Monday, May 6, 2019

कांग्रेस विधायक के क्षेत्र में मजदूरों का छिन रहा निवाला, मशीन और ठेकेदारी से काम

कांग्रेस विधायक के क्षेत्र में मजदूरों का छिन रहा निवाला, मशीन और ठेकेदारी से काम

मशीनों से बन रही मनरेगा की पुलिया,ठेकेदार करवा रहे काम

सिवनी। गोंडवाना समय। 
अंधे-बहरे प्रशासन के बीच जिले में मनरेगा योजना की धज्जियां उड़ाई जा रही है। मजदूरों का निवाला छीनकर मशीनों और ठेकेदारी प्रथा से काम करवाया जा रहा है। यह खेल सिवनी जनपद पंचायत के अलावा कांग्रेस विधायक योगेन्द्र सिंह बाबा के क्षेत्र घंसौर जनपद पंचायत अंतर्गत गोलिया ग्राम पंचायत में चल रहा है। वहीं गांव के मजदूरों से काम करवाकर पुलिया निर्माण की राशि में बंदरबांट करने के लिए ऐसे खातेदार मजदूर जो सरपंच व ठेकेदारों को आसानी से खाते से राशि निकालकर दे देते हैं ऐसे चहेते मजदूरों के नाम पर मस्टरोल में फर्जी हाजिरी भरी जाने के गंभीर आरोप ग्रामीणों ने लगाए हैं। वहीं घंसौर के बाबा जी आंख मूंदकर बैठे हुए हैं।

कहीं पर नाला,कहीं पर पुलिया-


गोलिया पंचायत के ग्राम खेड़ा निवासी प्रभु सलाम ने बताया कि नाला से हटकर पुलिया का निर्माण किया गया है। साफ है कि घंसौर जनपद पंचायत के एई,एसडीओ द्वारा बिना स्थल निरीक्षण किए टीएस जारी कर काम शुरू करवा दिया गया है। ग्रामीण बताते हैं कि नाला और पुलिया में काफी डिफरेंस है पुलिया का मुंह नाला से होते हुए सीधे एक किसान के खेत की तरफ उसका रूख कर दिया गया है। जिससे आने वाले समय में जब पुलिया से पानी
निकलकर सीधे किसान के खेत में पहुंचकर नुकसान पहुंचाऐगा। ग्रामीणों का आरोप है कि सरपंच पुत्र अशोक भलावी के द्वारा जानबूझकर ऐसी जगह चुनी गई जहां से कम लागत में यह पुलिया का निर्माण कार्य पूरा किया जा सकता है।

गुणवत्ता भी प्रभावित-

पुलिया के निर्माण कार्य में गुणवत्ता में भी लापरवाही बरती गई है। पुलिया में जो पाइप लगाए गए हैं वे भी एक से नहीं लगाए गए हैं। स्थल पर पाइप अप-डाउन दिख रहे हैं। वहीं उसका बेस भी मजबूत नहीं है। सही मात्रा में मसाले का उपयोग नहीं हुआ है। ग्रामीण बताते हैं कि अगर लीपापोती कर पुलिया का निर्माण कर दिया जाता है तो बारिश में पुलिया की हालत बदतर हो जाएगी। दरअसल पुलिया की वास्तविक गुणवत्ता का पता उस समय लगता है जब पुलिया में लगातार पानी का आवागमन होने लगता है।

टूटेगी पुलिया, वीडियो भी बनेगा-

गोंडवाना समय से बातचीत करते हुए एसडीओ राजूल नामदेव ने भी स्वीकार किया है कि पुलिया का गुणवत्ता विहीन निर्माण हो रहा है। उन्होंने मूल्यांकन करने से साफ इंकार करते हुए पंचायत को उसे तोड़ने के लिए कह दिया है। राजूल नामदेव का कहना है कि पुलिया का तोड़ते हुए वीडियों बनाया जाएगा और जिला पंचायत सीईओ को दिखाकर उसके बाद पुलिया का नये सिरे से निर्माण कार्य होगा।

No comments:

Post a Comment

Translate