Thursday, April 21, 2022

आदिवासी दिनेश उईके का चयन होने के बाद कनिष्ठ संविदा विक्रेता के पद पर ज्वानिंग देने के लिये भटका रहा सहकारिता विभाग

आदिवासी दिनेश उईके का चयन होने के बाद कनिष्ठ संविदा विक्रेता के पद पर ज्वानिंग देने के लिये भटका रहा सहकारिता विभाग 

सहकारिता विभाग में कनिष्ठ संविदा विक्रेता के नियुक्ति पद में हुए घोटाले की दिनेश कुमार उईके ने निष्पक्ष जांच की मांग की

दिनेश कुमार उईके ने सिवनी डी.आर. व सरेखा के शाखा प्रबंधक पर लगाए नियुक्ति में घोटाले के आरोप 

सेल्समैन के पद के लिए ज्वाइनिंग लेटर मिलने के बाद अधिकारियों ने कहा आप कार्य क्षेत्र से बाहर है

कलेक्टर, सांसद व विधायक को सौंपा था ज्ञापन,वे भी समस्या का समाधान करने में नाकाम 

आदिवासी जनप्रतिनिधि और न ही समाजिक संगठन करते है मदद, मंच और सोशल मीडिया में दिखते है आगे


अजय नागेश्‍वर संवाददाता
पांडिया छपारा। गोंडवाना समय।

सिवनी जिले के जनपद पंचायत केवलारी के उपतहसील उगली के अंतर्गत ग्राम पंचायत बेलगांव के सरेखा टोला खुर्द के रहने वाले दिनेश कुमार उईके पिता रामसिंह उईके,गोंडवाना समय जनसुनवाई कार्यक्रम में पहुंचे और उन्होंने गोंडवाना समय को बताया कि मेरे द्वारा कनिष्ठ संविदा विक्रेता के पद हेतु सेवा सहकारिता समिति सरेखा कला के लिए आॅनलाइन आवेदन प्रस्तुत किया गया था जिसमें मेरा चयन किया गया और और मेरे दस्तावेजों को सत्यापन के लिए जिला सहकारी केंद्रीय बैंक सिवनी भेजा गया था, मुझे 17/02/2021 को सिवनी बुलाकर दस्तावेजों का सत्यापन किया गया था। दिनांक 24/03/2021 को संविदा के आधार पर नियुक्ति पत्र जारी करने के लिए सेवा सहकारी समिति मर्यादित सरेखा कला को पत्र जारी किया गया था।

मुझसे कहा गया कि हमारी समिति में विक्रेता के लिए कोई जगह खाली नहीं है, जबकि 2 पद खाली थे


श्री दिनेश कुमार उईके ने बताया कि मैं दिनांक 27/03/2021 को प्रबंधक एवं प्रसासक महोदय से सरेखा कला मिलने गया परन्तु मुझे नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया और उनके द्वारा कहा गया है हमारी समिति में विक्रेता पद के लिए कोई जगह खाली नहीं है। श्री दिनेश कुमार उईके ने बताया कि प्रबंधक ने प्रसासक महोदय से कहा कि मेरे यहां चार दुकान है और दो सेल्समैन है, चार दुकान चला सकते हैं। उसके बाद 10 दिनों तक मुझे कोई जानकारी नहीं मिली। 

चयनित व्यक्ति कार्य क्षेत्र के बाहर है

मैंने आवेदन डी.आर सिवनी को प्रस्तुत किया डी.आर महोदय के द्वारा आवेदन का अवलोकन किया और कहा गया कि शाखा प्रबंधक सरेखा कला के द्वारा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया है कि अभ्यर्थी कार्य क्षेत्र के बाहर है। प्रस्ताव भोपाल जाएगा और वहीं से निर्णय होगा। 

मेरी नियुक्ति किस आधार पर की गई थी, कार्य क्षेत्र से बाहर था तो मेरा आॅनलाइन फॉर्म रिजेक्ट कर देना था

वही दिनेश कुमार उईके ने डी.आर. महोदय (सिवनी) से कहा मेरी नियुक्ति किस आधार पर की गई थी, कार्य क्षेत्र से बाहर था तो मेरा आॅनलाइन फॉर्म रिजेक्ट कर देना था। मेरे अभिलेख का सत्यापन एवं नियुक्ति का आदेश नहीं देना था, मैं नागपुर में पिछले 15 सालों ईंट भट्टे में मैनेजर के पद में कार्य कर रहा था। सैल्समेन के पद पर नियुक्ति का आदेश पाकर परिवार सहित काम छोड़कर घर वापस आ गया। मुझे आज तक नियुक्ति नहीं मिली जिससे पिछले लगभग 1 सालों से बेरोजगार बैठा हुआ हूं।
            वही दिनेश कुमार उईके ने बताया कि मैंने न्याय मिलने की उम्मीद से उचित की मांग को लेकर कलेक्टर साहब, सांसद श्री फग्गन सिंह कुलस्ते एवं केवलारी विधायक राकेश पाल को ज्ञापन सौंपा था लेकिन वे भी समस्या का समाधान नहीं कर सके। अत: उन्होंने शासन प्रशासन एवं उच्च अधिकारियों से निष्पक्ष जांच कि मांग कि है।
        इसके साथ ही देखा जाये सिवनी जिले आदिवासी जनप्रतिनिधि भी है, राजनैतिक संगठनों में पदाधिकारी भी है इसके साथ अनेकों सामाजिक संगठन भी मंचों व सोशल मीडिया में सबसे आगे मैं की तर्ज पर चल रहे है लेकिन ऐसे व्यक्तियों की मदद करने के लिये  कभी आगे नहीं आते है या फिर शायद आना ही नहीं चाहते है इसके पीछे क्या कारण है ये तो वे ही जाने लेकिन आज के समय रोजगार बहुत मुश्किल से मिल रहा है और दिनेश उईके के चयन होने के बाद नियुक्ति के लिये दर दर की ठोकरे खाना पड़ रहा है। 

No comments:

Post a Comment

Translate