Sunday, August 18, 2019

संजय और अंकित ने कब्बड्ी में किया जिले का नाम रौशन

संजय और अंकित ने कबड्डी में किया जिले का नाम रौशन

मध्यप्रदेश कबड्डी टीम का हिस्सा बन जीता गोल्ड

2020 मलेशिया ओलंपिक में देश प्रतिनिधित्व करने का मिल सकता है मौका

गृह ग्राम कान्हीवाड़ा पहुॅचंने पर हुआ भव्य स्वागत

सिवनी। गोंडवाना समय। 
हॉकी की नर्सरी कही जाने वाली सिवनी में क्रिकेट और व्हॉलीवाल के बाद अब दो युवकों ने कबड्डी में राष्ट्रीय स्तर पर जिले का नाम रौशन किया है। सिवनी जिला मुख्यालय से 25 किमी दूर कस्बाई इलाके कान्हीवाड़ा के युवा अंकित सेन और इसी के समीप भटेखारी के युवा संजय बघेल ने बीते दिनों अंडर 19 व सीनियर वर्ग में दिल्ली व पंजाब को हराने वाली म.प्र. टीम का हिस्सा बन गोल्ड मैडल जीता।  इन दोनों युवकों ने डिस्ट्रिक ओलंपिक एसोसिएशन आॅफ इंडिया के माध्यम से इस प्रतियोगिता में भाग लिया था।आगामी कुछ दिनों में जालंधर पंजाब में 2020 में होने जा रहे मलेशिया ओलंपिक के लिए भारतीय कबड्डी टीम का चयन कैंप का आयोजन होना है, जहॉ ये दोनों युवक भाग ले रहे हैं। इनके खेल को देखते हुए यह कयास लगाए जा रहे हैं कि यह दोनों युवक 2020 में मलेशिया में होने वाले ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने का सौभाग्य प्राप्त कर सकते हैं।

गृह ग्राम पहुॅचने पर हुआ भव्य स्वागत

जैसे ही इन युवाओं ने कान्हीवाड़ा की धरती पर कदम रखा, सैकड़ों की संख्या में मौजूद लोगों ने बस स्टैण्ड कान्हीवाड़ा में उनका स्वागत वंदन पुष्पमाला पहनाकर किया। इस स्वागत से भावविभोर युवकों और इनके परिजनों ने अपने शुभचिन्तों के प्रति आभार व्यक्त किया है।

जिला प्रशाासन ने नहीं ली सुध, क्षेत्रीय खिलाड़ियों के सहयोग से हासिल किया मुकाम

काफी गरीब और मध्यम वर्ग से आने वाले इन युवाओं ने देश में नाम रौशन कर अन्तराष्ट्रीय स्तर पर ओलंपिक जैसे आयोजन में भाग लेने के मुहाने पर खड़े इन युवकों को इनके परिजनों ने बिना किसी प्रशासनिक मदद के इस मुकाम तक पहुॅचाया है। कान्हीवाडा के समीप स्थित बम्हनी के कुछ उत्साही खिलाड़ियो द्वारा मासूम क्लब बम्हनी के नाम से एक कबड्डी क्लब बनायी गयी। जिसे खिलाड़ियों द्वारा आपसी सहयोग से संचालित किया जाता है और होनहार युवाओं को एक मंच छोटे स्तर पर ही सही लेकिन सुविधाओं के साथ दिया गया। मासूम क्लब के संचालक फिरोज खान के सहयोग और उत्साहवर्धन के फलस्वरूप इन युवाओं ने रतलाम में डिस्ट्रिक ओलंपिक एसोसिएशन के कैंप में हिस्सा लेकर यह मुकाम हासिल किया। जिस पर उनके सभी परिवारजन और क्षेत्रवासी गर्व महसूस कर रहे हैं किन्तु जिला प्रशासन एवं खेल व युवा कल्याण विभाग ने अभी तक कोई उचित मदद नहीं की है लेकिन गोल्ड मैडल मिलने के बाद फोन कर संपर्क किया गया है और सम्मान करने का वादा किया गया है।

No comments:

Post a Comment

Translate