Friday, December 27, 2019

आदिवासी सहित सभी वर्गों को जोड़कर ही निकलेगा देश की तरक्की का रास्ता-राहुल गांधी

आदिवासी सहित सभी वर्गों को जोड़कर ही निकलेगा देश की तरक्की का रास्ता-राहुल गांधी 

अनेकता में एकता छत्तीसगढ़ की ताकत और पहचान-मुख्यमंत्री 

तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का रंगा-रंग आगाज

रायपुर। गोंडवाना समय।
लोकसभा सांसद श्री राहुल गांधी ने कहा कि आदिवासियों और सभी वर्गों को जोड़कर ही देश की तरक्की का रास्ता निकलेगा। सभी वर्गों और लोगों को जोड़ना और सभी को साथ लेकर चलना हमारी सांस्कृतिक पहचान है और यही भावना इस महोत्सव में दिख रही है। इस महोत्सव में आदिवासी संस्कृति और इतिहास को जानने और समझने का बेतहर मौका मिल रहा है। यह महोत्सव हमारी विविधता में एकता को भी दशार्ता है। लोक सभा सांसद श्री राहुल गांधी ने आज यहां साइंस कालेज मैदान में तीन दिनों तक चलने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का विधिवत शुभारंभ किया। समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने की। इस महोत्सव में 25 राज्यों, 3 केन्द्रशासित राज्यों और बांग्लादेश, युगांड़ा, मालदीप, बेलारूस, थाईलैण्ड तथा श्रीलंका के लगभग 18 सौ लोक कलाकार शामिल हुए हैं।

गौर सींग मुकुट और जड़ी-बूटी की माला से राहूल गांधी का स्वागत

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के शुभारंभ समारोह के मुख्य अतिथि लोकसभा सांसद श्री राहुल गांधी का मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने गौर सींग मुकुट और जड़ी-बूटी की माला से स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कार्यक्रम में उपस्थिति विशिष्ट अतिथियों का जड़ी-बूटी की माला और पुष्पगुच्छ से स्वागत किया।  गौर सींग और चेहरे पर कौड़ियों की कतार वाला मुकुट आदिवासियों की पहचान है। गौर सींग नृत्य आदिवासियों के गौरव का प्रतीक है। यह बस्तर की आदिम संस्कृति की सबसे पुरानी विरासत है। आज भी बस्तर के आदिवासी परिवारों में यह मुकुट पीढ़ी दर पीढ़ी धरोहर के रूप में विद्यमान है।

मांदर की थाप पर थिरके राहुल गांधी और अतिथि

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के शुभारंभ मौंके पर पहुंचे सांसद श्री राहुल गांधी का आदिवासियों ने परंपरागत वाद्य यंत्रों और नृत्य से स्वागत किया।
शुभारंभ अवसर पर छत्तीसगढ़ के लोक नृत्य दल के द्वारा जब मुख्य मंच पर प्रस्तुति दी जा रही थी तब श्री राहुल गांधी भी खुद को रोक नहीं पाए और मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के साथ मुख्य मंच पर पहुंचे।
वे एक कलाकार का मांदर लेकर खुद बजाने लगे और बाकी कलाकारों के साथ लय मिलाकर जमकर थिरके। उनके साथ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और अन्य अतिथियों ने भी नृत्य कर नर्तक दलों का उत्साहवर्धन किया।

भाई से भाई को लड़ाकर नहीं हो सकता देश का भला 

शुभारंभ समारोह में श्री राहुल गांधी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में आदिवासी, किसान, माताओं और बहनों सबको साथ लेकर ही अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ा रहे हैं। यह महोत्सव भी सबको जोड़ने की भावना का परिणाम है। जब तक आदिवसियों, दलितों, मजदूरों, किसानों, महिलाओं और समाज के सभी वर्गों को नही जोड़ेंगे तब तक देश की अर्थव्यवस्था में सुधार नहीं ला सकते। कोई भी व्यवस्था इन वर्गो से ही चलती  हैं। भाई से भाई को लड़ाकर देश का भला नहीं हो सकता। सबको जोड़कर ही देश को तरक्की के रास्ते पर ले जाया जा सकता है। यहीं इस महोत्सव का भी मकसद है।

