Tuesday, December 8, 2020

कृषि कानून के विरोध में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने रैली निकाल विरोध प्रदर्शन कर मंडला में सौंपा ज्ञापन

कृषि कानून के विरोध में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने रैली निकाल विरोध प्रदर्शन कर मंडला में सौंपा ज्ञापन 


मंडला। गोंडवाना समय। 

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी मंडला द्वारा केंद्र सरकार द्वारा पारित कराये कृष उपज व्यापार वाणिजय एवं सवंर्धन सरलीकरण विधेयक 2020 जिसका भारत देश के किसानों द्वारा विरोध किया जा रहा है एवं विधेयक को वापस व रद्द कराने की मांग की जा रही है उसके विरोध में गोंगपा जिला अध्यक्ष देवेन्द्र मरावी के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन करते हुये रैली निकालकर ज्ञापन सौंपा गया। 

गोंगपा ने की मांग तत्काल कृषि कानून को लिया जाये वापस 


मण्डला जिला अध्यक्ष देवेन्द्र मरावी ने जानकारी देते हुये बताया कि कृषक उपज व्यापार वाणिज्य संवर्धन एवं सरलीकरण विधेयक 2020 का देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन अनिश्तिकालीन हो रहा है। जिसमें कानून को वापस लेने व रद्द कराने की मांग की जा रही है। वहीं किसानों के द्वारा देश की राजधानी दिल्ली में आंदोलन किया जा रहा है। जिसे केंद्र सरकार द्वारा दबाने की कोशिश की जा रही है एवं किसानों में फूट डालने की कोशिश की जा रही है। वहीं किसानों के द्वारा समर्थन मूल्य एमएसपी तय किये जाने की मांग की जा रही है। जिससे कम कीमत पर कोई भी किसान का अनाज न खरीद सके। वहीं किसानों की मांग केंद्र सरकार द्वारा नहीं माने जाने पर किसान संगठन द्वारा भारत बंद का आहवान किया गया था। जिसका समर्थन गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय व प्रदेश अध्यक्ष द्वारा समर्थन करते हुये दिशा निर्देश दिये गये थे कि समस्त जिलों में भारत बंद का समर्थन गोंडवाना गणतंत्र पार्टी करें एवं तत्काल कृषि कानून को वापस लिया जाये। इसी के तहत मण्डला जिले में भी गोंडवाना गणतंत्र पार्टी द्वारा विरोध प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा गया। 

विरोध प्रदर्शन व ज्ञापन के दौरान ये रहे मौजूद 


किसान आंदोलन में भाग लेने वाले गोंडवाना गणतंत्र पार्टी जिला अध्यक्ष देवेंद्र मरावी, वकील खान, युवा मोर्चा अध्यक्ष हरेंद्र मसराम, युवा कार्यवाहक अध्यक्ष गुपफार कुरैशी, योगेंद्र चक्रवर्ती, सतवन ओलाढी, पंजु उइके, रमेश पंद्रो, गनेश परते, बृजेश धुव्रे, राकेश भवेदी, चंद्र किशोर मरावी, सेफुल खान, महेश कुरवेती, संजय मरकाम आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

No comments:

Post a Comment

Translate