Wednesday, December 7, 2022

जनजाति वर्ग का हूं इसलिये हीन दृष्टि से देखकर करते है भेदभाव, प्रभारी प्राचार्य से भी हटवाया

जनजाति वर्ग का हूं इसलिये हीन दृष्टि से देखकर करते है भेदभाव, प्रभारी प्राचार्य से भी हटवाया 

कहानी के शिक्षक सुधीर सरयाम ने संभागीय आयुक्त को किया शिकायत 

सेवानिवृत्त प्राचार्य भरत शिवहरे अभी भी विद्यालय में कर रहे दखलंदाजी 


कहानी। गोंडवाना समय। 

जनजातिय विकास विभाग के अंतर्गत घंसौर विकासखंड के अंतर्गत कहानी उच्च माध्यमिक विद्यालय में प्रभारी प्राचार्य के पद पदस्थ थे लेकिन जनजाति वर्ग के शिक्षक होने के कारण उन्हें अन्य वर्गों के शिक्षकों के द्वारा हीन दृष्टि से देखा जाता था व भेदभाव भी किया जाता है।
            इस संबंध में जनजाति वर्ग के शिक्षक श्री सुधीर सरयाम ने संभागीय आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग जबलपुर को शिकायत भी किया है। 

संस्था स्टाफ कुछ शिक्षक व कर्मचारी हमेशा हीन दृष्टि से देखते है 

जनजाति वर्ग के शिक्षक सुधीर कुमार सरयाम का कहना है कि उन्हें संस्था में प्रभारी आचार्य का 7 अगस्त 2022 को मिला है लेकिन लेकिन पूर्व के प्रभारी प्राचार्य श्री भरत कुमार शिवहरे द्वारा उन्हें पूरा चार्ज नहीं दिया गया था। वहीं श्री सुधीर सरयाम का यह भी कहना है कि वे अनुसूचित जनजाति वर्ग के होने के कारण उन्हें संस्था स्टाफ कुछ शिक्षक व कर्मचारी हमेशा हीन दृष्टि से देखते है एवं भेदभाव की भावना रखते है। 

सुधीर सरयाम को चार्ज देने करते रहे टालमटोल लेकिन भीम सिंह गोल्हानी को दे दिया चार्ज

संभागीय आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग जबलपुर को की गई शिकायत में उन्होंने उल्लेख किया है कि वे तीन दिन की छुट्टी में थे उनकी अनुपस्थिति में कुछ शिक्षकों व सेवानिवृत्त प्रभारी प्राचार्य श्री भरत कुमार शिवहरे के द्वारा सहायक आयुक सिवनी को बुलवाकर कई तरह की शिकायत करते हुये द्वेषपूर्वक प्रभारी प्राचार्य के पद से हटाकर श्री भीम सिंह गोल्हानी उच्च श्रेणी शिक्षक को प्रभारी  प्राचार्य बना दिया है।
            पूर्व प्रभारी प्राचार्य श्री भरत कुमार शिवहरे के द्वारा जनजाति वर्ग के सुधीर सरयाम को चार्ज नहीं दिया जा रहा था इसके लिये वे टालमटोल करते रहे लेकिन जैसे प्रभारी प्राचार्य श्री श्रीम सिंह गोल्लानी को बनाया गया तो 07 दिसंबर 2022 को चार्ज दे दिया है। जनजाति वर्ग के शिक्षक श्री सुधीर सरयाम का कहना है कि उन्हें जनजाति वर्ग का होने के कारण दबाते रहे। इस संबंध में उन्होंने उचित जांच किये जाने की मांग किया है। 

56 इंच की टी वी और लैपटॉप आखिर कहां गये, सेवानिवृत्त प्राचार्य भरत शिवहरे पर उठ रहे सवाल

वहीं सूत्र बताते है कि सेवानिवृत्त होने के लगभग 3 माह बाद भी प्राचार्य श्री भरत शिवहरे शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में दखलअंदाजी करना नहीं छोड़ रहे है। विद्यालय की व्यवस्था को बिगाड़ने के लिये छुटभैया नेताओं का सहारा भी उनके द्वारा लिया जा रहा है। सूत्र बताते है कि सेवानिवृत्त प्राचार्य श्री भरत शिवहरे के कार्यकाल के समय की 56 इंच की टी वी व लैपटॉप भी स्कूल में उपलब्ध नहीं है जिसकी चर्चा भी हो रही है आखिर टी वी और लैपटॉप कहां गये। 

No comments:

Post a Comment

Translate