Thursday, May 9, 2019

कलेक्टर की पहल: मानसिक रूप से बीमार मां को दो वर्ष बाद पाकर खुश हुआ परिवार

कलेक्टर की पहल: मानसिक रूप से बीमार मां को दो वर्ष बाद पाकर खुश हुआ परिवार

छिंदवाड़ा जिले से आकर बीमार मां को सिवनी जिला चिकित्सालय से ले गया परिवार 

सिवनी। गोंडवाना समय। 
उपसंचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग सिवनी  द्वारा जानकारी देते हुए बताया की विगत 04 मई  को कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह द्वारा जिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान मानसिक विक्षिप्त महिलाओ एवं पुरूषो के पुनर्वास एवं ईलाज हेतु निर्देशित किया गया था। उक्त संबंध में श्री वीरेश सिंह बघेल उपसंचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण सिवनी द्वारा अवगत कराया गया है कि कलेक्टर श्री प्रवीण सिंह के निदेर्शानुसार सभी मानसिक विक्षिप्तो से लगातार चर्चा की गई जा रही है एवं इन्हें ईलाज हेतु दवाईयॉ दी जा रही है।

इसी तारतम्य में बातचीत के दौरान एक महिला ने अपना नाम सुरवती बाई तथा छिन्दवाड़ा जिले के ग्राम उरदान बताया। उरदान के सचिव श्री जगदीश प्रसाद के मोबाईल पर चर्चा करने पर उनके पुत्र धनपाल के बारे में जानकारी प्राप्त हुई। धनपाल को मोबाईल पर उसकी माँ के बारे में जानकारी दी गई । श्री धनपाल सहयोगियो के साथ गुरुवार 9 मई को सिवनी पहुँचकर लगभग दो वर्ष से जिला चिकित्सालय सिवनी में रह रही अपनी मॉ को साथ लेकर चले गये । उन्होने अपनी माँ के 2 साल बाद मिलने पर कलेक्टर सिवनी का आभार माना। इस कार्य में सायकोलाजिस्ट मनीषा श्रीवास्तव, सोनम विनोदिया, श्री  सनोडिया एवं नरोत्तम सोनी सहयोगी रहे। उपसंचालक सामाजिक न्याय सिवनी ने यह भी अवगत कराया कि जिला चिकित्सालय सिवनी में रह रहे शेष मानसिक विक्षिप्तों की जानकारी एकत्र की जाकर ईलाज तथा पुनर्वास की व्यवस्था की जा रही है।

कलेक्टर ने अस्तपाल के निरीक्षण के दौरान दिये थे निर्देश 

जिला चिकित्सालय सिवनी में बीते दो वर्ष से अज्ञात रूप से रह रही मानसिक विक्षिप्त महिला को उसका परिवार मिल गया और अपनी मां को बेटा उनके परिजन साथ में लेकर छिंदवाड़ा खुशी खुशी लौट गये । दो वर्ष से बिछुड़ी हुई मां को उसके पुत्र व परिवार से मिलाने में सिवनी कलेक्टर के द्वारा मानसिक रूप से विक्षिप्तों का उपचार कराने को लेकर सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग को अस्पताल के निरीक्षण के दौरान दिये गये निर्देशों के बाद एवं विभाग की सक्रियता से यह संभव हो पाया है ।

No comments:

Post a Comment

Translate