आदिवासी समुदाय की बेहतरी के लिए राज्य सरकार ने उनकी जमीन की वापस 

श्री राहूल गांधी ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि आदिवासी समुदाय की बेहतरी के लिए राज्य सरकार ने उनकी जमीन वापस की है, तेन्दूपत्ते की पारिश्रमिक दर भी बढ़ाई है। कुपोषण को दूर करने के लिए सुपोषण अभियान और मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना चलाई जा रही है। इसके सुखद परिणाम मिल रहे हैं। छत्तीसगढ़ में हिंसा में कमी आयी है क्योंकि सरकार लोगों की आवाज सुन रही है। यहां की विधानसभाओं में भी सभी की आवाज सुनाई दे रही है।

आदिवासियों की कला संस्कृति, परम्परा और धरोहर को संरक्षित करने का प्रयास    

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर कहा कि हम आदिवासियों की कला संस्कृति, परम्परा और धरोहर को संरक्षित करने का प्रयास कर रहे हैं। अनेकता में एकता हमारी पहचान है और ताकत भी। उन्होंने कहा कि लोक सभा सांसद श्री राहुल गांधी ने उनसे कहा था कि ऐसा कार्य होना चाहिए कि सब लोगों का लगे कि हमारी सरकार है। आदरणीय श्रीमती सोनिया गांधी और श्री राहुल जी के मार्गदर्शन में हमारी सरकार हर वर्ग के आंसू पोछने का काम कर रही है। हमने किसानों का विश्वास जीता, आदिवासियों की लोहण्डीगुड़ा में उनकी जमीन वापस की। बस्तर अंचल में सुपोषण अभियान की शुरूआत की। उनके स्वास्थ्य के लिए हाट बाजार में क्लिनिक योजना की शुरूआत की। आज हमारी सरकार के कार्यों से छत्तीसगढ़ में सर्वत्र शांति व्याप्त है।

दंतेवाडा जिले को पिछड़े जिले के अभिशाप से मुक्ति दिलाने का संकल्प

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने लोक सभा सांसद श्री राहुल गांधी की उपस्थिति में दंतेवाड़ा जिले में गरीबी रेखा का प्रतिशत राष्ट्रीय औसत से कम करने का संकल्प लिया। वर्तमान में दंतेवाड़ा जिले में 60 लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करते हैं जबकि राष्ट्रीय औसत 22 प्रतिशत है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और मंत्रिमण्डल के सभी सदस्यों ने आने वाले 4 वर्षों में इसे राष्ट्रीय औसत से कम करने का संकल्प लिया, ताकि दंतेवाडा जिले को सार्वधिक पिछड़ा जिला होने के कलंक से मुक्ति मिल सके।

देवगुड़ी, घोटुल परम्परा उनकी समृृद्ध संस्कृति के संरक्षण के किये जा रहे प्रयास    

मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासियों की देवगुड़ी, घोटुल परम्परा सहित उनकी समृृद्ध संस्कृति के संरक्षण के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। हम संविधान में विश्वास करने वाले लोग हैं। हम अदिवासियों, पिछड़ों, गरीबों और महिलाओं को उनके संविधान प्रदत्त अधिकार दिलाने के लिए कृत संकल्पित हैं। संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत ने आभार व्यक्त किया।

आदिवासी लोक नृत्य दलों ने निकाली शोभायात्रा

महोत्सव में देश-विदेश से आए नृत्य दलों ने शोभायात्रा भी निकाली। लोकसभा सांसद श्री राहुल गांधी, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और अन्य अतिथियों ने मांदर की थाप पर लोक नृत्य दलों का साथ दिया।

मुख्य अतिथि ने छत्तीसगढ़ शासन के केलेण्डर का किया विमोचन

मुख्य अतिथि श्री राहुल गांधी ने आज राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के मुख्य मंच से छत्तीसगढ़ शासन के वर्ष 2020 के नये केलेण्डर का विमोचन किया। गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर आधारित इस केलेण्डर में छत्तीसगढ़ के राज्य गीत की विभिन्न पंक्तियों को समाहित किया गया है।
     इस मौके पर भारत में यूनाइटेड नेशन की मिशन चीफ सुश्री रेनटा लोक डेसालियन, पूर्व लोक सभा अध्यक्ष सुश्री मीरा कुमार, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री कांतिलाल भूरिया, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री भक्त चरण दास, राज्य सभा सांसद श्री बी.के. हरिप्रसाद, श्री पी.एल.पूनिया, श्री चंदन यादव, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरण दास महंत, उपाध्यक्ष श्री मनोज मण्डावी सहित मंत्रीमंडल के सभी सदस्य, अनेक विधायक, सांसद और विभिन्न देशों और राज्यों से आए लोक कलाकार और बड़ी संख्या में आम नागरिक उपस्िथत थे।

No comments:

Post a Comment

Translate