Monday, March 1, 2021

रजक समाज को अनुसूचित जाति वर्ग का लाभ क्यों नहीं दे रही सरकार

रजक समाज को अनुसूचित जाति वर्ग का लाभ क्यों नहीं दे रही सरकार 

संत श्री गाडगे जी महाराज की जयंति कार्यक्रम में समाज की दिखी एकता


सिवनी। गोंडवाना समय। 

धनोरा तहसील में रजक समाज द्वारा संत श्री गाडगे जी महाराज की जयंती मनाई गई। सर्वप्रथम संत श्री गाडगे बाबा जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन किया गया। वहीं अतिथि स्वागत के पश्चात स्वागत भाषण पर कार्यक्रम आयोजक धनोरा इकाई के अध्यक्ष श्री राम प्रसाद निर्मलकर द्वारा बताया गया कि सम्पूर्ण जिले के सहयोग से एवं पूर्व विधायक ठाकुर रजनीश सिंह एवं जनपद सदस्य श्री प्रदीप जैन द्वारा प्रदान की गई राशि से धनोरा में संत श्री गाडगे बाबा जी का छोटा सा भवन तैयार हो रहा है। वहीं अभी इसे पूर्ण करने के लिए जनप्रतिनिधियों और समाज का सहयोग अपेक्षित है। जिला अध्यक्ष मुकेश मालवी द्वारा संगठन के विस्तार की बात रखी गई। वैशाली श्रीवत्री द्वारा संत श्री गाडगे बाबा जी पर गीत गाया गया, वहीं सांस्कृतिक कार्यक्रम में बच्चियों के द्वारा नृत्य प्रस्तुत किया गया।

म.प्र में 3 जिले में एससी में आते है रजक समाज 


मुख्य वक्ता के रूप में महासंघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अलकेश रजक द्वारा कहा गया कि हम देश के कई राज्यो में अनुसूचित जाति में आते है, यहां तक कि मप्र में भी तीन जिले भोपाल, सीहोर, रायसेन में भी हम अनुसूचित जाति वर्ग में है और वर्षों से हम अपने अधिकार की मांग कर रहे है इसके बाद भी सरकार हमें हमारा अधिकार क्यों नहीं दे रही है। कहीं ऐसा तो नहीं है कि भारत सरकार में जो अन्य अनुसूचित वर्ग के नेता है वो अड़ंगा लगाते हो, हम शोषित पीड़ित है, हमे हमारा अधिकार मिलना चाहिए। 

कार्यक्रम में ये रहे मौजूद 


कार्यक्रम का सफल संचालन श्री रामगोपाल निर्मालकर एवं प्रीतम रजक द्वारा किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में रजक महासंघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अलकेश रजक, जिला अध्यक्ष मुकेश मालवीय, श्री रामस्वरूप रजक, श्री पतिराम रजक, अधिवक्ता तरुण रजक, महिला इकाई की अध्यक्ष श्रीमती माया रजक, पूर्व विधायक ढाल सिंह मर्सकोले, नवल किशोर श्रीवास्तव, प्रदीप जैन, राधेश्याम निर्मलकर, रामप्रसाद निर्मलकर, प्रीतम रजक, रामकुमार रजक, राधेश्याम रजक, अशोक रजक पहाड़ी, केशव रजक, अमर सिंह रजक सहित नि:शक्त जन आयुक्त संदीप रजक भी कार्यक्रम में उपस्थित रहे। अन्य तहसीलों से समाज जन मातृ शक्ति उपस्थित रही। 

No comments:

Post a Comment

Translate