Saturday, February 6, 2021

आदिवासी देवराम इनवाती से शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी ने डंफर बेचने के नाम पर लिये 2 लाख रूपये नहीं कर रहे वापस

आदिवासी देवराम इनवाती से शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी ने डंफर बेचने के नाम पर लिये 2 लाख रूपये नहीं कर रहे वापस 

आदिवासी ने 2 लाख रूपये की करने के मामले में कार्यवाही के लिये एसपी कलेक्टर को दी शिकायत 


सिवनी। गोंडवाना समय। 

आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती के शिक्षक दया राम सूर्यवंशी ने 2 लाख रुपए वाहन बेचने के नाम पर धोखाधड़ी करते हुये न तो वाहन दिया और न ही 2 लाख रुपए वापस कर रहे है। वहीं आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती 2 लाख रूपये वापस शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी से मांगने के लिये संपर्क करते है तो उन्हेें वह धमकाते है उक्त संबंध में कार्यवाही कर 2 लाख रूपये वापस दिलाने के लिये पुलिस अधीक्षक सिवनी व कलेक्टर के साथ ही मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, श्री नरोत्तम मिश्रा गृह मंत्री, अनुसूचित जनजाति आयोग नई दिल्ली व भोपाल, पुलिस महानिदेश भोपाल व अनुसूचित जाति, जनजाति कल्याण थाना प्रभारी सिवनी को भी शिकायत दिया है। 

बारह लाख पच्चहतर हजार रुपए में तय हुआ था डंफर बेचने का सौदा 

आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती द्वारा शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी से 2 लाख रूपये वाहन के नाम पर धोखाधड़ी करने के बाद वापस नहीं करने पर श्रीमान पुलिस अधीक्षक सिवनी व सिवनी कलेक्टर के नाम दी गई शिकायत में उल्लेख किया है कि शिक्षक दयाराम सूर्यवंषी के द्वारा डम्फर वाहन जिसका कलर नीला सफेद तथा इसकी क्षमता 5759 सी सी है और डंफर वाहन का आरटीओर पंजीयन क्रमांक एमपी22जी2897 जिसका इंजन नंबर डीएसईजेड411991 तथा चेचिस नंबर एमबी1जी3डीवायसी4डीईएसएल7300 है। जो वाहन आरटीओ कार्यालय सिवनी में 18/11/2013 को पंजीकृत हुआ था। डंफर वाहन क्रमांक एमपी22जी2897 को बेचने का सौदा अनावेदक दयाराम सूर्यवंषी के द्वारा दिनांक 21/11/2016 दिन सोमवार को 12, 75, 000/- बारह लाख पच्चहतर हजार रुपए में तय हुआ था। 

शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी को 2 लाख रुपए का दिया चैक 

आगे शिकायतर्ता आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती ने अपनी शिकायत में उल्लेख किया है कि शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी के द्वारा नोटराईज स्टांप पेपर 21/11/2016 को लिखा पढ़ी की गई थी और 2 लाख रुपए का बैंक आफ महाराष्ट्र का चैक क्रमांक 259626 बयाना के रूप में शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी को देवी प्रसाद इनवाती के द्वारा दिया गया था और शेष रकम फाईनेंस करवाकर देने की बात लिखा पढ़ी में हुई थी।
            वहीं  शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी को चैक के माध्यम से बैंक से 2 लाख रुपए का भुुगतान भी हो चुका था। जब आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती डंफर वाहन क्रमांक एमपी22जी2897 और वाहन की आरसी बुक लेने के लिये शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी के पास गया तो उन्होंने कहा कि मेरा डंफर वाहन किराये से चल रहा है आप एक महिने बाद ले जा लेना और वाहन के कागज भी साथ ले लेना।

