Sunday, September 1, 2019

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों की लेंगे बैठक

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों की लेंगे बैठक 

राज्य मंत्रियों की पांचवीं राष्ट्रीय परामर्श बैठक 3 सितंबर 2019 को आयोजित की जाएगी

नई दिल्ली। गोंडवाना समय।
केंद्रीय उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री राम विलास पासवान ने 3 सितंबर को नई दिल्ली में खाद्य नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण के राज्य मंत्रियों की राष्ट्रीय परामर्श बैठक बुलाई
खाद्य नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण के राज्य मंत्रियों की पांचवीं राष्ट्रीय परामर्श बैठक 3 सितंबर 2019 को आयोजित की जाएगी। यह बैठक हाल ही में अधिसूचित नए उपभोक्ता संरक्षण कानून, 2019 के संदर्भ में महत्वपूर्ण है। सीपीए, 2019 में उपभोक्ता आयोगों के डिजिटलीकरण, शिकायतों की ई-फाइलिंग, मध्यस्थता, उत्पाद देयता कानून और सरलीकृत प्रक्रियाओं को सक्षम बनाने के अलावा अनुचित व्यापार कार्य प्रणाली से निपटने के लिए एक केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण स्थापित करने का प्रस्ताव है। उपभोक्ता आयोग के अध्यक्षों और सदस्यों की सेवा शर्तों में एकरूपता लाने के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा अनुमोदित आदर्श नियम उपभोक्ता न्याय के लिए इन आयोगों के प्रभावी कामकाज में महत्वपूर्ण बदलाव लाएंगे।
इन मुद्दों पर चर्चा के लिए समन्वित कार्रवाई के लिए, केंद्रीय उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री ने 3 सितंबर 2019 को नई दिल्ली में सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों की बैठक बुलाई है। एक दिवसीय बैठक में कृषि, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, उपभोक्ता मामले, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, उद्योग और वाणिज्य के साथ-साथ रसायन और उर्वरक मंत्रालयों के मंत्री और अधिकारी भाग लेगे। सम्मेलन में कई मुद्दों पर चर्चा होगी। उनमें से महत्वपूर्ण देश में पोषण सुरक्षा को बढ़ावा देने की नई आरम्भिक योजना, 2019-20 से 3 साल की अवधि के लिए 147.61 करोड़ रुपए के व्यय से सार्वजनिक वितरण प्रणाली के जरिये चावल और इसके वितरण का सदृढ़ीकरण है। आरम्भिक योजना भारत सरकार द्वारा पूर्वोत्तर, पहाड़ी और द्वीप राज्यों के लिए 90:10 और अन्य राज्यों के लिए 75:25 के अनुपात में वित्त पोषित की जाएगी।

सार्वजनिक वितरण को पूरी तरह से डिजिटल बनाना सरकार की प्राथमिकता 

बैठक की कार्य सूची में कम फसल वाले मौसम में प्रभावी बाजार हस्तक्षेप के लिए राज्यों द्वारा दलहन और प्याज के सुरक्षित भंडार से कुल खरीद आॅफ-टेक होगा। 11.07.2019 तक, पीएसएफ भंडार में दालों का उपलब्ध स्टॉक लगभग 14 एलएमटी है। राज्यों को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं- मध्यान्ह भोजन, आंगनवाड़ी योजना, अस्पतालों, छात्रावासों के लिए दालों की अपनी आवश्यकता को पूरा करने का काम सौंपा गया है। कुछ खाद्य पदार्थों, विशेष रूप से, दालों, खाद्य तेलों और चीनी की कीमतों में अनुचित वृद्धि की जांच करने और जमाखोरी और कालाबाजारी को रोकने के लिए मई 2018 में आयोजित अंितम बैठक में तय किए गए कार्य बिंदुओं पर राज्यों द्वारा किए गए उपायों पर चर्चा की जाएगी। । बैठक में राज्य के खाद्य मंत्रियों की अंतिम बैठक के निर्णयों पर की गई कार्रवाई की समीक्षा की जाएगी और एक नई कार्य योजना तैयार की जाएगी। सभी आवश्यक खाद्य पदार्थों की कीमतों को नियंत्रण में रखना और सार्वजनिक वितरण को पूरी तरह से डिजिटल बनाना सरकार की प्राथमिकता रही है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा के साथ, अब सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सुधार और राशन कार्डों की आधार सीडिंग में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया गया है। पिछले वर्ष में राज्यों के साथ समन्वय में सरकार ने दलहन और चीनी की कीमतों को नियंत्रण में रखा था।

