Wednesday, June 3, 2020

महाप्रबंधक, ठेकेदार, ग्राम पंचायत ने आदिवासी की जमीन पर बनवा दिया सड़क

महाप्रबंधक, ठेकेदार, ग्राम पंचायत ने आदिवासी की जमीन पर बनवा दिया सड़क 

मुआवजा के बदले मिल रही प्रताड़ना, दो वर्ष से हो रहा परेशान कोई सुनवाई नहीं 

अनुसूचित क्षेत्र में जजनाति वर्ग की भूमि को बिना अधिग्रहण के कैसे बना लिया सड़क

्ग्राम पंचायत कलबोड़ी सरपंच-सचिव की मिलीभगत से सड़क बनाकर नहीं दे रहे मुआवजा

शासकीय निर्माण कार्य के लिये जानबकारों की माने तो निजी भूमि का अधिग्रहण किया जाकर निर्माण किया जाता है। वहीं यदि अनुसूचित क्षेत्र की बात करें तो जनजाति वर्ग की कोई भी जमीन को अधिग्रहित करने से पहले राज्यपाल के आदेशानुसार कलेक्टर के माध्यम से जमीन को अधिग्रहण करना पड़ता है लेकिन प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के महाप्रबंधक, ठेकेदार, ग्राम पंचायत कलबोड़ी के सरपंच-सचिव ने सड़क के लिये जनजाति वर्ग के किसान की जमीन को बिना अधिग्रहण के ही पहले तो सड़क का निर्माण कर लिया है और मुआवजा मांगने पर धमकी भी दे रहे है। भाजपा की सरकार से प्रताड़ित होते होते कांग्रेस की सरकार बन गई अब फिर भाजपा की सरकार बन गई है लेकिन आदिवासी किसान के प्रताड़ित होना बंद नहीं हुआ है।  

सिवनी। गोंडवाना समय ।
जनजाति अनुसूचित ब्लॉक कुरई के अंतर्गत प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत विभाग व ठेकेदार द्वारा जनजाति वर्ग के किसान रामस्वरूप बरकड़े के निजी पट्टे की भूमि पर सड़क निर्माण कराए जाने का मामला सामने आया है। जनजाति वर्ग का पीड़ित भूस्वामी की जमीन पर प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विभाग व सड़क निर्माण ठेकेदार के द्वारा सड़क का निर्माण भी कर लिया गया है। वहीं जमीन के बदले में किसान रामस्वरूप बरकड़े को इसका मुआवजा तक नहीं दिया गया है। बीते 2 वर्ष में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विभाग व ठेकेदार की प्रताड़ना को सहने के बाद इस मामले की शिकायत करते हुए जनजाति वर्ग के किसान रामस्वरूप बरकड़े ने मुआवजा की मांग किया है। 

सुकतरा से कर्माझिरी से पोतलई पर रोड पर बनी है सड़क 

जनजाति बाहुल्य अनुसूचित ब्लॉक कुरई के अंतर्गत प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सुकतरा से कर्माझिरी से पोतलई रोड टी-01 जिसकी लम्बाई 0.95 किलोमीटर जिसकी लागत 30 लाख 76 हजार रुपये से सड़क का निर्माण कार्य किया गया है। यह सड़क पीएमजीएसवाई योजना के तहत निर्माण का कार्य कराया गया है। पीड़ित आदिवासी रामस्वरूप वरकड़े ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सड़क निर्माण एजेंसी ठेकेदार द्वारा उसके पट्टे की जमीन खसरा नंबर 133 पर कब्जा कर सड़क बना लिया है। 

सरपंच-सचिव ने गुमराह कर बनवा दिया सड़क 

जनजाति बाहुल्य अनुसूचित क्षेत्र कुरई के अंतर्गत ग्राम पंचायत कलबोड़ी के सरपंच सचिव ने आदिवासी किसान की जमीन पर सड़क का निर्माण करवाये जाने के लिये प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना विभाग व निर्माण एजेंसी ठेकेदार की पूरी मदद किया था। किसान रामस्वरूप बरकड़े का कहना है कि उसे ग्राम पंचायत कलबोड़ी के सरपंच-सचिव ने पूर्व में गुमराह करके पहले तो मुआवजा दिलाने की बात कहा था। सड़क बनने के दौरान व सड़क बनने के बाद जब वह मुआवजा की मांग करने लगा तो किसान रामस्वरूप बरकड़े को सड़क निर्माण ठेकेदार व सरपंच-सचिव धमकी देने लगे कि तुम्हे जहां लगे वहां शिकायत कर दो। वहीं प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के जिम्मेदार अधिकारी भी इस मामले में सड़क निर्माण ठेकेदार को ही संरक्षण देते रहे। सड़क निर्माण की प्रक्रिया के तहत लगभग बीते दो वर्ष से पीड़ित किसान रामस्वरूप बरकड़े को मुआवजा भी नहीं मिला हैं, जिसके कारण वह और उसका परिवार मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहा है। 

महाप्रबंधक, ठेकेदार, ग्राम पंचायत ने दिया धोखा

आदिवासी किसान रामस्वरूप वरकड़े का कहना है कि प्रधानमंत्री सड़क योजना के ठेकेदार व महाप्रबंधक और ग्राम पंचायत कलबोड़ी के सरपंच और सचिव ने हमारे साथ धोखा किया है। पहले कहा गया था कि सड़क के लिए आपको मुआवजा दी जाएगी पर ऐसा नहीं किया गया। वहीं प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विभाग भी अपने वादे से मुकर गया।
इस संबंध में जब श्री अजय रघुवंशी महाप्रबंधक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से गोंडवान सामय द्वारा चर्चा किया गया तो उन्होंने बताया कि हमारे विभाग में विवादित जमीन पर सड़क का निर्माण नहीं किया जाता है। वहीं यदि आदिवासी किसान की जमीन पर सड़क बनाये जाने और मुआवजा नहीं दिये जाने का विषय है तो इस संबंध में संबंधित आदिवासी किसान यदि मेरे पास आते है तो किसान की समस्या का समाधान करने का प्रयास किया जायेगा। 

No comments:

Post a Comment

Translate