Wednesday, April 22, 2020

अतिथि व्याख्याताओं के परिवार का कैसे दूर होगा आर्थिक संकट

अतिथि व्याख्याताओं के परिवार का कैसे दूर होगा आर्थिक संकट 

शासन में बैठे अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान, 

सिवनी/छिंदवाड़ा/भोपाल। गोंडवाना समय। 
मध्य प्रदेश में संचालित पॉलीटेक्निक महाविद्यालयों में लॉक डाउन के दौरान का मानदेय मिलने का संकट ने अतिथि व्याख्याताओं के परिवार की आजीविका को मुश्किल में डाल दिया है। आर्थिक समस्याओं के चलते पारिवारिक रूप से व्याप्त समस्याओं के संबंध में जानकारी देते हुये जारी प्रेस विज्ञप्ति में प्रदेश अध्यक्ष श्री योगेश इंदोरिया ने बताया कि मध्य प्रदेश मे संचालित शासकीय /स्वशासी /अनुदान प्राप्त पॉलीटेक्निक महाविद्यालयों में लगभग 2000 अतिथि व्याख्याता कार्यरत हैं। जिनका भुगतान 400 रूपये प्रति कालखंड अधिकतम 12 सौ रुपए प्रतिदिन के हिसाब से किया जाता है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड-19 के चलते बीते माह 16 मार्च से शासन द्वारा लिये गये निर्णय के कारण कक्षाएं स्थगित कर दी थीं। 

प्राचार्य बता रहे तकनीकि शिक्षा विभाग से नहीं है ऐसे कोई आदेश 

वहीं तत्पश्चात भारत सरकार ने संपूर्ण देश में लॉक डाउन घोषित कर दिया गया है। केंद्र शासन /प्रशासन ने मध्य प्रदेश के विभिन्न शासकीय /अशासकीय कर्मचारियों को कार्य से न हटाने एवं वेतन देने के आदेश भी दिए थे लेकिन पॉलीटेक्निक महाविद्यालयों मे मानदेय के लिए प्राचार्यों से बात करने पर उनका कहना है कि हमारे पास तकनीकी शिक्षा विभाग/शासन से ऐसा कोई आदेश नहीं है। जिससे अतिथि व्याख्याताओं का भुगतान किया जा सके। इस कारण मध्य प्रदेश के समस्त पॉलीटेक्निक अतिथि व्याख्याता आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और परिवार का भरण पोषण कर पाना मुश्किल हो गया है। 

आवेदन/ज्ञापन ई-मेल से भेजे जा चुके पर आज तक नहीं हुई कार्यवाही 

मानदेय से संबंधित आवेदन/ज्ञापन ई-मेल के माध्यम से संबंधित तकनीकी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भेजे जा चुके हैं लेकिन इस सम्बंध में आज दिनाँक तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। जिससे मध्यप्रदेश के सभी पॉलीटेक्निक अतिथि  व्याख्याताओं की स्थिति काफी दयनीय है।

No comments:

Post a Comment

Translate