गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Sunday, February 14, 2021

अनुसूचित जाति वर्ग के साथ 4 लाख 40 हजार की धोखाधड़ी, बाऊंस चैक देकर रजिस्ट्री, आपत्ति के बाद भी हो गया नामांतरण

अनुसूचित जाति वर्ग के साथ 4 लाख 40 हजार की धोखाधड़ी, बाऊंस चैक देकर रजिस्ट्री, आपत्ति के बाद भी हो गया नामांतरण 


सिवनी। गोंडवाना समय।

भू-माफियाओं को बढ़ावा कैसे मिलता है जब उन्हें शासन-प्रशासन का संरक्षण या संबंधित विभागों के कुछ अधिकारियों व कर्मचारियों की मिलीभगत सांठगांठ उनके साथ होती है। इसी का फायदा उठाकर संबंधितों को लाभ में पहुंचाकर विभागीय अधिकारी कर्मचारियों के साथ मिलकर भू-माफिया हो या दबंगता के आधार पर अपने कार्यों को अंजाम देकर लोगों का आर्थिक शोषण, धोखाधड़ी बेधड़क करते है। 

            ऐसा ही एक मामला अनुसूचित जाति वर्ग के रामराज गूजर ग्राम छीतापार पुलिस थाना कान्हीवाड़ा के साथ में श्रीमती मनीषा सनोडिया उनके पति श्री राजेश सनोडिया ग्राम पीपरडाही पुलिस थाना लखनवाड़ा के द्वारा जमीन खरीदने और रजिस्ट्री के समय 4, 40,000 हजार रूपये का पंजाब नेशनल बैंक का चैक दिया गया था। रजिस्ट्री होने के पश्चात जब विक्रेता रामराज गुजर के द्वारा अपने खाता नंबर पर चैक जमा करवाया तो वह बाऊंस हो गया।

बाऊंस चैक लेकर न्याय के लिये भटक रहा पीड़ित  


वहीं क्रेता श्रीमती मनीषा सनोडिया व उनके पति श्री राजेश सनोडिया के द्वारा जमीन को बाऊंस चैक के आधार पर खरीद लिया गया और नायब तहसीलदार के यहां पर नामांतरण की कार्यवाही करवाकर जमीन में अपना नाम व ऋणपुस्तिका भी बनवा लिया है।
        जबकि विक्रेता रामराज गूजर के द्वारा चैक बाऊंस होने की सूचना व प्रमाण के साथ नामांतरण पर रोक लगाये जाने के लिये नायब तहसीलदार के यहां पर विधिवत आवेदन प्रस्तुत कर आपत्ति भी दर्ज करवाया गया था लेकिन नायब तहसीलदार द्वारा आपत्ति को मानते हुये नामांतरण कर दिया गया।
         अब अनुसूचित जाति वर्ग का व्यक्ति ने अपनी जमीन तो बेच ही दिया है लेकिन उसे 4 लाख 40 हजार का बाऊंस चेक लेकर न्याय पाने के लिये भटकना पड़ रहा है। पुलिस प्रशासन व जिला प्रशासन को शिकायत करने के बाद भी परिणाम अनुसूचित जाति वर्ग के पक्ष में शून्य की स्थिति में नजर आ रहा है।  

आपत्ति लगाने के बाद भी नायब तहसीलदार बण्डोल ने कर दिया नामांतरण 

इस मामले में रजिस्ट्री के दौरान दिये गये चैक के बाऊंस हो जाने के बाद विक्रेता रामराज गूजर के द्वारा नामांतरण की कार्यवाही पर रोक लगाते हुये नामांतरण नहीं किये जाने के लिये 7 जून 2019 को आवेदन प्रस्तुत किया गया था। विक्रेता के द्वारा नायब तहसीलदार बण्डोल को दिये गये आवेदन में उल्लेख किया गया था कि बंडोल राजस्व निरीक्षक मंडल अंतर्गत मौजा सालीवाड़ा, प.ह.नं. 40 में स्थित भूमि खसरा नंबर 131 रकबा 1.92 हेक्टेयर को विक्रेता श्री रामराज गुजर के द्वारा क्रेता श्रीमती मनीषा पति श्री राजेश सनोडिया के बीच में पंजीकृत बैनामा 3 मई 2019 को बयनामा क्रमांक एम पी 368082019 ए 1298967 के अनुसार क्रेता-विक्रेता के बीच में हुआ था।
        जिसमें क्रेता के द्वारा बयनामा चैक क्रमांक 517040 पंजाब नेशनल बैंक का 4 लाख 40 हजार रूपये का चैक दिया गया था लेकिन चैक के भुगतान की तिथि से पूर्व ही नामांतरण की कार्यवाही किया जा रहा है। इस पर विक्रेता के द्वारा आपत्ति दर्ज कराई गई थी जिसमें क्रेता के पक्ष में नामांतरण नहीं किये जाने का आग्रह किया गया था। विक्रेता ने बताया कि मेरे द्वारा प्रस्तुत किये आपत्ति आवेदन के बाद भी नायब तहसीलदार के द्वारा नामांतरण कर दिया गया जबकि मुझे क्रेता के द्वारा दिया गया चैक बाऊंस चैक दिया गया था। 

धोखाधड़ी की पुलिस व प्रशासन से किया शिकायत पर नहीं हो रही कार्यवाही 


अनुसूचित जाति वर्ग के विक्रेता रामराज गूजर के द्वारा अपनी जमीन को विक्रय करने के बाद के्रता के द्वारा 4 लाख 40 हजार रूपये का बाऊंस चैक देकर जमीन क्रय कर नामांतरण करवा लिये जाने पर अपने साथ हुई धोखाधड़ी को लेकर पुलिस अधीक्षक सिवनी व कलेक्टर सिवनी को 21 जून 2019 और 13 जनवरी 2021 को अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार अधिनियम व धोखाधड़ी किये जाने की कार्यवाही करने के लिये आवेदन प्रस्तुत किया गया था।
         जिसमें उन्होंने उल्लेख किया था कि 3 मई 2019 को बयनामा हुआ था जिसमें बंडोल राजस्व निरीक्षक मंडल अंतर्गत मौजा सालीवाड़ा, प.ह.नं. 40 में स्थित भूमि खसरा नंबर 131 रकबा 1.92 हेक्टेयर को 6 लाख रूपये में सौदा हुआ था, जिसमें क्रेता श्रीमती मनीषा पति श्री राजेश सनोडिया के द्वारा 4 लाख 40 हजार रूपये का पंजाब नेशनल बैंक का चैक क्रमांक 517040 दिया गया था।
         जिसे विक्रेता के द्वारा अपने खाते में जमा करने के बाद वह उक्त चैक बाऊंस हो गया था। अनुसूचित जाति वर्ग के विक्रेता के साथ हुई धोखाधड़ी करने वाले क्रेता पर कार्यवाही किये जाने आवेदन देने के बाद कार्यवाही नहीं हो पाने से वह परेशान व प्रताड़ित हो रहा है। 

No comments:

Post a Comment

Translate