Tuesday, December 8, 2020

उद्योगपतियों का, किसान विरोधी कानून, वापस लो-आम आदमी पार्टी

उद्योगपतियों का, किसान विरोधी कानून, वापस लो-आम आदमी पार्टी 


सिवनी। गोंडवाना समय।
 

कृषि बिल के विरोध में 8 दिसम्बर मंगलवार को दिल्ली में  आंदोलनरत किसानों द्वारा  भारत बंद के आह्वान पर आम आदमी पार्टी सिवनी के कार्यकतार्ओं ने छिंदवाड़ा चौक में जोरदार विरोध प्रदर्शन कर पैदल मार्च निकाल केंद्र की भाजपा मोदी सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए जिला कलेक्ट्रेट पहुँच कर प्रधानमंत्री के नाम जिला कलेक्टर के माध्यम से कृषि कानून वापस लेने के साथ उपज गारंटी कानून बनाने, स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू करने का ज्ञापन सौपा गया। 

किसानों को भाजपा के नेताओं के द्वारा किया जा रहा गुमराह 


आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष युवा अधिवक्ता दुर्गेश विश्वकर्मा ने कहां की पूरे देश के किसान आंदोलनरत है और आम आदमी पार्टी ने इस आंदोलन का समर्थन किया है ।आम आदमी पार्टी ने शुरू से ही इस बिल का विरोध करते आ रही है आप के सांसदों ने लोकसभा व  राज्यसभा में इस काले कानून का विरोध किया था जिसके लिए राज्यसभा सांसद संजय सिंह सहित अन्य 8 सांसदों  को 8 दिन के लिए राज्यसभा से निष्कासित भी किया गया था। किसानों के लिए केंद्र सरकार के द्वारा जो तीन काले कानून लाये गए है वो कापोर्रेट को लाभांश पहुँचाने  सोची समंझी रणनीति से  चोरी छुपे पिछले दरवाजे से कोरोंना जैसी महामारी के दौर में लाया गया है जो किसानों को कारपोरेट का गुलाम मजदूर बना देगा व किसानों की जमीन अपने आधीन कर लेगा। आखिर केंद्र सरकार को ऐसी क्या आवश्यकता पड़ गई कि किसानों ने  व किसान संगठनों ने तो कभी ऐसे कानून की कोई मांग तक नही की थी  और कानून का शुरू से विरोध ही करते आ  रहे है बाबजूद मोदी सरकार अपने हिटलर शाही रवैये से कड़कड़ाती ठंड में किसानों की पीड़ा को नजरअंदाज करते हुए  माँगों को नही सुन रही है। आम आदमी पार्टी हमेशा से किसानों के हित मे लड़ती रही है और लड़ते रहेगी किसानों के साथ अन्याय नही होने देगी उनको न्याय दिलवा कर रहेगी। किसानों को भाजपा के नेताओं के द्वारा गुमराह किया जा रहा है।

हाथ मे रस्सी की हथकड़ी व गले में रस्सी से फांसी का फंदा लगाकर सांकेतिक रूप से किया प्रदर्शन 


उपज के दाम आधे हो गए है व भाजपा के नेता झूठी बयानबाजी कर कहते है एमएसपी लागू है। शासन की किसान विरोधी  योजना के कारण किसानों को फाँसी में झूलने मजबूर होना पढ़ रहा है। इसीलिए आज आप के सभी पदाधिकारियों ने हाथ मे रस्सी की हथकड़ी व किसान नेता रघुवीर सिंह सनोडिया ने गले मे रस्सी से फाँसी का फंदा लगाकर सांकेतिक प्रदर्शन कर काले कानून को वापस लेने की बात कही। जिला मीडिया प्रभारी राजेश पटेल ने कहां बिल का विरोध करने पर सांसद सदस्यों को सदन से निष्कासित कर दिया गया केंद्र सरकार को चाहिए सँयुक्त संसदीय समिति बना कर तत्काल उक्त काले  कानून को वापस लिया जाना चाहिए जब तक यह कानून वापस नही होगा आम आदमी पार्टी संसद से सड़क तक इसका विरोध करती रहेगी। भाजपा की मोदी सरकार किसान हितैषी है तो किसानों के उपज की गारंटी कानून लागू करे। पैदल मार्च प्रदर्शन में मुख्य रूप से आप के जिला अध्यक्ष दुर्गेश विश्वकर्मा सहित रघुवीर सिंह सनोडिया, मो.रिजवान नरेंद्र कुंजाम, विनय पाठक, सुरेंद्र सनोडिया, रोहित जावरे, कोमल जावरे, टेकचंद सनोडिया, सदीप नागेश, विशाल सहित भारी संख्या में किसान हितैषी कार्यकर्ता उपस्थित रहे। वही पूरे मध्यप्रदेश में सहित जिले के बरघाट, अरी, छपारा, लखनादौन इकाई सहित आप के कार्यकतार्ओं ने  किसानों के भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शन किया है।

No comments:

Post a Comment

Translate