Thursday, April 1, 2021

प्रीति परिहार का देश की सेवा के लिये सीमा सुरक्षा बल में हुआ चयन, ट्रेनिंग के लिये पहुंची पश्चिम बंगाल

प्रीति परिहार का देश की सेवा के लिये सीमा सुरक्षा बल में हुआ चयन, ट्रेनिंग के लिये पहुंची पश्चिम बंगाल 

बिना कोचिंग के घर पर ही की तैयारी, कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा उत्तीर्ण कर मिला, देश की सुरक्षा करने का मौका 

बरघाट विकासखंड के ग्राम बम्हनी की किसान परिवार की बेटी प्रीति परिहार बनी बेटियों के लिये प्रेरणा 


विवेक डेहरिया संपादक/किशोर तेकाम संवाददाता
सिवनी/बरघाट। गोंडवाना समय। 

बरघाट विकासखंड के ग्राम बम्हनी की किसान परिवार की बेटी कु प्रीति परिहार सीमा सुरक्षा बल में देश की सेवा के लिये चयनित हुई है।


हम आपको बता दे कि ग्राम बम्हनी के पिता स्व श्री नरेंद्र परिहार एवं माता श्रीमती ममता परिहार की बेटी कु प्रीति परिहार का परिवार संघर्ष के साथ जीवन-यापन करते हुये मेहनती किसान परिवार के रूप में जाना जाता है। कु प्रीति परिहार ने भी अपने परिवार के संघर्ष की महत्वता को समझते हुये शैक्षणिक अध्ययन में मेहनत करते हुये लक्ष्य बनाकर प्रयास किया। कु प्रीति ने बिना किसी कोचिंग के ही घर पर ही परीक्षा की तैयारी करके बीएसएफ के माध्यम से देश की सेवा में कर्तव्य निभाने के लिये सफलता पाकर मां, दो भाई व बहन सहित परिवारजन, रिश्तेदार, क्षेत्र में प्रसन्नता के साथ खुशियां का माहौल बना दिया है।  

प्रीति ने लगन के साथ अपने मामा जी के यहां रहकर की शिक्षा अध्ययन 

कर्मचारी चयन आयोग द्वारा वर्ष 2018 में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में सपंन्न हुई परीक्षा एवं योग्यता की जांच में फिट जाने पर मुख्यालय सीमा सुरक्षा बल में आरक्षक के पद के लिये चयन होेने के बाद कु प्रीति परिहार ने 31 मार्च 2021 को बीएसएफ कैंप बैकुण्ठपुर, सालेगुड़ा, जिला-जलपाईगुड़ी, पश्चिम बंगाल में ज्वानिंग किया है जहां पर प्रीति परिहार की ट्रेनिंग होगी। प्रीति परिहार ने अपनी प्रारंभ की शिक्षा पहली से आठवीं तक का अध्ययन ग्राम बम्होड़ी में अपने मामा श्री प्रताप सिंह पारधी के यहां पर रहकर प्राप्त की है।
        इसके बाद नौवीं से बारहवीं तक का शैक्षणिक अध्ययन उत्कृष्ट विद्यालय बरघाट से पढ़ाई की है। इसके बाद पीजी कॉलेज सिवनी से एमएससी की पढ़ाई की है। हम आपको बता दे कि प्रीति परिहार की रुचि बचपन से ही देश के लिए डिफेंस, आईएएस आईपीएस की तैयारी करना एवं देश के लिए कुछ करना था। यही रूची को लक्ष्य बनाकर प्रीति ने लगन व कड़ी मेहनत के साथ प्रयास किया और देश की सेवा के लिये उनका चयन हो गया है। 

मां सबसे ज्यादा खुश, हमारा सौभाग्य व परिवार के लिये गर्व की बात 


हालांकि पारिवार की आर्थिक स्थिति प्रारंभ में उतनी मजबूत नहीं थी लेकिन परिवार में दोनो भाई मेहनत करने में भी कहीं पीछे नहीं है। प्रीति के परिवार में मां श्रीमती ममता परिवार के अलावा दो बड़े भाई है। जो कि खेती किसानीं का कार्य करने के साथ-साथ बड़े भाई श्री वीरेन्द्र परिहार व भाई श्री हेमेन्द्र परिहार जेसीबी मशीन के चालक भी है। इस तरह वे अपने परिवार को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने में प्रयास कर रहे है।
            वहीं प्रीति परिहार की बड़ी बहन श्रीमती संगीता बिसेन का विवाह हो चुका है वह गृहणी के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभा रही है। अपनी छोटी बहन का देश की सेवा सुरक्षा के लिये चयन होने पर अपना सौभाग्य बताते हुये श्री वीरेन्द्र परिहार ने दैनिक गोंडवाना समय से चर्चा करते हुये बताया कि हमारे परिवार व बरघाट ब्लॉक सहित सिवनी जिले के लिये बड़े गर्व की बात है कि हमारी घर की बेटी का देश की सुरक्षा के लिये चयन हुआ।
        हमें अत्याधिक प्रसन्नता व खुशी है वहीं सबसे ज्यादा खुश हमारी मां को हो रही है, उनकी बेटी ने सफलता प्राप्त कर उनके सपनों को पूरा कर दिया है। मैं स्वयं अपनी बहन प्रीति परिहार व उसकी सहेली इंद्रकला उईके को ज्वानिंग कराने के लिये साथ में लेकर आया हूं। 

इंद्रकला उईके और प्रीति परिहार ने साथ में की है तैयारी दोनो का हुआ चयन 

बरघाट विकासखंड के लिये यह बड़े ही गर्व की बात है कि इस क्षेत्र की एक बेटी शहीद बिंदु कुमरे के नाम से जाना जाता है। वहीं अब केसलाकला गांव से इंद्र कला उईके का और बम्हनी गांव से प्रीति परिहार का चयन देश की सुरक्षा व सेवा के लिये हुआ है।
         हम आपको बता दे कि इंद्रकला उईके व प्रीति परिहार दोनो ने परीक्षा की तैयारी में ही किया था। दोनो ने अपने-अपने घर पर ही तैयारी की है लेकिन दोनो सहेली के रूप पढ़ाई करती है। दोनो का चयन बीएसएफ में होने से दोनों के परिवार सहित गांव व क्षेत्र में प्रसन्नता के साथ अन्य बेटियों के लिये प्रेरणा बनी हुई है। 

No comments:

Post a Comment

Translate