Friday, June 7, 2019

लोक कला और लोक संस्कृति किसी भी समाज के अस्तित्व के है अभिन्न अंग-प्रहलाद पटेल

लोक कला और लोक संस्कृति किसी भी समाज के अस्तित्व के है अभिन्न अंग-प्रहलाद पटेल

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने हिमाचल लोक कला की अज्ञात कृतियों' की प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

नई दिल्ली। गोंडवाना समय।
केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने शुक्रवार को नई दिल्ली के राष्ट्रीय संग्रहालय में हिमाचल लोक कला की अज्ञात कृतियां नामक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में आईसीसीआर के महानिदेशक श्री अखिलेश मिश्रा, आदिवासी लोक कला गृह गुरुग्राम के निदेशक बी. एन. आर्यन और अन्य प्रतिष्ठित लोग भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
प्रदर्शनी का उद्घाटन करते हुए, श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि लोक कला और लोक संस्कृति किसी भी समाज के अस्तित्व के अभिन्न अंग है और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में उनका मंत्रालय इनके संरक्षण और संवर्धन के लिए कड़े प्रयास करेगा।
                     
 यह प्रदर्शनी नई दिल्‍ली स्थित राष्‍ट्रीय संग्रहालय और गुरुग्राम स्थित होम आॅफ फोक आर्ट (आदिवासी, लोक और उपेक्षित कला का संग्रहालय) द्वारा संयुक्‍त रूप से आयोजित की जा रही है। इस प्रदर्शनी में 240 से भी अधिक कलाकृतियां प्रदर्शित की जा रही हैं। इनमें से 230 कलाकृतियां गुरुग्राम स्थित होम आॅफ फोक आर्ट के स्‍वर्गीय के.सी. आर्यन के व्यक्तिगत जीवनकाल संग्रह से संबंधित हैं। यह प्रदर्शनी गुरुग्राम स्थित होम आॅफ फोक आर्ट के निदेशक श्री बी.एन. आर्यन द्वारा अधिकृत रूप से संचालित की जा रही है। यह प्रदर्शनी सोमवार और राष्‍ट्रीय अवकाश दिवस को छोड़कर आम जनता के लिए प्रात: 10 बजे से शाम 6 बजे तक (मंगलवार से शुक्रवार) और प्रात: 10 बजे से रात 8 बजे तक (शनिवार एवं रविवार) खुली रहेगी। इस प्रदर्शनी को लोग 31 जुलाई, 2019 तक देख सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

Translate