सरकार आवश्यक खाद्य पदार्थों की कीमतों के रुझानों पर रख रही कड़ी नजर 

सरकार आवश्यक खाद्य पदार्थों की कीमतों के रुझानों पर कड़ी नजर रख रही है क्योंकि यह सभी को विशेष रूप से समाज के गरीब और कमजोर वर्गों को प्रभावित करते हैं। उपभोक्ता कार्य विभाग का मूल्य निगरानी प्रकोष्ठ चयनित खाद्य पदार्थों की कीमतों के साथ-साथ संरचनात्मक और अन्य बाधाओं की निगरानी कर रहा है जो उनकी उपलब्धता को प्रभावित कर रहे हैं, और बाजार की उपलब्धता में सुधार के लिए समय पर हस्तक्षेप सुनिश्चित कर कीमतों में कमी कर रहे हैं। प्राइस मॉनिटरिंग सेल (पीएमसी) देश भर में चयनित 100 केंद्रों से दैनिक आधार पर 22 आवश्यक वस्तुओं के थोक और खुदरा मूल्य एकत्र कर रहा है। पीएमसी द्वारा संकलित कीमतों का उपयोग सरकार के निर्णय लेने के उच्चतम स्तर पर किया जाता है, यदि आवश्यक हो तो बाजार-हस्तक्षेप सहित उचित निर्णय लेने के लिए वस्तु-विशेष रुझानों सहित समग्र स्थिति की नियमित रूप से समीक्षा करने के लिए।

मूल्य स्थिरीकरण कोष के गठन से सहित अन्य संबंधित मुद्दों पर होगी चर्चा 

खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के प्रभारी मंत्रियों की 21 मई 2018 को आयोजित राष्ट्रीय परामर्श बैठक में फैसला किया गया कि राज्यों /संघ शासित प्रदेशों द्वारा लागू करने के लिए एक कार्य योजना तैयार की जाए ताकि आवश्यक खाद्य पदार्थों की कीमतों को उचित स्तर पर रखा जा सके  विशेष रूप से त्योहार के मौसम (जुलाई से दिसंबर) के दौरान। बैठक में अन्य राज्यों / संघ शासित प्रदेशों द्वारा की गई कार्रवाइयों पर विचार-विमर्श किया जा सकता है और एक नई कार्य योजना तैयार की जा सकती है जिसमें प्याज और खाद्य तेलों, चीनी पर स्टॉक सीमाएं लागू करने और राज्यों द्वारा मूल्य स्थिरीकरण निधि स्थापित करने जैसे मुद्दे शामिल हो सकते हैं। सम्मेलन में उपभोक्ता संरक्षण से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा होगी जैसे कि कानूनी मेट्रोलॉजी अधिनियम और नियमों को लागू करना, उपभोक्ता मंचों को मजबूत करना और राज्य उपभोक्ता हेल्पलाइन, उपभोक्ता कल्याण कोष प्रशासन, एक-राष्ट्र एक-राशन कार्ड के तहत अंतर-राज्यीय पोर्टेबिलिटी की शुरूआत, राशन की दुकानों में ईपीओएस की उपलब्धता और राशन कार्डों की आधार सीडिंग आदि। बैठक में ईसी अधिनियम के अंतर्गत दी गई शक्तियों के तहत राज्यों द्वारा की गई कार्रवाई और मूल्य स्थिरीकरण कोष के गठन से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होगी।

2022 तक किसान की आय दोगुना करना सरकार के प्राथमिकता वाले उद्देश्यों में से एक 

स्वर्ण आभूषणों की अनिवार्य हॉलमार्किंग शुरू करने के लिए कदम उठाए गए हैं और एक गुणवत्ता नियंत्रण आदेश तैयार किया गया है जिसे उपभोक्ता कार्य विभाग की वेबसाइट पर अपलोड किया गया है। वर्ष 2022 तक किसान की आय दोगुना करना सरकार के प्राथमिकता वाले उद्देश्यों में से एक है। इस उद्देश्य को हासिल करने के लिए, कृषि क्षेत्र में निवेश में आगे आने की आवश्यकता है। आवश्यक वस्तु कानून, 1955 जिसे कृषि क्षेत्र में निवेश और आपूर्ति श्रृंखला को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने वाले कारकों में से एक माना जाता है, उसे 29 सितंबर 2016 के केंद्रीय आदेश के माध्यम से उदारीकृत कर दिया गया है। वहीं 6 अगस्त 2019 का अनुबंध कृषि आदेश किसी भी कृषि उपज को राज्य के साथ पंजीकृत मात्रा की समग्र सीमा के अधीन स्टॉक सीमा से ठेके पर कृषि खरीद द्वारा छूट देता है।

No comments:

Post a Comment

Translate