Friday, April 17, 2020

श्रमवीरों का आना पुन: चालू, 3 जिलो की संवादहीनता आई सामने

श्रमवीरों का आना पुन: चालू, 3 जिलो की संवादहीनता आई सामने

नरसिंहपुर, मण्डला और सिवनी जिला प्रशासन में सवांद की कमी के चलते लगभग 20 किलो मीटर तक अब भी मजदूर पैदल चल रहे है। वहीं लगभग 1 घंटे के इंतजार के बाद मजदूरों को इंतजार के बाद भोजना मिला।

नैनपुर। गोंडवाना समय। 
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के स्पष्ट निर्देश है की जो भी श्रमवीर यदि वह प्रदेश के बाहर है तो उनकी व्यवस्थायें सुनिश्चित की जावे वहीं यदि वे वापस आ रहे तो उनकी स्वस्थ्य जांच, भोजन और वाहन की उपलब्धता सुनिशित की जाए औन उन्हें जहां है वहीं पर रहने की व्यवस्था की जावे। मुख्यमंत्री के ये निर्देश मैदानी स्तर पर दम तोड़ रहे है और खामियाजा श्रमवीरों को भोगना पड़ रहा है। ऐसे समय में एक ओर जहां जनप्रतिनिधि मैदान से गायब है वहीं यदि प्रशासन के द्वारा कार्यप्रणाली में कोई कमी है तो जनप्रतिनिधियों को इस विषम परस्थितियों में मोर्चा सँभालना चाहिये पर वो भी नदारद है। 

20 किलोमीटर पैदल चले श्रमवीर 

देखा जा रहा है की मैदानी स्तर पर तीन जिला की सवांद हीनता के चलते 17 अप्रैल 2020 को श्रमवीर अपने बच्चो को लेकर लगभग 20 किलो मीटर पैदल चले, उसके बाद उन को वाहन मिला। चेक पोस्ट में 40 मजदूर पहुंचे। जिसमें डिण्डोरी जिला के अमरपुर ब्लाक, मण्डला जिला के मोहगांव, इसके साथ नैनपुर ब्लाक के कुछ श्रमवीर शामिल थे। बताया जाता है कि रायसेन से ये श्रमवीर किसी गाड़ी में बैठकर नरसिंहपुर के मुंगवानी तक आये थे। वहाँ से लगभग 20 किलो मीटर पैदल चल कर सिवनी जिला चेक पोस्ट में दाखिल हुए। जहां पर उसके बाद उनको वाहन से नैनपुर चेक पोस्ट तक सिवनी जिला प्रशासन के द्वारा पहुंचाया गया। 

नैनपुर चैकपोस्पर हुआ चैकअ‍ॅप

चैकपोस्ट नैनपुर पर पहुंचे श्रमवीरों के स्वस्थ्य जांच नैनपुर में भी हुई। इसके बाद अब जहां श्रमवीरों को भोजन की व्यवस्था करना था। इसके लिये सभी श्रमवीरों को भोजन का इंतजार लगभग 1 घण्टा तक करना पड़ा। भोजन को लेकर जब नागरिक मंच के पास सूचना तब एसडीएम, तहसीलदार से नागरिक मंच का सवांद हुआ जहां पर अधिकारी भी मोके पर पहुँचे और भोजन बनवाया गया। फिर भी 1 घण्टे भूखे श्रमवीरों को रहना पड़ा फिर इनको भोजन स्थानीय प्रशासन ने उपलब्ध कराया। 

9 मजदूरों को किया गया कोरोटाईन

नैनपुर चैकपोस्ट पर पहुंचे श्रमवीरों में से 9 श्रमवीरों को नया हॉस्पिटल धनोरा ग्राम में कोरोटाईन किया गया है। बड़ा सवाल ये है 3 मई तक लॉक डाउन है, श्रमवीरों को जो साधन मिल रहा है उसमें बैठकर वह आ रहे है। इसके बाद भी 3 जिला के जिला प्रशासन में सवांद की कमी या व्यवस्था की कमी का सामना श्रमवीरों को क्यों करना पड़ रहा है। जबकि यदि नैनपुर चेक पोस्ट को अवगत करा दिया जाता तो भोजन तैयार समय पर मिल सकता था। 

No comments:

Post a Comment

Translate