Saturday, June 20, 2020

लखनादौन-घंसौर में ओलावृष्टि के मुआवजे पर कलेक्टर हुये नाराज

लखनादौन-घंसौर में ओलावृष्टि के मुआवजे पर कलेक्टर हुये नाराज 

राजस्व अधिकारियों की बैठक संपन्न

सिवनी। गोंडवाना समय। 
कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग की अध्यक्षता में शनिवार 20 जून को राजस्व अधिकारियों की बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें अपर कलेक्टर श्रीमती रानी बाटड़, सहायक कलेक्टर श्री श्यामबीर, सहायक कलेक्टर श्री अक्षत जैन सहित सभी अनुविभागीय अधिकारी, तहसीलदारों एवं नायब तहसीलदारों की उपस्थिति रही। 

3 दिवस में हितग्राही को भुगतान किये जाने के निर्देश दिए

बैठक में कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग द्वारा राजस्व न्यायालयवार  लंबित राजस्व प्रकरणों की समीक्षा कर 1 वर्षो से अधिक समय से  लंबित प्रकरणों तथा अविवादित नामान्तरण बटवारा प्रकरणों के त्वरित निराकरण के निर्देश दिए गए। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को लंबित प्रकरणों के निराकरण हेतु आवश्यकता होने पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम के सभी मानकों को सुनिश्चित करते हुए पक्षकारो की पेशी किए जाने हेतु निर्देशित किया । उन्होंने अधिकारियों से आरबीसी 6-4 तहत प्राकृितक आपदाओं में प्रदाय किये जाने वाले आर्थिक सहायता के लंबित प्रकरणों की जानकारी प्राप्त कर 3 दिवस में हितग्राही को भुगतान किये जाने के निर्देश दिए। 

राहत राशि के त्वरित भुगतान किए जाने हेतु निर्देशित

उन्होंने लखनादौन  एवं घंसौर तहसील में लंबित ओलावृष्टि से हुई फसल नुकसानी के लंबित प्रकरणों पर नाराजगी व्यक्त कर सम्बन्धित राजस्व अधिकारियों को संबंधित किसानों को राहत राशि के त्वरित भुगतान किए जाने हेतु निर्देशित किया। उन्होंने अनुविभागवार सी एम हेल्पलाइन की समीक्षा कर 100 दिवस की शिकायतों के साथ ही अन्य शिकायतों को भी प्राथमिकता से कार्यवाही कर शिकायतों के निराकरण  किये जाने के निर्देश दिए।

बीज- खाद की गुणवत्ता तथा निर्धारित मूल्य में हो विक्रय

कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग ने सभी अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसीलदारों को अपने- अपने अनुभाग में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम हेतु जन जागरूकता तथा प्रतिबंधात्मक कार्यवाही के निर्देश दिए । उन्होंने बाहर से आए व्यक्तियों के नमूने लेकर उन्हें होम कोरेनटाईन किए जाने वाली गतिविधियों की सतत निगरानी हेतु निर्देशित किया । इसी तरह सर्दी, खांसी जुकाम तथा बुखार से ग्रसित संदिग्ध व्यक्तियों के उपचार तथा उनके नमूने लिए जाने हेतु जिले के विभिन्न क्षेत्रों में बनाए गए फीवर क्लिनिक की व्यवस्थाओं का भी निरीक्षण कर इनके बेहतर क्रियांवयन हेतु आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने खरीफ बुआई समय को ध्यान में रखते हुए सभी राजस्व अधिकारियों को बीज-खाद की दुकानों का निरीक्षण करते हुए बीज- खाद की गुणवत्ता तथा निर्धारित मूल्य में विक्रय किए जाने को लेकर कार्यवाही किए जाने हेतु निर्देशित किया । 

No comments:

Post a Comment

Translate