Sunday, March 28, 2021

मुख्यमंत्री ने जिला अस्पताल सिवनी को निरंतर उत्कृष्टता कायाकल्प अवार्ड 20-21 से किया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने जिला अस्पताल सिवनी को निरंतर उत्कृष्टता कायाकल्प अवार्ड 20-21 से किया सम्मानित 

मुख्यमंत्री ने कहा शासकीय स्वास्थ्य संस्थाएँ प्रदेश की जनता की होंगी पहली प्राथमिकता 

स्वच्छ, सुंदर एवं स्वास्थ्य सुविधाओं से सुसज्जित, सुदृढ़ीकृत रखने हेतु जिला प्रशासन है संकल्पित 


सिवनी/भोपाल  गोंडवाना समय।

कलेक्टर सिवनी डॉ राहुल हरिदास फटिंग के निर्देशन और सतत मॉनिटरिंग, स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य विभागों की टीमों द्वारा जिला चिकित्सालय सिवनी में जन स्वास्थ्य के लिए आवश्यक संसाधन एवं स्वास्थ्य सुविधाएं के सुदृढ़ीकरण हेतु किए गए अथक प्रयासों के परिणाम स्वरुप शासन स्तर से गठित दलों द्वारा विभिन्न चरणों में मूल्यांकन के उपरांत सिवनी जिला चिकित्सालय को निरंतरता उत्कृष्टता कायाकल्प अवार्ड 2020-21 के लिए चयनित किया है । 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मिंटो हाल में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कायाकल्प अभियान के अंतर्गत श्रेष्ठ जिला चिकित्सालयों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को अवार्ड वितरित किये। इस दौरान मुख्यमंत्री ने सिवनी जिला चिकित्सालय को निरंतर उत्कृष्टता कायाकल्प का अवार्ड सिविल सर्जन डॉ व्ही के नावकर को प्रदान किया। 

कलेक्टर ने धन्यवाद के साथ दी बधाई 


जिले की इस उपलब्धि में जनप्रतिनिधियों, मीडिया, नागरिकों, प्रशासन के विभिन्न विभागों एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम के सहयोग की महती भूमिका है। इसके लिए प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से अपना अमूल्य योगदान देने के लिए कलेक्टर डॉ राहूल हरिदास फटिंग द्वारा सभी को धन्यवाद और बधाई देते हुये उन्होंने कहा कि जिला चिकित्सालय को आप सभी के सहयोग से स्वच्छ, सुंदर एवं स्वास्थ्य सुविधाओं से सुसज्जित, सुदृढ़ीकृत रखने हेतु जिला प्रशासन संकल्पित है। 

इन मापदंडों पर होता है मूल्यांकन


छह श्रेणी में 250 बिन्दुओं पर मूल्यांकन किया जाता है। मरीज को अच्छा वातावरण, ओपीडी में सुविधाएं, जांच, दवा वितरण में कम समय, बिल्डिंग का रखरखाव, संक्रमण रोकथाम व बायो मेडिकल वेस्ट का निपटान, सहायक सेवाएं, मूलभूत सुविधायें जैसे पेयजल, बैठक व्यवस्था शौचालय, पंखे, कूलर, एसी आदि की व्यवस्था व प्रोटोकॉल देखा जाता है।

अस्पताल के विकास में खर्च होती है राशि

पुरस्‍कार से मिलने वाली राशि अस्पताल के विकास पर खर्च की जाती है। इससे मरीजों से जुड़ी सुविधाओं का विकास किया जाता है। इस अवार्ड की कसौटी पर खरे उरतने वाले अस्पतालों के नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड (एनक्यूएएस) में भी आने की उम्मीद रहती है। एनक्यूएएस में आने के बाद प्रति बेड हर साल 10 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

तो व्यक्ति यही कहता है कि डॉक्टर तुम भगवान हो


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमें शासकीय अस्पतालों की सेवाओं और स्वच्छता को निरंतर बेहतर बनाना है। प्रदेश ‍में यह धारणा बने कि शासकीय अस्पताल में यदि जगह नहीं मिलेगी, तो ही हम प्राइवेट अस्पताल में जायेंगे। शासकीय स्वास्थ्य संस्थाएँ प्रदेश की जनता की पहली प्राथमिकता होंगी। बेहतर व्यवहार,स्वच्छता और सही इलाज मिल जाये तो व्यक्ति यही कहता है कि डॉक्टर तुम भगवान हो। हमारी कोशिश यही है कि तकनीक का उपयोग कर हम सम्पूर्ण प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में भी जन-जन को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध करा सकें। इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए आज प्रदेश के 550 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर विशेषज्ञ टेली मेडिसिन सेवा और सुरक्षित मातृत्व सुनिश्चित करने के लिए राज्य-स्तरीय इन्टीग्रेटेड कमांड सेंटर 'सुमन' का शुभारंभ किया गया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान मिंटो हाल में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कन्या पूजन के साथ आरम्भ हुए इस कार्यक्रम में 'मध्यप्रदेश गान' हुआ तथा हब एण्ड स्पोक माडल पर आधारित टेलीमेडिसिन सुविधा और सुरक्षित मातृत्व के लिए आरंभ 'सुमन' पर वीडियो प्रस्तुतिकरण किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कायाकल्प अभियान के अंतर्गत श्रेष्ठ जिला चिकित्सालयों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को अवार्ड वितरित किये। कार्यक्रम में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, सचिव और आयुक्त स्वास्थ्य श्री संजय गोयल और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक सुश्री छवि भारद्वाज उपस्थित थीं।

इन अस्पतालों को मिला कायाकल्प अवार्ड


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य स्तरीय कार्यक्रम में कायाकल्प अवार्ड वर्ष 2020-21प्रदान किये। स्वास्थ्य संस्थाओं में स्वच्छ वातावरण विकसित करने के लिए वर्ष 2015 से कायाकल्प अभियान की शुरूआत की गई है।
        पचास‍ लाख रुपए का प्रथम अवार्ड सेठ गोविंद दास जिला चिकित्सालय जबलपुर को, बीस लाख रुपए का द्वितीय अवार्ड जेपी अस्पताल भोपाल को, दस लाख रुपए का तृतीय अवार्ड जिला चिकित्सालय विदिशा, निरंतर उत्कृष्टता पुरस्कार जिला चिकित्सालय सिवनी और फास्टेस्ट इम्प्रूविंग पुरस्कार जिला चिकित्सालय नीमच को प्रदान किया गया। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर प्रथम पुरस्कार इछावर जिला सीहोर, द्वितीय पुरस्कार संयुक्त रूप से रामनगर जिला सतना तथा पाटन जिला जबलपुर और निरंतर उत्कृष्टता पुरस्कार रानी दुर्गावती सिविल अस्पताल जबलपुर को प्रदान किये गये। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रतिस्पर्धा के भाव के परिणाम स्वरूप जिला चिकित्सालयों में बेहतर होती सेवाओं और स्वच्छता की सराहना की।

No comments:

Post a Comment

Translate