Tuesday, October 26, 2021

गोंगपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष व उनके भाई ने अंबेडकर जी कि प्रतिमा को जेसीबी मशीन से तुड़वाने की दिया धमकी

गोंगपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष व उनके भाई ने अंबेडकर जी कि प्रतिमा को जेसीबी मशीन से तुड़वाने की दिया धमकी

गोंगपा किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कुंवर शक्ति सिंह ठाकुर व संग्राम सिंह ठाकुर की प्रताड़ना से परेशान है रिक्खीराम बकोड़े 

घंसौर पुलिस के संरक्षण में गोंगपा नेता की दबंगई से अनुसूचित जाति वर्ग के परिवार का जीना हुआ मुश्किल 

घंसौर थाना प्रभारी ने नहीं दर्ज की रिपोर्ट तो पीड़ित दु:खी होकर पहुंचे पुलिस अधीक्षक कार्यालय 


सिवनी। गोंडवाना समय।

संविधान की रक्षा और संवैधानिक अधिकारों को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के पदाधिकारी पार्टीगत कार्यक्रमों में संविधान निर्माता बाबा साहब अंबेडकर जी का नाम लेकर उनका स्मरण जरूर करते है, इसके साथ ही अनेकों स्थानों पर डॉ बाबा साहब अंबेडकर जी की प्रतिमा स्थापना के लिये गोंडवाना गणतंत्र पार्टी द्वारा सहयोग भी किया जाता है लेकिन सिवनी जिले में घंसौर ब्लॉक मुख्यालय में


संविधान निर्माता डॉ बाबा साहब अंबेडकर जी की प्रतिमा स्थापना किये जाने को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष शक्ति सिंह ठाकुर व उनके भाई संग्राम सिंह ठाकुर को अत्याधिक आपित्त है इसके लिये वे अंबेडकर प्रतिमा निर्माण समिति के अध्यक्ष को जातिगत आधार पर अपमानित करते हुये अंबेडकर जी की प्रतिमा को जेसीबी मशीन से उखड़वाने तुड़वाने की धमकी तक दे रहे है।

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के स्थानीय अन्य पदाधिकारी व अन्य समाजिक संगठनों के पदाधिकारी इस मामले में क्यों खामोश है यह सवाल खड़ा हो रहा है। वहीं कानून के रखवाले वर्दीधारी भी घंसौर में बेसहारा, असहाय नजर आ रहे है आखिर क्यों ?

डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर की आदमकद प्रतिमा नागपुर से खरीदकर घंसौर में लागई गई है

जनजाति बाहुल्य जिला सिवनी के जनजाति बाहुल्य घंसौर मुख्यालय में संविधान निर्माता भारत रत्न डॉ.बी.आर.अम्बेडकर जी की प्रतिमा सार्वजनिक रूप से स्थापित की गई है। जिसे घंसौर के दबंग तत्वों द्वारा जे.सी.बी.मशीन से तोड़फोड़ करने धमकी देकर निर्माण समिति के अध्यक्ष रिक्खी लाल बकोडेÞ को जातिगत आधार पर अपमानित कर जान से मारने की धमकी दी गई है। हम आपको बता दे कि डॉ.बी.आर.अम्बेडकर की प्रतिमा निर्माण समिति के अध्यक्ष रिक्खी लाल बकोडेÞ निवासी घंसौर द्वारा सार्वजनिक सहयोग से डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर की आदमकद प्रतिमा नागपुर से खरीदकर में घंसौर में लागई गई है। 

17 अक्टूबर को संग्राम सिंह ठाकुर ने जातिगत आधार पर अपशब्दों का प्रयोग कर किया अपमानित 


डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर की आदमकद प्रतिमा के स्थापित किए जाने हेतु जनपद पंचायत घंसौर के पास सार्वजनिक स्थान पर शासन से अनुमति प्राप्त कर लगाने का निर्णय लिया गया। घंसौर के जनपद पंचायत के आसपास सार्वजनिक स्थान पर प्रतिमाा स्थापित की गई। जिसका अनावरण जनवरी 2022 में गणमान्य अतिथियों की उपस्थिति में होना है।
            वहीं बीते 17 अक्टूबर 2021 को लगभग 4 बजे शाम को अनावरण समिति के अध्यक्ष रिक्खी लाल बकोडेÞ द्वारा प्रतिमा स्थल के आजू बाजू साफ-सफाई कर रहे थे इतने में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुंवर शक्ति सिंह ठाकुर के अनुज संग्राम सिंह ठाकुर उक्त स्थल पर पहुंचकर अंबेडकर प्रतिमा निर्माण समिति के अध्यक्ष रिक्खी लाल बकोडेÞ को अपशब्दों का प्रयोग करते हुये जातिगत आधार पर अपमानित करते हुये कहने लगे कि  तू यहां पर क्या कर रहा है, तूने जिस प्रतिमा को स्थापित किया है हम उसे जे.सी.बी.मशीन लाकर तुड़वा देगें तथा तुझे एवं तेरे परिवार को जान से खत्म कर देगें। 

