Sunday, September 5, 2021

खनिज माफियाओं की घुघरी पुलिस थाने से कुछ दूरी पर खुलेआम गुंडागर्दी, 4 बदमाशों ने छात्र नेता पर किया जानलेवा हमला

खनिज माफियाओं की घुघरी पुलिस थाने से कुछ दूरी पर खुलेआम गुंडागर्दी, 4 बदमाशों ने छात्र नेता पर किया जानलेवा हमला

रात भर थाने में बैठे रहें हरेंद्र और उसके साथी, बमुश्किल पोलिस ने लिखा  एफआईआर, मौके पर पहुंचे एसडीओपी धुर्वे




कमलेश गोंड/राष्ट्रीय संवाददाता
घुघरी/मंडला। गोंडवाना समय। 

मंडला जिले के घुघरी थाना इलाके में गुंडों का खुलेआम आतंक सामने आया है, जहां 4  बदमाशों ने छात्र नेता हरेंद्र मसराम और उसके साथियों पर जानलेवा हमला कर दिया। उक्त घटना शुक्रवार को लगभग रात्रि 8:00 बजे में हरेंद्र मसराम अपने साथियों के साथ घुघरी से मण्डला बाइक से लौट रहे थे तभी मण्डला रोड में सैंट्रल बैंक के सामने आगे जा रही हाइवा क्रमांक एमपी 18 एच 4818 को बहुत देर से हार्न देने पर थोड़ा सा साइड दिया गया, जिससे बाइक निकालने की कोशिश जैसे ही किया तभी उक्त हाइवा वाहन के चालक द्वारा फिर से बीच रोड मे गाड़ी दबा दी, जिससे बाईक सहित गिर गये और गंभीर चोंट के शिकार हो गये, बाइक के इंडीकेटर्स टूट गये। हाईवा के चपेट से बाल बाल बचे छात्र नेता और उसके साथी  उठकर हाइवा का पीछा किया और आगे जाकर ,हाइवा क्रमांक एम पी 18 एच 4818 को रोककर वाहन चालक को समझाया गया कि ऐसा किसी के साथ कभी न करें, कोई भी दुर्घटना हो सकती है ।
            


इतना कहने पर वाहन चालक भड़क गया और अपशब्दों का प्रयोग करने लगा। समझाइश हेतु बात करने पर ड्राइवर ने अपने मालिक को फोन लगाकर बहुत से लोगो को बुलाया गया, गुंडे चार पहिया वाहन एमपी 51 सीए 5712 में सवार होकर आये और हरेंद्र मसराम और उसके साथियों पर हमला कर जातिगत गाली देते हुए मारपीट की गयी और जानसे मारने की धमकी दी गयी। इस दौरान पास ही घुघरी पुलिस थाने को घटना की भनक तक नहीं लगी और न ही पुलिस तत्काल आई, घटना थाने से चंद कदमों की दूरी पर घटी है।

थाने के सामने गुण्डों ने बनाया दहशत का माहौल पुलिस मूकदर्शक बनी देखती रही 


उक्त हमले के बाद रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे पीड़ित युवाओं के साथ थाने के सामने सरेआम गुडांगर्दी हुई, इस दौरान आरोपियों सहित जमावड़ा भीड़ ने दहशत का माहौल बनाया खुलेआम पीड़ितों को मारने काटने की धमकी दी गई और पोलिस मूकदर्शक बनी देखती रही। अब तक यह घटना की खबर सोशल मीडिया में वायरल होते ही गोंडवाना स्टूडेंट्स यूनियन को भनक लगी और सेकड़ो कार्यकर्ता का जत्था उतने रात में ही घुघरी थाना के लिये रवानगी हो गई, देर रात थाना पहुंचकर जीएसयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रताप कुलस्ते एवं राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी कमलेश गोंड सहित जिला अध्यक्ष ब्रजेश धुर्वे तथा गोंगपा युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष संतोष परस्ते ने घटना का संज्ञान लिया, तब जाकर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की, वहीं अब पुलिस जांच और कार्यवाही की बात कर रही है। 

आरोपियों ने गढ़ा मनगढ़ंत कहानी, लगाये 50 हजार लूट का आरोप

सूत्रों के हवाले से खबर हैं कि हाइवा ड्राईवर सहित मालिक ने मिलकर पीड़ित युवाओं के खिलाफ  रिपोर्ट में गाड़ी क्रमांक एम पी 51 एचए 0152 को डीजल लेने जाने वक़्त 50000 लूटकर भागने वाली बात लिखाई गयी हैं जबकि टी आई श्री बघेल से बातचीत में स्पष्ट बताया गया कि साइड लेने देने के विषय पर विवाद हुआ है, साथ ही घटना स्थल में खड़ा वाहन का गाड़ी क्रमांक वायरल वीडियो में स्पष्ट दिखाई दे रहा हैं।

