Sunday, March 7, 2021

आनंद श्याम द्वारा बनाई गई गोंड कलाकृति राष्ट्रपति को भेंट कर मुख्यमंत्री ने किया सम्मान

आनंद श्याम द्वारा बनाई गई गोंड कलाकृति राष्ट्रपति को भेंट कर मुख्यमंत्री ने किया सम्मान 

गोंड चित्रकला के भित्ती चित्र को दीवारों व दरवाजों में सौंदर्यता के लिये बनाई जाती है 

गोंड भित्ती चित्रकला के पहले पुरूष चित्रकार जनगण सिंह श्याम थे


दमोह/सिवनी। गोंडवाना समय। 

दमोह जिले में जनजातिय सम्मेलन में महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द का मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गौंड़ कलाकार श्री आनन्द श्याम द्वारा बनाई गई गौंड़ कलाकृति भेंट कर सम्मान किया।



इस दौरान केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री प्रहलाद पटेल, जनजातीय कार्य विभाग मंत्री सुश्री मीना सिंह मांडवे, केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते और नगरीय विकास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह भी मौजूद रहे।

गोंड भित्ती चित्रकला की पहली महिला चित्रकार थी कलावती श्याम 


गोंडवाना कालीन गोंड चित्रकला भित्ती चित्र है जो कि गोंडवाना कालीन के दौरान दीवारों व दरवाजों पर सौंदर्यता के लिये बनाई जाती थी

लेकिन वर्ष 1980 में भारत भवन का निर्माण होने के पश्चात वहां के डायरेक्टर श्री जे स्वामीनाथन ने इन कलाकारों की खोज खबर ली थी।

उसके बाद ये गोंड चित्रकला की ये भित्ती कला चित्र कागज ओर केनवाश पर आये बाद में ये चित्र भारत ही नहीं विश्व में विख्यात हुये। गोंड भित्ती चित्रकला के पहले पुरूष चित्रकार जनगण सिंह श्याम थे और

महिलाओं में पहली महिला स्व श्रीमती कलावती पति आनंद श्याम चित्रकार थी जिनकी बीते कुछ माह पूर्व ही मृत्यू हुई है।

स्व श्री कलावती श्याम की गोंड चित्रकला की आकर्षक पेंटिंग पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद जी को भेंट दी गई थी जो कि राष्ट्रपति भवन में लगी हुुई है। 

भज्जू सिंह श्याम पदम श्री अवार्ड से हुये है सम्मानित 

गोंड चित्रकला की इस विधा कलाकारों की संख्या लगभग एक सैकड़ा तक पहुंच गई है। इसके लिये विशेष रूप से प्रयास श्री आनंद श्याम जी के परिवारजनों द्वारा प्रशिक्षण प्रदान कर किया गया है ओर उनके परिवारजनों के द्वारा निरंतर प्रशिक्षण देने का कार्य अभी भी किया जा रहा है। श्री आनंद श्याम के द्वारा सिखाये गये चित्रकार उनके छोटे भाई श्री भज्जू सिंह श्याम को इस चित्र के लिये वर्ष 2018 में पदम श्री अवार्ड से सम्मानित किया गया है और श्री आनंद श्याम को इसके लिये वर्ष 2017 में गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया है। 

गोंड चित्र कला के लिये आस्कर अवार्ड भी मिल चुका है


श्री आनंद श्याम ने बताया कि गोंड चित्र विद्या के लिये गोंड कहानी पर 5 मिनिट की फिल्म के लिये वेस्ट आफ द बेस्ट स्काटलेंड के लिये आस्कर आवर्ड मिल चुका है। वहीं गोंड कला के ये चित्र देश ही विदेशों में विख्यात है और कला के क्षेत्र में व प्रमुख भवनों में गोंड कला के ये चित्र गोंडवाना काल का संदेश दे रहे है। मध्य प्रदेश के विधानसभा भवन, भारत भवन, इंदिरा गांधी मानव राष्ट्रीय संग्राहलय भोपाल, जनजाती संग्राहलय भोपाल, नेशनल म्यूजियम नई दिल्ली, जहांगीर आर्ट गैलरी मुंबई, ललित कला अकादमी चैन्नई एवं दिल्ली, बैंगलौर चित्रकला परिषद, कल्लकत्ता, इंग्लैण्ड, फ्रांस, जापान, हॉलेंड, नीदरलैंड, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलेंड, दक्षिण आफ्रिका के अदिसबाबा में कलावती श्याम एवं अन्य कलाकारों के चित्र संग्रहित है। 

संभव सिंह श्याम ट्राईबल आर्ट सेंटर के माध्यम से सिखा रहे गोंड चित्र कला 


वहीं गोंड चित्रकला की कला को प्रशिक्षण के माध्यम से भारत देश व विदेशों के कलाकारों को ट्राईबल आर्ट सेंटर भोपाल में संचालित किया जा रहा है। जहां पर प्रशिक्षण प्रदान कर गोंड चित्रकला सिखाई जाती है। लगभग दस हजार स्टूडेंट को सिखा चुके है। कोरोना काल के दौरान श्री संभव सिंह श्याम आदिवासी कला कें्रद भोपाल से आॅनलॉइन क्लास ले रहे है जिसमें बीस से पच्चीस देश सम्मिलित है। 


No comments:

Post a Comment

Translate