Saturday, March 14, 2020

अरी पुलिस ने अंतरराज्यीय बैंक की लूट करने वालों में एक सदस्य को किया गिरफ्तार

अरी पुलिस ने अंतरराज्यीय बैंक की लूट करने वालों में एक सदस्य को किया गिरफ्तार

सैंन्ट्रल बैंक आॅफ इंडिया शाखा अरी में पुलिस गश्त वाहन की आवाज से भाग गये थे चोर

सिवनी। गोंडवाना समय। 
थाना अरी में बैंक चोरी करने के प्रयास की घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस एवं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस बरघाट से प्राप्त निर्देशन में अरी पुलिस व्दारा आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। शाखा प्रबंधक सैंन्ट्रल बैंक आॅफ इंडिया शाखा अरी की सोनल यादव ने 9 मार्च 2020 को अरी थाना में उपस्थित होकर शाखा अरी में 7 मार्च 2020 दिन शनिवार से 9 मार्च के मध्य बैंक में चोरी होने के प्रयास करने के संबंध में आवेदन दिया था। जिसमें उनके द्वारा बैंक में लगभग 22 लाख रूपया को बैंक के गेट को तोड़कर/खोलकर चोरी करने का प्रयास करना बताये जाने पर थाना अरी में 457, 511 आईपीसी का अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया गया ।

अमरावती से किया था गिरफतार 

विवेचना के दौरान मुखबिर की सूचना पर 10 मार्च 2020 को आरोपी शशिकान्त पिता रामदास सिड़ामे निवासी सुशीलनगर वार्ड नं. 22 श्मसान घाट के पास जिला अमरावती को गिरफ्तार किया गया था। वहीं पुलिस ने उसके कब्जे से गैस की टंकी एवं गैस कटर का सामान, टार्च, ब्लैक स्प्रे, कटर, पाना, पिंचिस इत्यादि एवं घटना में प्रयुक्त हॉन्डई कम्पनी की कार एम एच 27 एच 8163 जप्त कर पुलिस रिमांड में लिया था। इसके बाद पुलिस द्वारा पूछताछ के दौरान ज्ञात हुआ की आरोपी अमित निम्बोड़कर, रामेश्वर ग्वारी एवं सागर पिता किशनराव देशमुख उर्फ सुरेश पिता काशीराम उमक के साथ मिलकर 7 एवं 8 मार्च की दरम्यानी रात में सैन्ट्रल बैंक आॅफ इंडिया शाखा अरी में रात में करीबन डेढ़ बजे बैंक में चोरी करने की नियत से बैंक का मुख्य गेट खोलने का प्रयास कर रहे थे लेकिन उसी समय पुलिस गस्त की गाड़ी पास में पहुंचने पर आधा सामान वही छोड़कर भाग गये थे।

रैकी कर, पड़ौसी जिलों की हॉटलों में रूकते है 

आरोपीगण बैंक में चोरी करने से पहले बैंक के आस-पास के क्षेत्र की रेकी करते है। इसके साथ ही वे नजदीकी जिलों की हॉटलों में रूकते है। चोरी करने वाली जगह पर लगातार रैकी कर पुलिस की उपस्थिति एवं आने जाने वाले लोगों की जानकारी प्राप्त करके तथा कुछ सामान बैंक के पास में छुपाकर चले जाते है। घटना कारित करने के दिन आरोपीगण एवं एक साधारण मोबाईल लेकर एवं शेष मोबाईल घर पर छोड़कर गाड़ी से आते है तथा वारदात को अंजान देते है।

मुख्य आरोपी करवा चुका है कई बार चेहरे की सर्जरी 

बैंक में चोरी को अंजाम देने वालों में आरोपी के साथियों में अमित निम्बोड़कर, रामेश्वर ग्वारी एवं सागर पिता किशनराव देशमुख उर्फ सुरेश पिता काशीराम उमक शामिल है। जबकि आरोपियों का मुख्य मुखिया सागर पिता किशनराव देशमुख उर्फ सुरेश पिता काशीराम उमक निवासी अमरावती है। जिसने कई राज्यों में बैंक में चोरी करने की वारदात अपने साथियों के साथ मिलकर किया है। आरोपी समय-समय पर अपनी चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी भी करवा चुका है। जिससे पुलिस उसे आसानी से नही पकड़ पाये। इंटरनेट पर भी आरोपी के संबंध में अलग-अलग प्रदेशो की पुलिस ने जानकारी साझा की है, जिसे आसानी से देखा जा सकता है। थाना अरी पुलिस के अथक प्रयासो से उक्त एक आरोपी की गिरफ्तारी हुई है शेष की तलाश जारी है ।

No comments:

Post a Comment

Translate