिया, पुष्पा कनोजे, टीना सोनी, शिखा माधवानी, भवि सुराना, कान्हा, ॠषि जैन, भव्य सुराना, तन्मय सुराना, सौरभ संचेती, अमन मॉडल, विलास मॉडल आदि साहित्य प्रेमी उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम हेतु रमा तेकाम ने अपने परिवार अन्तरा शब्द शक्ति संस्था व प्रकाशन को बहुत बहुत धन्यवाद, आभार व्यक्त किया है। 

No comments:

Post a Comment

Translate