Monday, March 29, 2021

उगली में अंग्रेजी शराब दुकान से धुरेंडी के दिन भी खूब बिक रही दारू

उगली में अंग्रेजी शराब दुकान से धुरेंडी के दिन भी खूब बिक रही दारू 

ये ही दुकान और व्यापार जिसके सामने सरकार भी नतमस्तक हो जाती है

शुष्क दिवस घोषित नहीं करने से उठ रहे सवाल 


सिवनी। गोंडवाना समय।

अक्सर आम बोल-चाल में चर्चा यही होती है कि नियम, कानून सिर्फ जनता के पालन के लिये ही होते है। राजनैतिक, पूंजीपति, व्यापारियों के लिये नियम कानून शिथिल किये जाते है। शराब वो चीज है जिसके लिये नशा करने वाले कुर्बान है तो वहीं सरकार की जेब भरने वाला सबसे बड़ा व्यापार है इसलिये शराब के मामले में सरकार भी नतमस्तक नजर आती है। इसलिये इस बार धुरेंडी के दिन सिवनी जिले में शुष्क दिवस घोषित नहीं किया गया है और अंग्रेजी शराब दुकान को छूट दी गई है। 


होली के पर्व पर प्रति वर्ष होता है शुष्क दिवस घोषित पर इस बार नहीं क्यों ?

वहीं कच्ची शराब पर कार्यवाही करने वाले जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, आबकारी विभाग जहां कार्यवाही कर रहा है। वहीं होली के त्यौहार के अवसर पर हमेशा धुरेंडी के दिन शुष्क दिवस घोषित किया जाता था लेकिन इस बार शुष्क दिवस घोषित नहीं किये जाने से नागरिकों में यही चर्चा है कि आखिर इस बार शराब की दुकान कैसे खुली हुई है। शराब के कारण विवाद की स्थिति निर्मित अक्सर होती है इसी के चलते महिला संगठन की पदाधिकारियों का कहना है कि शराब दुकानों को बंद रखा जाना था। वहीं उगली क्षेत्र के समाज सुधार व नशा मुक्ति अभियान चलाने वाले लोगों का कहना है कि होली के त्यौहार में शुष्क दिवस हर वर्ष घोषित किया जाता है तो इस बार क्यों नहीं किया गया। इसी को लेकर उगली में एवं अन्य स्थानों पर अंग्रेजी शराब दुकान के खुले होने के कारण जनचर्चा का विषय बन गया है। वहीं होली पर्व में शराब के शौकिन खुलकर खूब खरीदी कर रहे है वहीं शराब दुकानदारों की तिजारी भी भर रही है। वहीं नशा मुक्ति अभियान चलाने वाले लोगों का कहना है कि होली पर्व पर शराब की दुकान बंद रखे जाने के लिये शुष्क दिवस घोषित किया जाना था जैसे कि कुछ जिलों में शुष्क दिवस घोषित किया गया है उसी तरह सिवनी जिले में भी शुष्क दिवस घोषित किया जाना था लेकिन सिवनी जिले में अंग्रेजी शराब दुकान को छूट दी गई जिसे नशामुक्ति अभियान चलाने वाले संरक्षक की भूमिका निरूपित कर रहे है। 

No comments:

Post a Comment

Translate