Friday, September 11, 2020

सिवनी विधायक ने बोली कराया, लखनादौन विधायक को नहीं बुलाया

सिवनी विधायक ने बोली कराया, लखनादौन विधायक को नहीं बुलाया 

दुकानों की बोली में जनजाति वर्ग के अधिकारों के साथ हुआ कुठाराघात 


लखनादौन। गोंडवाना समय। 

अनुसूचित क्षेत्र लखनादौन में जनजाति वर्ग के संवैधानिक अधिकारों का ध्यान में रखते हुये दुकानों की बोली प्रक्रिया निर्धारित किये जाने को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री अरविंद उईके, गोंडवाना स्टूडेंट यूनियर के प्रदेश अध्यक्ष शोकलाल कुलस्ते, गोंगपा ब्लॉक अध्यक्ष गंगाराम मरावी द्वारा बोली दिनांक 10 सितंबर के पहले 8 सितंबर 2020 को ही लखनादौन, एसडीएम, नगर पंचायत लखनादौन सीएमओ सहित अन्य अधिकारियों के नाम के आवेदन दिया गया था। 

आवेदन पर नहीं दिया ध्यान, संपन्न करा दिया दुकानों की नीलामी 


गोंगपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री अरविंद उईके ने जानकारी देते हुये बताया कि हमारे द्वारा जनजातियों के संवैधानिक अधिकारों को ध्यान में रखते हुये बोली नीलामी प्रक्रिया लखनदौन नगर पंचायत अंतर्गत दुकानों की नीलामी किये जाने के लिये आवेदन दिया गया था परंतु उस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया।

वहीं नगर पंचायत परिषद लखनादौन की दुकानों की नीलामी की बोली प्रक्रिया में

सिवनी विधायक श्री दिनेश राय मुनमुन द्वारा, नगर पंचायत परिषद लखनादौन के अधिकारियों की उपस्थिति में संपन्न की गई।

इसके साथ ही जनजाति वर्ग के लिये आरक्षित विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री योगेन्द्र सिंह बाबा को नगर पंचायत परिषद लखनादौन द्वारा आमंत्रित तक नहीं किया गया। यह जनजाति वर्ग के जनप्रतिनिधि विधायक का भी अपमान है। जबकि श्री दिनेश राय मुनमुन सिवनी विधानसभा क्षेत्र के विधायक है इसके बाद भी उनके द्वारा दुकानों की बोली उनके स्वयं के द्वारा माईक में की गई है। 

8 सितंबर को जनजाति के अधिकारों को लेकर यह दिया था आवेदन 


गोंगपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री अरविंद उईके ने बताया कि हमारे द्वारा 8 सितंबर 2020 को अनुसूचित क्षेत्र लखनादौन में जनजाति वर्ग के संवैधानिक अधिकारों को ध्यान में रखते हुये बोली प्रक्रिया किये जाने के संबंध में आवेदन दिया गया था। जिसमें हमने जनजातियों के हित में यह मांग किया था कि बोलीकर्ता को भाग लेने के लिये 1 लाख रूपये अधिक है जो जनजाति वर्ग के सदस्य के लिये संभवन नहीं है इसलिये इसे 10 हजार रूपये किया जावे, इसके साथ ही नीलामी प्रक्रिया में लखनादौन ब्लॉक के जनजाति समुदाय को भी पात्रता दी जाये क्योंकि व्यापार करने वाला सिर्फ लखनादौन नगर के ही मतदाता को ही सामग्री का विक्रय नहीं करेगा वरन लखनादौन ब्लॉक के ग्रामीण जन भी क्रय करेंगे। वहीं इसके साथ ही पेसा एक्ट लागू होने वाले एवं अनुसूचित क्षेत्र लखनादौन में संवैधानिक प्रावधानों के अनुरूप जनजाति वर्ग का आरक्षण 50 प्रतिशत किया जावे। अनुसूचित वर्ग के लिये मात्र पुरूष वर्ग के लिये 7 एवं 1 महिला के लिये आरक्षित की गई है जो जनजाति बाहुल्य क्षेत्र होने के बाद भी जनजाति वर्ग के अधिकारों पर कुठाराघात है। वही आरक्षित वर्ग के यदि बोलीकर्ता 3 बार आमंत्रित किये जाने पर नहीं आते है तो उसे अनारक्षित के लिये प्रदाय किया जायेगा यह नियम गलत है। 

राज्यपाल को पहुंचाया व क्षेत्रिय विधायक को भी दिया आवेदन


गोंगपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री अरविंद उईके ने जानकारी देते हुये बताया कि उक्त आवेदन को हमारे द्वारा मध्य प्रदेश के राज्यपाल के नाम पर भी पहुंचाया गया है। वहीं इसके साथ ही लखनादौन विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री योगेन्द्र सिंह बाबा को भी दिया गया है। 

नगर पंचायत परिषद लखनादौन की गोंगपा ने किया निंदा 


गोंगपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री अरविंद उईके ने बताया कि लखनादौन नगर पंचायत परिषद द्वारा दुकानों की नीलामी प्रक्रिया में क्षेत्रिय विधायक और जनजाति आरक्षित क्षेत्र लखनादौन के विधायक को नहीं बुलाया जाना विधायक के साथ साथ जनजाति समाज का और जनजाति जनप्रतिनिधि का अपमान किया गया है। इस तरह का अपमान नगर पंचायत परिषद लखनादौन द्वारा किया गया है। लखनादौन नगर पंचायत परिषद लखनादौन के द्वारा सिवनी विधायक को बोली नीलामी प्रक्रिया में बुलवाकर और उनके द्वारा बोली नीलामी प्रक्रिया करवाये जाने पर लखनादौन नगर पंचायत परिषद का विरोध कर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी विरोध  निंदा करती है। 

No comments:

Post a Comment

Translate