Sunday, October 11, 2020

पेट्रोल-डीजल पंप के लिये सिंगल विंडो से मिलेगी एनओसी

पेट्रोल-डीजल पंप के लिये सिंगल विंडो से मिलेगी एनओसी

प्रमुख सचिव खाद्य श्री किदवई ने किया सॉफ्टवेयर का उद्घाटन


भोपाल। गोंडवाना समय।

प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्री फैज अहमद किदवई ने पेट्रोल एवं डीजल पंप खोलने के लिये सिंगल विंडो क्लीयरेंस सिस्टम सॉफ्टवेयर का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि पेट्रोल एवं डीजल पंप खोलने के लिये आवेदकों के लिये 8 विभागों से अलग-अलग एनओसी प्राप्त करना होती थी, जिसके कारण मेन्यूअली मिलने वाली इस अनुमति में आवेदकों को लंबा इंतजार करना पड़ता था।

आॅनलाइन मिलेगा क्लीयरेंस

श्री किदवई ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से दस्तावेजों के भौतिक सत्यापन की आवश्यकता नहीं होगी। इसके प्रत्येक चरण में संबंधित विभाग को समय-सीमा के बारे में एसएमएस और ई-मेल के द्वारा रिमाइंडर भेजे जा सकेंगे। आवेदन प्राप्त होने पर प्रत्येक विभाग पोर्टल में अपनी सहमति अपडेट करेगा। एक बार सभी विभागों की सहमति पोर्टल पर अपडेट होने के बाद कलेक्टर भी पोर्टल पर ही अपनी अंितम रिपोर्ट सहमति/असहमति के रूप में दर्ज कराएंगे। एनओसी की हस्ताक्षरित प्रति उसके पश्चात सिस्टम में अपलोड की जायेगी। उन्होंने बताया कि डिजीटल सिग्नेचर से एनओसी जारी करने के लिये सॉफ्टवेयर को अपडेट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी तक रिटेल आउटलेट/रूरल रिटेल आउटलेट खोलने के लिये तेल कंपनियाँ आवेदन के साथ 8 प्रतियों में दस्तावेज आवेदक से प्राप्त कर एनओसी के लिये कलेक्टर के पास जमा कराती हैं।

एप के उपयोग से अब अतिशीघ्र एनओसी दी जा सकेगी

कलेक्टर द्वारा 8 विभिन्न विभागों को पत्र भेजकर उनकी अनापत्ति प्राप्त होने के बाद कलेक्टर अपनी अंतिम रिपोर्ट तेल कंपनी को भेजा करते हैं। इसमें कईं बार विभाग प्रश्नों के साथ या अतिरिक्त दस्तावेज जमा कराने के लिये आवेदन वापस भी भेज दिया करते थे। मेन्यूअली होने वाली इस पूरी प्रक्रिया में 3 से 4 माह का समय लग जाता था। एप के उपयोग से अब अतिशीघ्र एनओसी दी जा सकेगी। इंडियम आॅयल के कार्यकारी निदेशक एवं राज्य प्रमुख श्री वी. सतीश कुमार ने डिजीटल प्लेटफार्म विकसित करने के लिये अपने सुझाव रखे। इस अवसर पर प्रबंध संचालक नागरिक आपूर्ति निगम श्री अभिजीत अग्रवाल, श्री पदम पांडे सीजीएम, श्री निर्मल कुमार जाना जीएमआईटी एवं श्री पीयूष मित्तल भी उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Translate