Wednesday, May 27, 2020

10 वर्षीय बालिका का हत्यारा आरोपी गिरफतार

10 वर्षीय बालिका का हत्यारा आरोपी गिरफतार 

अरी पुलिस ने किया हत्याकांड का पदार्फाश

सिवनी। गोंडवाना समय। 
जिले के अरी थाना अंतर्गत ग्राम डुंगरिया में मंगलवार सुबह एक 10 वर्षीय बालिका का शव मिला था। इस प्रकरण में पुलिस ने अंधे हत्याकांड का खुलासा करते हुए एक आरोपित मुकेश उईके पिता भागचंद उईके उम्र 24 वर्ष को गिरफ्तार किया है। अरी थाना अंतर्गत ग्राम डूंगरिया में 10 वर्षीय बच्ची की मृत्यु की सूचना ग्राम कोटवार द्वारा दी गई थी जिस पर मर्ग कायम किया गया। मृत बालिका का शव संदिग्ध हालत में मिलने पर हत्या का संदेह होने पर अरी पुलिस थाना द्वारा मर्ग जांच उपरांत धारा 302 का अपराध पंजीबद्ध किया गया। 

कुछ संदेहियों की गई पूछताछ तो खुला राज 

वहीं शव मिलने की घटना के दिन मंगलवार को सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, एसडीओपी घटनास्थल पर पहुंचे थे, जहां ग्रामीणों व परिजनों से बारीकी से पूछताछ की गई। घटनास्थल का सूक्ष्मता से निरीक्षण किया गया। कुछ संदेहियों को पूछताछ के लिए थाने लाया गया, जिनसे सख्ती से पूछताछ करने पर अंधी हत्या का पदार्फाश हो गया। पुलिस ने आरोपित 24 वर्षीय मुकेश पुत्र भागचंद उइके निवासी डूंगरिया को गिरफ्तार किया है। 

गाड़ी का पहिया चोरी करते हुये आरोपी को देखा था 

पुलिस ने बताया कि बीती 22 मई 2020 को मृतिका शाम को पांच बजे आरोपित के घर टीवी देखने गई थी। आरोपित मृतिका के ही समाज का होकर सामाजिक भाई लगता है। आरोपित ने उसे घर से डांटकर करीब 7 बजे भगा दिया था। रात करीब 9 बजे मृतिका जब घर से शौच हेतु निकली तो आरोपित को गांव में गाड़ी का पहिया चुराते हुये देख लिया था और चोर-चोर चिल्लाते हुए भागने लगी थी। 

आरोपी ने गला दबाने के बाद रेत में दबा दिया था शव 

तभी आरोपित मुकेश ने उसे दौड़कर पकड़ा और किसी को नहीं बताने के लिए कहा, तब बालिका ने कहा कि मैं बताऊंगी, जिससे आरोपित आवेश में आ गया और बालिका का गला दबाकर मार डाला। उसके बाद लगभग 01 किलोमीटर दूर जंगल में सूखे नाले के पास रेत में उसका शव दबा दिया। मंगलवार 26 मई 2020 को सुबह ग्राम कोटवार ने वहाँ से गुजरते हुए नाले के पास बदबू आने पर गांव के अन्य लोगों को बुलाया और शव को देखकर कपड़ों से पहचान हो जाने पर मृतिका के परिजन के साथ थाना अरी में जाकर रिपोर्ट दर्ज कराई।

हत्याकांड का खुलासा करने में इनका रहा योगदान 

हत्याकाण्ड का खुलासा करने में एसडीओपी बरघाट श्री बी एस धुर्वे, थाना प्रभारी अरी उपनिरीक्षक देवेन्द्र उईके, सहायक उपनिरीक्षक एच एस ठाकुर, सहायक उप निरीक्षक नियाज खान, प्रधान आरक्षक 184 शैलेष ठाकुर, प्रधान आरक्षक 158 संतोष बैन, आरक्षक सत्यवान कंगले, आरक्षक 513 आशीष, आरक्षक 335 तुलसीराम, आरक्षक 360 संजू उईके, आरक्षक कमल का विशेष योगदान रहा। 

No comments:

Post a Comment

Translate