Tuesday, January 18, 2022

जातिगत दुर्भावना रखकर आदिवासियों को उप पुलिस अधीक्षक दसवां सत्र प्रशिक्षण में अनुत्तीर्ण किये हो जांच

जातिगत दुर्भावना रखकर आदिवासियों को उप पुलिस अधीक्षक दसवां सत्र प्रशिक्षण में अनुत्तीर्ण किये हो जांच 

जातिगत द्वेष रखने वाले अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही किया जाये 


दुर्गाप्रसाद ठाकुर, प्रदेश संवाददाता।
रायपुर/छत्तीसगढ़। गोंडवाना समय।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस राज्य पुलिस अकादमी छत्तीसगढ़ में उप पुलिस अधीक्षक दसवां सत्र 2019 से 2021 की नामावली सूची जारी की गई है। जिसमें चुन-चुन कर आदिवासी प्रशिक्षणार्थियों को ड्रिल, फील्ड क्राफ्ट, पी.टी. जैसे सरल विषयों में अनुत्तीर्ण किया गया है। आदिवासी कर्तव्यनिष्ठ एवं फिजिकली मजबूत होते हैं। ऐसी स्थिति में इन विषयों में अनुत्तीर्ण किया जाना कहीं ना कहीं जातिगत दुर्भावना को दशार्ता है।

जातिगत दुर्भावना फैलाने वाले  उच्च जाति वर्ग के अधिकारियों को तत्काल निलंबित करते हुए अकैडमी से हटाया जाय

अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष आर एन ध्रुव द्वारा मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, डीजीपी छत्तीसगढ़ को पत्र लिखकर 4 बिंदुओं पर पत्र लिखते हुये कार्यवाही की मांग किया है। जिसमें 1. आदिवासी प्रशिक्षणार्थियों को जातिगत दुर्भावनावश जबरन अनुत्तीर्ण किये जाने की निष्पक्ष जांच किया जाये, 2. प्रशिक्षण उपरांत लिए गए परीक्षा का परिणाम पासिंग आउट परेड हो जाने के बावजूद आज पर्यंत तक जारी नहीं किया जाना षडयंत्र को दशार्ता है।
                आधिकारिक रिजल्ट तत्काल जारी किया जाए, 3. जातिगत दुर्भावना रखने वाले उच्च जाति वर्ग के अधिकारियों को परीक्षा पर्यवेक्षक के रूप में दुबारा कभी न भेजा जाए, 4. राज्य पुलिस अकैडमी में जातिगत दुर्भावना फैलाने वाले  उच्च जाति वर्ग के अधिकारियों को तत्काल निलंबित करते हुए अकैडमी से हटाया जाय। वहीं श्री आर एन ध्रुव ने अनुरोध किया  है कि उप पुलिस अधीक्षक दसवां सत्र के प्रशिक्षण में आदिवासी प्रशिक्षणार्थियों को अनुत्तीर्ण किए जाने की जांच के साथ जातिगत द्वेष रखने वाले अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही हो।

No comments:

Post a Comment

Translate