स्टांप पेपर में लिखा पढ़ी के बाद भी मुकर गये 

देवी प्रसाद इनवाती ने जब लगभग 1 माह बाद फिर शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी से डंफर वाहन व आरसी बुक व अन्य दस्तावेज के लिये संपर्क किया तो शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी ने कहा कि मुझे डंफर अब नहीं बेचना है मैं तुम्हारे 2 लाख रुपए वापस कर दुंंगा तो आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती ने शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी से कहा कि आपने डंफर वाहन बेचने का सौदा कर लिये हो 2 लाख रुपए ले लिये हो और नोटराईज स्टांप पेपर पर लिखा पढ़ी भी हो चुकी है तो अब सौदा से क्यों मुकर रहे हो, तो शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी ने कहा कि अब मुझे डंफर नहीं बेचना है, मैं तुम्हें तुम्हारे 2 लाख रुपए लौटा दुंगा यह कहकर आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती को डंफर वाहन नहीं दिया और न ही कोई दस्तावेज दिया।

मेरे से संपर्क करने घर आयेगा तो ठीक नहीं होगा 

शिकायत में आदिवासी देवी प्रसाद इनवाती ने उल्लेख किया है कि जब भी वह शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी से 2 लाख रुपए वापस देने के लिये संपर्क करता था या डंफर वाहन देने के लिये संपर्क किया तो वह हमेशा आनाकानी करते थे, बहाना बना देते थे कि अभी मेरे घर में परेशानी है, अभी मेरे पास रूपया पैसा नहीं है जब 2 लाख रुपए हो जायेंगे तो मैं वापस कर दुंगा और मेरे से संपर्क करने मत आना यह कहने लगा, यदि मेरे से संपर्क करने घर आयेगा तो ठीक नहीं होगा ।

अब तू पुलिस से जाकर ही 2 लाख रुपए मांग 

आदिवासी देवराम इनवाती ने दी गई शिकायत में उल्लेख किया है कि धीरे धीरे करके कई माह व साल बीत गये और वह मानसिक, आर्थिक, शारीरिक रूप से परेशान हो गया तो फिर आदिवासी देवराम इनवाती ने इसकी शिकायत पुलिस थाना अजाक व बरघाट में भी किया था लेकिन कोरोना संकट के कारण सुनवाई पुलिस द्वारा नहीं की गई।
            वहीं जैसे ही आदिवासी देवराम इनवाती ने पुलिस से शिकायत किया था तो इसकी जानकारी शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी को मिलने पर अपमानित करते हुये कहा गया कि अब तू पुलिस से जाकर ही 2 लाख रुपए मांग, अब मैं तेरे को 2 लाख रुपए वापस नहीं करूंगा।
            आदिवासी देवराम इनवताी से शिक्षक दयाराम सूर्यवंशी जहां पर भी मिलते है तो यह कहते है कि मेरी पुलिस से शिकायत किया था क्या हुआ तेरे 2 लाख रुपए पुलिस वालो ने दिलवाये क्या, मेरा क्या बिगाड़ लिया तूने अब तेरे को 1 रुपए भी वापस नहीं मिलेंगे तेरे 2 लाख रुपए डूब गये। 

80 हजार रूपये किराये के हिसाब से 3 माह का काट लिया मैंने 2 लाख रूपये 

वही इस मामले में जब गोंडवाना समय द्वारा शिक्षक श्री दयाराम सूर्यवंशी से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है पूर्व में देवराम इनवाती के द्वारा पुलिस को शिकायत दी गई थी। वहां पर सारा निर्णय हो चुका है। देवराम इनवाती ने डंफर वाहन खरीदने के लिये सौदा किया था लेकिन 3 महिने तक नहीं ले गया इसलिये मेरे द्वारा 80 हजार रूपये के हिसाब से प्रतिमाह नुकसान किया है क्योंकि मेरा डंफर वाहन नहर के काम में 80 हजार रूपये प्रतिमाह के हिसाब लगाये जाने के लिये मांगा जा रहा है जिसे मैंने देवराम इनवाती के कारण नहीं दिया था इसलिये मेरा तीन माह तक नुकसान हुआ इसके बदले में मैंने 2 लाख रूपये काट लिया। इसलिये मुझे 2 लाख रूपये अब देना नहीं रह गया है वह मेरी झूठी शिकायत कर रहा है। 


No comments:

Post a Comment

Translate