Monday, June 15, 2020

300 ग्राम ज्यादा तौलने के मामले में बोलने वाले विधायक परिवहन न होने से असुरिक्षत हजारों विक्ंटल गेंहू के मामले मौन

300 ग्राम ज्यादा तौलने के मामले में बोलने वाले विधायक परिवहन न होने से असुरिक्षत हजारों विक्ंटल गेंहू के मामले मौन 

केवलारी विधानसभा के डिवटी खरीदी केंद्र में खुले आसमान के नीचे पड़ा गेंहू

दूर से देखों तो ऐसा दिख रहा गेंहू जैसी पड़ी हो रेत

भारत में उपार्जन के मामले में मध्य प्रदेश प्रथम स्थान पर आया है। इसके लिये मुख्यमंत्री व कृषि मंत्री ने उपार्जन केंद्रों की पीठ भी खूब थपथपाई है। इसका प्रचार भी किया गया कि मध्य प्रदेश देश में पहले नंबर आया है। अच्छी बात है सरकार को उपार्जन में प्रशंसनीय सफलता मिली लेकिन क्या उपार्जन केंद्रों पर गेंहू सुरक्षित रख पाने और उसे भण्डारण कक्षों तक खराब होने से पहले पहुंचाने में सरकार, शासन-प्रशासन व परिवहन ठेकेदार की वास्तविक स्थिति यह है कि गेंहू को ढांकने के लिये तित्रपाल नहीं खरीद पा रहे है। 

सिवनी। गोंडवाना समय। 
केवलारी विधायक श्री राकेश पाल ने केवलारी विधानसभा क्षेत्र के अधिकांश खरीदी केंद्रों में खरीदी के दौरान निरीक्षण कर ज्यादा गेंहू लेने के मामले, कमीशन, हम्मालों की समस्या उठाया था और इसमें लापरवाही बरतने वालों पर कार्यवाही करवाने में वह पीछे नहीं रहे।
       
हम आपको बता दे कि केवलारी विधायक डिवटी खरीदी केंद्र में भी किसानों से तय मात्रा से ज्यादा गेंहू तुलाई को लेकर किसानों के साथ शोषण नहीं किये जाने को लेकर खरीदी केंद्र प्रभारी को डांट-फटकार खूब लगाई थी पंचनामा भी बनवाया था।

डिवटी में खुले आसमान के नीचे पड़ा गेंहू 

केवलारी विधानसभा क्षेत्र के डिवटी खरीदी केंद्र में खुले आसमान के नीचे गेंहू पड़ा है। बरसात पानी के कारण गेंहू खराब होता हुआ दिखाई दे रहा है।
            क्षेत्रिय विधायक ने 300 ग्राम ज्यादा गेंहू लेने के मामले में किसानों के शोषण के खिलाफ तो खूब आवाज उठाई थी लेकिन किसान की मेहतन से उत्पादित हजारों विक्ंटल गेंहू के सड़ने व खराब होने के मामले में मौन साध लिया है। परिवहन न होने के कारण परिवहन ठेकेदार के खिलाफ एक शब्द भी विधायक नहीं बोल पा रहे है। 
बोरो में भरा गेंहू भी असुरक्षित पड़ा हुआ है। हजारों क्विंटल गेंहू परिवहन नहीं हो पाने के कारण बर्बाद होने की स्थिति में है।

कलेक्टर ने शासकीय भवनों में गेंहू सुरक्षित रखने के दिये निर्देश 

कलेक्टर डॉ राहूल हरिदास फटिंग ने 12 जून 2020 को सभी एसडीएम सहित समस्त जनपद पचांयतों के सीईओ को निर्देश जारी करते हुये पत्र लिखा है कि जिसमें उन्होंने उपार्जन केंद्रोें से परिवहन हेतु शेष गेंहू उपार्जन केंद्र के निकटतम शासकीय भवन में भण्डारित कराने के संबंध में उल्लेख किया है। 

स्कूल, आश्रम, छात्रावास, सामुदायिक भवन, पंचायत भवन में करें गेंहू का भण्डारण 

कलेक्टर ने उल्लेख किया है कि जिले में उपार्जन का पूर्ण हो चुका है। उपार्जन केंद्रों में खरीदा गया गेंहू परिवहन नहीं होने से पानी-बरसात-ठण्डक या अन्य कारणों से खराब हो सकता है। अतएव अपने अपने कार्य क्षेत्र अंतर्गत उपार्जन केंद्र में परिवहन हेतु शेष रहे गेंहू का भण्डारण स्थानीय स्तर पर वाहनों आदि की व्यवस्था कर उपार्जन केंद्र वाले ग्राम में या निकटस्थ ग्राम के किसी भी शासकीय भवन, स्कूल, आश्रम, छात्रावास, सामुदायिक भवन, पंचायत भवन या अन्य कोई उपलब्ध भवन में सुरक्षित भण्डारित कराने के संबंध में आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कराये। 

दरवाजे, खिड़की ठीक तरह से बंद रखें 

कृपया सभी अधिकारी यह देखे की गेंहू के सुरक्षित भण्डारण हेतु शासकीय भवनों के दरवाजे, खिड़की आदि ठीक से बंद हो ताकि अचानक पानी बरसात आदि से कोई नुकसान न हो इसके साथ ही स्थानीय स्तर पर वाहनों की व्यवस्था, मजदूर, हम्माल आदि की व्यवस्था कराये जाने हेतु आवश्यकत कर्यवाही कराये जाने की बात कही है।

विपरण अधिकारी अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिये स्वयं उत्तरदायी होंगे 


वहीं कलेक्टर ने जिला विपरण अधिकारी सिवनी को आदेशित किया है कि तत्काल उपार्जन केंद्रों से शत प्रतिशत परिवहन की व्यवस्था सुनिश्चित करें उक्त कार्य में विलंब, लापरवाही एवं स्वेच्छाचारिता के लिये होने वाले अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिये आप स्वयं उत्तरदायी होंगे। 

1 comment:

  1. manniy महोदय कृपया परिवहन smy में न होने से हुये गेहूँ ख़राब के विषय में apka kya ख्याल है इस पर bhi उचित दृष्टि रखते हुये कोइ karuavahi करे

    ReplyDelete

Translate