घंसौर थाना प्रभारी ने पीड़ित से कहा ठाकुरों से पंगा मत लो, मिल जुलकर रहो 

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुंवर शक्ति सिंह के भाई संग्राम सिंह ठाकुर के द्वारा इस तरह आवेश में आकर जातिगत आधार पर अपशब्दों का प्रयोग कर अपमान करने के मामले की शिकायत करने घंसौर पुलिस थाना में की गई थी परंतु घंसौर थाना प्रभारी द्वारा संविधान निर्माता बाबा साहब अंबडेकर की प्रतिमा निर्माण समिति के अध्यक्ष की रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया।
             वहीं शिकायतकर्ता की माने तो उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को लिखित शिकायत में यह भी बताया है कि घंसौर पुलिस थाना प्रभारी ने रिपोर्ट तो लिखा नहीं लेकिन यह सलाह जरूर दे दिया कि इन ठाकुरों से पंगा मत लो, आपस में मिल जुलकर रहो। इस तरह समझाईश देकर घंसौर पुलिस थाना प्रभारी ने शिकायत पीड़ितकर्ता को थाने से जाने के लिये कह दिया था। वहीं जब स्थानीय पुलिस थाना घंसौर में कोई सुनवाई नहीं हुई तो पीड़ित शिकायतकर्ता इसी बात से दुखी होकर 18 अक्टूबर 2021 को पुलिस अधीक्षक सिवनी को उपरोक्त घटना की लिखित शिकायत संपूर्ण अनुमति के दस्तावेजों के साथ प्रस्तुत किया।

गांव-गांव जाकर डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर जी की विचारधारा का प्रचार प्रसार करता हूं इसलिये रखता है दुश्मनी 

पीड़ित शिकायतकर्ता रिक्खी लाल बकोडेÞ ने बताया कि वह अनुसूचित जाति वर्ग के अंतर्गत चमार जाति का सदस्य है, इस कारण ऊंची जाति के संग्राम सिंह ठाकुर हम लोगों से बुराई रखता है और डॉ.बाबा. साहब अम्बेडकर नीची जाति के महापुरूष थे, इस कारण ऊंची जाति का संग्राम सिंह ठाकुर डॉ.बाबा साहब अम्बेडकर की प्रतिमा जेसीबी मशीन से तोड़ने की धमकी देते रहता है।
            पीड़ित शिकायतकर्ता रिक्खी लाल बकोडेÞ ने बताया कि वह अनुसूचित जाति के गरीब परिवार का सदस्य है और घंसौर तहसील मुख्यालय में डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर जी की विचारधारा से प्रेरित होकर गांव-गांव जाकर डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर जी की विचारधारा का प्रचार प्रसार करता हूं। इसी कार्य से जलन व द्वेष की भावना जातिगत आधार पर संग्राम सिंह ठाकुर मुझसे एवं मेरे परिवार से बुराईयाँ रखने लगा। जिसकी वजह से मेरे अच्छे कार्यो में बाधा उत्पन्न कर मेरा सामाजिक पतन करना चाहता है। इस बात की शिकायत मेरे द्वारा पुलिस अधीक्षक सिवनी एवं डीआईजी छिंदवाड़ा को की गई है। 

संग्राम सिंह ठाकुर व शक्ति सिंह ठाकुर से मेरे परिवार को है खतरा 


पीड़ित शिकायतकर्ता रिक्खी लाल बकोडेÞ ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह भी अवगत कराया है कि घंसौर के दबंग एवं ऊंची जाति के संग्राम सिंह ठाकुर मुझे डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर के सामाजिक कार्य को आगे बढ़ाने में रोकना चाहता है। वहीं पीड़ित शिकायतकर्ता रिक्खीलाल बकोड़े ने आगे बताया कि संग्राम सिंह ठाकुर के भाई शक्ति सिंह ठाकुर द्वारा भी प्रतिमा स्थापित करने के पश्चात मुझे बोला गया कि मैं यह प्रतिमा जेसीबी मशीन से तुड़वाकर रहूंगा। इस प्रकार घंसौर के दबंग ठाकुर जाति के संग्राम सिंह ठाकुर एवं शक्ति सिंह ठाकुर से मुझे एवं मेरे परिवार को जान माल का खतरा है। मैं इनके विरूद्ध पुलिस अधीक्षक सिवनी के माध्यम से कानूनी कार्यवाही चाहता हूं। 

1 comment:

  1. ये एक जाती से दूसरे जाती के बीच लड़ाई होने की बात नहीं होगा। मुझे लगता है दोनों दल के अध्यक्ष
    व मुखिया लोगों की कुछ न कुछ आपसी मतभेद के कारण होगा या जहां मूर्ति स्थापना किया जाना है उस जगह में स्थापित करने के लिए आपसी सहमति नहीं बनी होगी।नहीं तो गोंडवाना पार्टी का विचार बाबासाहेब
    के लिए इतना गलत दुर्भावना नहीं है।

    ReplyDelete

Translate