कार्रवाई करने में पुलिस की आनाकानी, जीएसयू, गोंगपा ने किया थाने का घेराव

छात्र नेता के ऊपर हमले को लेकर गोंडवाना स्टूडेंट्स यूनियन ने शनिवार को थाने का घेराव करते हुये आरोपियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर चक्काजाम कर दिया जहां करीब कई घंटे तक हंगामा चलता रहा। फिलहाल आरोपी पोलिस के गिरफ्त में नहीं हैं, जहाँ गोंडवाना स्टूडेंट्स यूनियन के कार्यकर्त्ता ने आरोप लगाया कि पुलिस ने एफआईआर के दौरान न सिर्फ लेट लतीफी की बल्कि आरोपियों को फरार होने में पूरी मदद की।
         यह मामले को पंजीबद्ध करने पोलिस ने पांच घंटे लगा दी, रात 12 बजकर 44 मिनट में पुरे प्रकरण को पंजीबद्ध किया, आरोपी घुघरी निवासी विनय चौकसे, दिनेश चौकसे पर धारा  294, 323, तथा 34 समेत अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अधिनियम 3(1)द, 3(1)ध एवं 3(2) 5 के तहत मामला दर्ज किया। 

2 दिन में आरोपियों को नहीं किया गिरफतार तो घेरेंगे एसपी कार्यालय

आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर गोंडवाना स्टूडेंट्स यूनियन एवं गोंगपा समेत युवा मोर्चा के पदाधिकारी ने हजारों कार्यकर्ताओ के साथ घुघरी पोलिस थाना के सामने चक्का जाम किया, काफी समझाईस के बाद आंदोलन को रोका गया तथा पोलिस को दो दिन की मोहलत देते हुये आरोपियों को गिरफ्तार करने की बात कही एवं अवैध उत्खनन व परिवहन करते हुए वाहन से, कुचलकर जान से मारने की भी कोशिश की गयी है। अत: आई पी सी की धारा-307 एवं 379 और जोडते हुए खनिज अधिनियम के तहत भी कार्यवाही की मांग व बात रखी गयी। गोंगपा ने अपने पत्र में लिखकर चेतावनी दिया हैं कि आरोपियों को दो दिन के अंदर गिरफ्तार नहीं किया जाता हैं तो एसपी कार्यालय घेरा जाएगा।

किसके संरक्षण मे प्रायोजित तरीके से रचा गया यह हमला का षणयंत्र

घटना के कुछ दिन पूर्व से किसी अन्य मामला को लेकर छात्र नेता हरेंद्र मसराम और उसके साथी घुघरी थाने में किसी मामले को लेकर कार्यवाही हेतू मांग कर रहें थे लेकिन शुक्रवार शाम को घटना को अंजाम देने की ताक में बैठे गुंडो ने हमला कर दिया। मामला मारपीट का हैं लेकिन फिर भी आरोपी पक्ष ने मनगढ़ंत कहानी बनाकर लूटपाट करने की झूठी रिपोर्ट लिखाई है, यह किसके संरक्षण मे प्रायोजित तरीके से प्रताड़ित कर मारपीट किया गया, जांच का विषय है।
        इसके साथ ही पोलिस की कार्यवाही पर सवाल उठता हैं कि आरोपियों को गिरफ्तार करने में आनाकानी क्यों ? रिपोर्ट लिखने के विलंब से लेकर अभी तक कोई कार्यवाही ना करना फिलहाल सवाल उठता हैं कि मारपीट करने के बाद  जातिगत रूप से अपमानित कर जान से मारने काटने की धमकी को भी पुलिस अनसुना कर रहीं हैं।  प्रत्येक तथ्यो (झूठा गाडी नंबर, 50000 की झूठी कहानी, बिना रायल्टी की गिट्टी परिवहन, खुलेआम रायल्टी चोरी) के होने के बाद भी आरोपी पोलिस के शिकंजे से दूर हैं, ऐसे कारनामों से ही दिनोदिन अपराधियों के हौंसले बुलंद होते जा रहे हैं।



No comments:

Post a Comment

Translate