Monday, April 19, 2021

शराब-गांजा बना हत्या का कारण, नाबालिग बेटी-पत्नि और दोस्त बने हत्यारे

शराब-गांजा बना हत्या का कारण, नाबालिग बेटी-पत्नि और दोस्त बने हत्यारे 

बंडोल पुलिस ने अंधे हत्याकांड का किया खुलासा, पत्नी, पुत्री सहित एक युवक गिरफ्तार


सिवनी। गोंडवाना समय।

शराब व नशा शारीरिक, समाजिक, आर्थिक नुकसान, विवाद-अशांति का मूल कारण अधिकांशतय: सामने आता है। सिवनी जिले में ही ऐसी कई घटनायें हो चुकी है जिसमें शराब का नशा करने वालों की हत्या हो चुकी है और हत्यारे के रूप में परिवार के सदस्य ही अपराधी बन गये। इसके साथ ही कई ऐसी घटनायें भी हुई है कि अत्याधिक शराब के नशे में कई बार अपने ही परिजनों की हत्या करने के मामले भी सामने आये है।
        


शराब हो या कोई भी नशा समाजिक चिंता का विषय है, जहां एक ओर शराब का सरकार के लिये राजस्व जुटाने का बड़ा माध्यम है तो वहीं समाजिक न्याय मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रतिवर्ष शराब व नशा से दूर रहने के लिये करोड़ों रूपये का बजट प्रदान कर नशा मुक्ति केंद्र का संचालन किया जा रहा है।
        शराब से हो रही मानवीय क्षति के साथ परेशान व प्रताड़ित होकर हत्या जैसी घटना करने के बाद कानूनी जद में फंसना अत्याधिक गहन गंभीर चिंतन का विषय है। बहरहाल बण्डोल पुलिस द्वारा हत्या का खुलासा कम समय में किया जाना सराहनीय व प्रशंसनीय है लेकिन इस तरह की घटनाओं का होना चिंतनीय भी है। 

17 अप्रैल को मिला था शव  

पुलिस थाना बंडोल में 17 अप्रैल 2021 को संतोष जंघेला निवासी ग्राम बांकी थाना बंडोल की गुसाईघाट के पास नहर में बनी टंकी में मिले शव की सूचना पर बण्डोल पुलिस द्वारा अज्ञात व्यक्ति के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
        प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक श्रीमान कुमार प्रतीक द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री एस. के. मरावी को इस अंधे हत्याकांड की गुथी सुलझाकर आरोपी की गिरफ्तारी के निर्देश दिये गए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक द्वारा अपने सतत निगरानी में अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) सिवनी सुश्री पारुल शर्मा को एक टीम गठित कर इसकी विवेचना हेतु आदेशित किया गया।

शराब व गांजा पीने का था आदि रोज करता था मारपीट 

पुलिस द्वारा गठित टीम ने पारिस्थतिजन्य साक्ष्य व विवेचना के दौरान मुखबिर से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर मृतक की पत्नी सरोज व पुत्री को हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की गई। मृतक की पत्नी ने बताया कि उसका पति संतोष शराब व गांजा पीने का आदी था, मेरे मना करने पर रोज मारपीट करता था पिछले कुछ दिनों से मेरे चरित्र को लेकर उलाहना देता था।
        दो दिवस पहले भी मेरी लड़की जो 17 वर्ष की हैं उसके मोबाइल पर बात करने को लेकर बेटी के साथ मारपीट किया था। पति द्वारा रोज मारपीट और प्रताड़ना से परेशान होकर मैंने बेटी के साथ मिलकर पति को मारने की योजना बनाई। बेटी ने अपने दोस्त को ये बात बताई जिस पर उसके दोस्त जित्तु बंजारा ने अपने अन्य साथी सोनू जंघेला के साथ मिलकर संतोष को मारने की योजना बनाई।

बेटी और पत्नि ने हाथ पैर पकड़ा, दोस्तों ने कर दिया हत्या 

16 अप्रैल 2021 की मध्यरात्रि जित्तु उर्फ जितेन्द्र बंजारा अपने साथी सोनू जंघेला के साथ घर आया। मेरा पति बाहर चबूतरे में रोज की तरह शराब पी कर सो रहा था। मैं अपनी बेटी के साथ उसके पास गयी और पति के हार पैरो को पकड़ लिया। जित्तु व उसके साथी सोनू ने साथ मे लाये लिवर व सब्बल जैसे हथियार से उसके सिर पर वार किये जिससे उसके सिर से खून बहने लगा, कुछ देर बाद वो तड़पकर मर गया। 

नहर में बनी टंकी में फैंक दिया शव 

मारने के बाद योजना अनुरुप जित्तु व उसके साथी सोनू ने मोटरसाइकिल से मेरे पति के शव को छिपाने के लिए गुसाई घाट के पास नहर में बनी टंकी में फेंक दिए। किसी को शक न हो इस कारण मैंने थाना में आकर पति के कही चले जाने को रिपोर्ट करवाई। कथनों के आधार पर बेटी के दोस्त जित्तू उर्फ जितेंद्र बंजारा को हिरासत में लिया गया एवं घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल जप्त कर अन्य आरोपी सोनू जंघेला की तलाश हेतु पुलिस टीम रवाना कर शेष आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया।

गिरफ्तार आरोपी एवं जप्त सामग्री 

श्रीमती सरोज जंघेला पति संतोष जंघेला निवासी बाकी थाना बंडोल, मृतक की नाबालिग पुत्री निवासी बांकी थाना बंडोल, जित्तू उर्फ जितेन्द्र बंजारा निवासी बंडोल।, जप्त संपति 1 मोटर साईकिल हीरो डीलक्स क्र एम पी 22 एमसी 9638, 2. हत्या में प्रयुक्त लीवर रॉड एवं खून लगे कपड़े जप्त किया गया। 

हत्या के खुलासे में इनका रहा सरहानीय कार्य 

हत्या के खुलासे में बण्डोल पुलिस थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर, कार्यवाहक उनि विष्णु शर्मा, महेश दुबे, सहायक उपनिरीक्षक भुजबल प्रजापति, दुर्गा प्रसाद, प्रधान आरक्षक अमर उईके, विनोद बघेल, आरक्षक विश्राम धुर्वे, आरक्षक अजय बघेल, सतीश पाल, दीपेश रघुवंशी, महिला आरक्षक मालती का विशेष योगदान रहा।

No comments:

Post a Comment

Translate