गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Friday, January 8, 2021

निष्ठा लगन और मेहनत से किया गया प्रयास जीवन को उन्नयन बनाता है-सुश्री पारूल शर्मा

निष्ठा लगन और मेहनत से किया गया प्रयास जीवन को उन्नयन बनाता है-सुश्री पारूल शर्मा 

शिक्षा ही जीवन में सफलता का मूलभूत आधार होता है




सिवनी। गोंडवाना समय।

शिक्षा ही जीवन में सफलता का मूलभूत आधार होता है। जहाँ निष्ठा लगन और मेहनत से किया गया प्रयास जीवन को उन्नयन बनाता है। जिसमें गुरु, माता-पिता और इष्टजनों का सानिध्य भी अहम होता है उक्ताशय उद्गार सुश्री पारुल शर्मा ने ऊनी वस्त्र वितरण कार्यक्रम में छात्राओं का मार्गदर्शन करते हुए शासकीय कन्या मठ शाला में व्यक्त किया।


कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि सुश्री पारुल शर्मा अनुविभागीय पुलिस अधिकारी, विशिष्ट अतिथि सामाजिक कार्यकर्ता श्री लक्ष्मी कश्यप, श्री शंकर माखिजा, श्री संजय शर्मा, श्री मनीष मिश्रा (मोनू) एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता स्कूल प्राचार्य श्री एम. के. सैय्याम व संजू जैन भी उपस्थित रहे वहीं कार्यक्रम का मंच संचालन अनीता भार्गव ने किया।

60 छात्राओं को ऊनी वस्त्र किया वितरण 


इस अवसर पर 60 छात्राओं को ऊनी वस्त्र वितरण किया गया। इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता श्री लक्ष्मी कश्यप ने जिला पुलिस प्रशासन द्बारा सिवनी पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक द्बारा निर्धन और जिनके माता-पिता नही है उनके जीवन हेतु बालिकाओं के प्रति जो प्रयास जीवन मे पुलिस प्रशासन द्बारा किए जा रहे, उसी क्रम मे विकलांग निर्धन बालिका सुषमा यादव जो 12 क्लास मे अध्यनरत है। जिनके पिता नही है माता जी द्बारा उस बेटी का पालन पोषण किया जा रहा उस हेतु जिला पुलिस प्रशासन से सुश्री पारुल शर्मा के माध्यम से विनय किया की उस बालिका हेतु जीवन के उन्नयन और शिक्षा के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करने का विनय किया। एक बालिका को समाजसेवी शंकर माखिजा ने 500 रुपए कि राशि प्रोत्साहन स्वरूप भेंट दी।

इस अवसर पर शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मठ मंदिर सिवनी के अश्वनी तिवारी, पी. टी. आई. संतोष नेमा, अनिल तिवारी, कपिल शर्मा, आर. पी. राय, आर सनोडिया, रश्मि गौर, भारती श्रीवास, राजेश्वरी मेश्राम, पालक शिक्षा संघ अध्यक्ष रंजना पण्ड्या, वर्षा सनोडिया, अनीता दीक्षित, टीकाराम बघेल रिटायर्ड हेडमास्टर, समशुन निशा खान, पूजा चौरसिया और समस्त स्कूल परिवार छात्राएं उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Translate